Monday, May 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'उसने हुसैन लिखा कागज़ फाड़ कर फेंका, हमने उसे जला दिया': हत्यारों ने कैमरे...

‘उसने हुसैन लिखा कागज़ फाड़ कर फेंका, हमने उसे जला दिया’: हत्यारों ने कैमरे के सामने कबूला – रसूल के नाम पर जान कुर्बान

"हमने अपने साथियों से कहा कि ये गलत हुआ है। हमने अपने मैनेजमेंट से बात की। हम सब मिल कर इकट्ठे हुए और उस पर तेल डाल कर जला दिया। जो भी ऐसा करेगा, हमारे रसूल के नाम पर तो जान भी कुर्बान है।"

पाकिस्तान में एक व्यक्ति को भीड़ ने ज़िंदा जला कर मार डाला, क्योंकि उस पर इस्लाम मजहब के अपमान का आरोप था। मृतक की पहचान श्रीलंका के प्रियंथा कुमारा के रूप में हुई है। इस मामले में पाकिस्तान की पुलिस ने फरहान और तलका नाम के दो युवकों को गिरफ्तार किया। हत्यारों ने ऑन कैमरा भी अपने अपराध को कबूल किया है। ट्विटर पर पत्रकार हामिद मीर ने वीडियो शेयर किया है, जिसमें हत्यारे कहते दिख रहे हैं कि मृतक ने हुसैन लिखा हुआ कागज़ फाड़ कर फेंक दिया।

हत्यारों ने कहा, “हमने अपने साथियों से कहा कि ये गलत हुआ है। हमने अपने मैनेजमेंट से बात की। हम सब मिल कर इकट्ठे हुए और उस पर तेल डाल कर जला दिया। जो भी ऐसा करेगा, हमारे रसूल के नाम पर तो जान भी कुर्बान है। हमारे हदीस में लिखा है कि जो भी नबियों की शान में गुस्ताखी करेगा, उसका सिर तन से जुदा कर दिया जाएगा।” एक अन्य ने कहा, “मोहम्मद कलाम नाम है मेरा। फरहान, मोहम्मद फरहान। पेपर पर हुसैन लिखा था। उसने लेकर फाड़ दिया। फाड़ कर डस्टबिन में डाल दिया।”

हत्यारों ने कैमरा के सामने कहा, “हुसैन लिखे कागज़ को फाड़ कर कूड़ेदान में फेंकना हमसे बर्दाश्त नहीं हुआ। हमने उससे बात की है। वो कह रहे कि गलती हुई है। हमने कहा कि मैनेजर से बात करें। जो भी इसने किया है, गलत किया है। वो कह रहे हैं कि हम बात करते हैं आगे। अभी भी बात होनी है तब तक हमें काम नहीं करना। कहते हैं कि ठीक है। फिर हमने लड़के लिए हैं। और भी साथ आया। फिर हमने न उसको यहाँ पर जला दिया।” वीडियो वायरल होने पर लोग इस कृत्य की निंदा कर रहे हैं।

श्रीलंका के युवा एवं खेल मामलों के मंत्री नमन राजपक्षे ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि पाकिस्तान में कट्टरवादी भीड़ द्वारा प्रियंथा दियवदना की क्रूर हत्या समझ से परे है। उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के उस बयान का स्वागत किया, जिसमें उन्होंने दोषियों को सज़ा दिला कर न्याय की बात की है। राजपक्षे ने कहा कि हमें ये याद रखना चाहिए कि ये किसी के साथ भी हो सकता है, खासकर तब जब ऐसी कट्टरपंथी ताकतों को खुला छोड़ा जाए।

बता दें कि नमन, श्रीलंका के प्रधानमंत्री और पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के बेटे हैं। श्रीलंकाई विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सुगीश्वर गुणर्था ने कहा कि पाकिस्तान सरकार को इस मामले में कार्रवाई करनी पड़ेगी। इसके बाद इमरान खान की सरकार ने दबाव में कार्रवाई शुरू की। पंजाब पुलिस की एक 10 सदस्यीय टीम को लगाया गया है, ताकि सभी आरोपितों की धर-पकड़ हो। 48 घंटे में पूरी रिपोर्ट आईजी को सौंपने को कहा गया है। CCTV फुटेज की मदद से सैकड़ों लोगों की पहचान हुई है।

याद दिलाते चलें कि सियालकोट में राजको इंडस्ट्रीज के GM, जो एक श्रीलंकाई थे, को फैक्ट्री के लोगों ने मार डाला और फिर जला डाला। GM ने कथित तौर पर पैगंबर (PBUH) के पोस्टर को फाड़ दिया और कूड़ेदान में फेंक दिया।” बता दें कि राजको कंपनी ने ही पाकिस्तान टी-20 वर्ल्ड कप टीम के लिए क्रिकेट जर्सी और गियर बनाया था। वीडियो में, गुस्साई भीड़ को ‘नारा ए तकबीर’ और ‘लब्बैक या रसूल अल्लाह’ के नारे लगाते हुए सुना जा सकता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत में 1300 आइलैंड्स, नए सिंगापुर बनाने की तरफ बढ़ रहा देश… NDTV से इंटरव्यू में बोले PM मोदी – जमीन से जुड़ कर...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आँकड़े गिनाते हुए जिक्र किया कि 2014 के पहले कुछ सौ स्टार्टअप्स थे, आज सवा लाख स्टार्टअप्स हैं, 100 यूनिकॉर्न्स हैं। उन्होंने PLFS के डेटा का जिक्र करते हुए कहा कि बेरोजगारी आधी हो गई है, 6-7 साल में 6 करोड़ नई नौकरियाँ सृजित हुई हैं।

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने ही अध्यक्ष के चेहरे पर पोती स्याही, लिख दिया ‘TMC का एजेंट’: अधीर रंजन चौधरी को फटकार लगाने के बाद...

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस का गठबंधन ममता बनर्जी के धुर विरोधी वामदलों से है। केरल में कॉन्ग्रेस पार्टी इन्हीं वामदलों के साथ लड़ रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -