Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनाइटक्लब से निकलीं 22 लाशें, किसी पर चोट या घाव के निशान नहीं: टेबल-कुर्सियों...

नाइटक्लब से निकलीं 22 लाशें, किसी पर चोट या घाव के निशान नहीं: टेबल-कुर्सियों पर बिखरे पड़े थे शव, मरने वालों में 17 बच्चे

पूर्व केप शहर के पुलिस कमिश्नर नोमथेलेली मेने के मुताबिक, शुरुआती रिपोर्ट में कार्यक्रम वाली जगह पर भगदड़ भी मची थी।

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के ईस्ट लंदन शहर के एन्योबेनी टैवर्न में रविवार (26 जून 2022) को एक नाइट क्लब में ‘मास प्वॉइजनिंग’ (Mass Poisoning) की घटना हुआ हुई है। इस घटना में कम से कम 22 लोगों की मौत हो गई है। जहर से हुई मौत के बाद ‘टेबल और कुर्सियों पर शव बिखरे रहे’।

रिपोर्ट के मुताबिक, ये घटना सीनरी पार्क स्थित क्लब की बताई जा रही है। पुलिस का कहना है कि इस हादसे में जिन लोगों की मौत हुई उनमें से अधिकतर 18-20 साल की उम्र के युवा हैं। इस घटना को लेकर ब्रिगेडियर टेम्बिंकोसी किनाना का कहना है कि जिन परिस्थितियों में वे मारे गए हैं, इसकी जाँच कर रहे हैं। हम इस स्तर पर कोई कयास नहीं लगाना चाहते।

पूर्व केप शहर के पुलिस कमिश्नर नोमथेलेली मेने के मुताबिक, शुरुआती रिपोर्ट में कार्यक्रम वाली जगह पर भगदड़ भी मची थी। हालाँकि, मारे गए लोगों के शरीर पर किसी भी तरह के घाव या चोट के कोई भी निशान नहीं थे। कई रिपोर्ट्स ये दावे जरूर किए गए हैं कि घटना के बाद भगदड़ मच गई और इस चक्कर में कइयों की मौत हुई। पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया है कि मरने वालों में 17 बच्चे थे।

घटना के मरने वालों के परिजन रोते-बिलखते पुलिस अधिकारियों से अंदर जाने देने की मिन्नते करते रहे। उन्होंने अपने बच्चों के नाम लेकर उन्हें बुलाया, लेकिन कोई जिंदा था ही नहीं। मौके पर भारी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया है।

बताया जाता है कि एक या दो डीजे नाइटक्लब में बज रहे थे, जिससे आकर्षित होकर वहाँ बड़ी संख्या में युवाओं की भीड़ इकट्ठी हो गई थी।

22 साल पुराना जख्म ताजा हुआ

मार्च 2000 में भी ऐसी ही एक घटना हुई थी। उस दौरान दक्षिण अफ्रीका के चैट्सवर्थ में थ्रोब नाइट क्लब में एक आँसू गैस के कनस्तर में विस्फोट के कारण भगदड़ मच गई थी। इसके कारण 13 बच्चों की मौत हो गई थी। 100 से अधिक घायल हुए थे। इससे सबसे कम उम्र के मृतक की आयु 11 साल थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

आजादी के वक्त थे 3 मुस्लिम बहुल जिले, अब 9 हैं: बंगाल BJP प्रमुख ने कहा- असम और बंगाल में डेमोग्राफी बदलाव सोची-समझी रणनीति,...

बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने असम के सीएम हिमंता के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने डोमोग्राफी बदलाव की बात कही थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -