Monday, April 15, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयश्रीलंका में राजपक्षे के ऑफिस में मिली करोड़ों की नकदी, उनका पैतृक आवास फूँका:...

श्रीलंका में राजपक्षे के ऑफिस में मिली करोड़ों की नकदी, उनका पैतृक आवास फूँका: राष्ट्रपति भवन में मस्ती करते और IMF का मजाक बनाते नजर आए लोग

हीं, हजारों प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति भवन में डटे हुए हैं। वे वहाँ प्रेसिडेंशियल सुइट का जमकर आनंद उठा रहे हैं। दर्जनों लोगों के स्वीमिंग पुल में तैरते हुए वीडियो सामने आया है। प्रदर्शनकारी पुल में अठखेलियाँ कर रहे हैं। वहीं, कुछ शॉवर में नहा रहे हैं।

श्रीलंका में आर्थिक संकट को लेकर लोगों में उपजे असंतोष के बाद राष्ट्रपति भवन पर प्रदर्शनकारियों के कब्जे के पास एक से एक हैरतअंगेज खुलासे हो रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि राष्ट्रपति भवन में रखी गोटबाया राजपक्षे की करोड़ों रुपए की नकदी प्रदर्शनकारियों के हाथ लगी है।

इसका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है राष्ट्रपति भवन पर कब्जा करने वाले प्रदर्शनकारियों में से एक नोटों की गड्डियाँ गिन रहा है। वहीं एक प्रदर्शनकारी नोटों का बंडल दिखा रहा है।

स्थानीय अखबार डेली मिरर के अनुसार, प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के बंगले से मिले करोड़ों रुपए को सुरक्षा बलों को सौंप दिया है। वहीं, सुरक्षा इकाइयों का कहना है कि प्राथमिक जाँच के बाद इसके बारे में उठाए गए कदमों की जानकारी देंगे।

वहीं, श्रीलंका के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल शैवेंद्र सिल्वा ने देश के सभी नागरिकों से शांति बनाए रखने और आर्मी, सशस्त्र बलों एवं पुलिस को अपना समर्थन देने का आग्रह किया। सिल्वा ने कहा कि इस संकट की घड़ी में देश में स्थापित करना पहली प्राथमिकता है।

उधर राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे और उनके बड़े भाई एवं देश के पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे का हंबनटोटा में स्थित पैतृक घर को सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने आग के हवाले कर दी। इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

इसके पहले प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के घर में प्रदर्शनकारियों ने तोड़फोड़ और आगजनी की थी। हालाँकि, प्रदर्शनकारियों द्वारा नेताओं के निजी घरों को आग लगाने पर चारों तरफ आलोचना की जा रही है।

प्रदर्शकारियों ने विक्रमसिंघे के घर में आग लगाने की घोषणा तब तक, जब वे प्रधानमंत्री पद छोड़ने की घोषणा सार्वजनिक तौर पर कर चुके थे और सर्वदलीय सरकार बनाने के लिए अपनी इच्छा के बारे में बता चुके थे।

विक्रमसिंघे की इस्तीफे की घोषणा के बाद पर्यटन एवं भूमि मंत्री हरिन फर्नांडो और श्रम एवं विदेश रोजगार मंत्री मानुषा नानायकारा ने भी तुरंत इस्तीफा दे दिया था। वहीं, निवेश संवर्धन मंत्री धम्मिका परेरा ने भी रविवार (10 जुलाई 2022) को अपने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

बता दें कि शुक्रवार (8 जुलाई 2022) को देश के कोने-कोने से रेलगाड़ियों और विभिन्न वाहनों में कोलंबो पहुँचे प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद राष्ट्रपति वहाँ से भाग गए। कहा जाता है कि वे नौसेना के जहाज में सवार हो कर कोलंबो से बाहर निकल गए हैं।

वहीं, हजारों प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति भवन में डटे हुए हैं। वे वहाँ प्रेसिडेंशियल सुइट का जमकर आनंद उठा रहे हैं। दर्जनों लोगों के स्वीमिंग पुल में तैरते हुए वीडियो सामने आया है। प्रदर्शनकारी पुल में अठखेलियाँ कर रहे हैं। वहीं, कुछ शॉवर में नहा रहे हैं।

राष्ट्रपति भवन में प्रदर्शनकारी पियानो बजाते भी नजर आए। राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे का चुनावी अभियान गीत ‘द हीरो दैट वर्क्स’ को प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति कार्यालय में बजाया और गाया। इस दौरान वे मस्ती करते नजर आए।

इतना ही नहीं, इस दौरान प्रदर्शनकारी अंतरराष्ट्रीय मुद्रा फंड का भी मजाक उड़ाते नजर आए।

इसके अलावा, कुछ प्रदर्शनकारियों को सोफे पर लेटे हुए तो कुछ विदेशी राष्ट्राध्यक्षों के बैठने वाली कुर्सी पर बैठे नजर आ रहे हैं। प्रदर्शनकारी लंबे संघर्ष के बाद अपनी थकान मिटाते तथा मस्ती के मूड में नजर आ रहे हैं।

उधर इंडियन ऑयल कंपनी की सहायक कंपनी लंका इंडियन ऑयल कंपनी (LIOC) ने कहा कि उसने आज 10 जुलाई 2022 से ईंधन वितरण फिर से शुरू कर दिया है। कंपनी ने कहा कि त्रिंकोमाली टर्मिनल 24 घंटे काम कर रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वित्त मंत्री रहते RBI पर दबाव बनाते थे P चिदंबरम, सरकार के लिए माहौल बनाने को कहते थे’: बैंक के पूर्व गवर्नर ने खोली...

आरबीआई के पूर्व गवर्नर पी सुब्बाराव का दावा है कि यूपीए सरकारों में वित्त मंत्री रहे प्रणब मुखर्जी और पी चिदंबरम रिजर्व बैंक पर दबाव डालते थे कि वो सरकार के पक्ष में माहौल बनाने वाले आँकड़ें जारी करे।

‘इलेक्टोरल बॉन्ड्स सफलता की कहानी, पता चलता है पैसे का हिसाब’: PM मोदी ने ANI को इंटरव्यू में कहा – हार का बहाना ढूँढने...

'एक राष्ट्र एक चुनाव' के प्रतिबद्धता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उन्होंने संसद में भी बोला है, हमने कमिटी भी बनाई हुई है, उसकी रिपोर्ट भी आई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe