Thursday, June 30, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजिस घटना को छिपाना चाहता था PMO, उसकी तस्वीर लेने वाले फोटोग्राफर का निधन:...

जिस घटना को छिपाना चाहता था PMO, उसकी तस्वीर लेने वाले फोटोग्राफर का निधन: श्रीलंका में राजीव गाँधी पर राइफल से हुआ था हमला

"राइफल से हमला करने का विचार मेरे दिमाग में तब आया जब राजीव गाँधी मुझसे लगभग दो या तीन फीट दूर थे।”

श्रीलंका के फोटो जर्नलिस्ट सेना विदानागमा (Sena Vidanagama) का बुधवार (8 जून 2022) को निधन हो गया। वह 76 वर्ष के थे। विदानगमा को 30 जुलाई, 1987 को श्रीलंका में गार्ड ऑफ ऑनर समारोह के दौरान पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गाँधी पर राइफल बट से हमला करने वाले एक पूर्व श्रीलंकाई नौसेना अधिकारी की तस्वीर लेने के लिए जाना जाता था

सेना विदानगमा द्वारा ली गई तस्वीर

सेना विदानगमा ने AFP फ्रेंच न्यूज सर्विस सहित कई वैश्विक समाचार एजेंसियों के लिए एक आधिकारिक फोटोग्राफर के रूप में काम किया। विदानगमा का जन्म 1945 में श्रीलंका के मतारा में हुआ था। उनकी तस्वीरें व्यापक रूप से स्थानीय और विदेशों में फैली हुई है।

30 जुलाई 1987 को क्या हुआ था?

30 जुलाई, 1987 को, भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गाँधी कोलंबो में राष्ट्रपति भवन में एक नौसेना कैडेट सभा में भाग ले रहे थे। इसी दौरान उन पर श्रीलंकाई सिंहल नौसेना के एक सैनिक ने राइफल की बट से हमला किया था। स्थिति बिगड़ने से पहले पीएम के गार्डों ने उन्हें बचा लिया और अपराधी को तुरंत पकड़ लिया।

हमलावर विजेमुनि विजेता, रोहाना डी सिल्वा, एक श्रीलंकाई नाविक थे, जो राजीव गाँधी द्वारा श्रीलंकाई ऑनर गार्ड को देखने के लिए मौजूद थे। लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (LTTE) को भारत द्वारा कथित रूप से समर्थन दिए जाने से रोहाना नाराज हो गए थे। इसका बदला लेने के लिए उन्होंने अपनी औपचारिक राइफल को भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गाँधी के कंधे के पीछे रख दिया। हालाँकि, पीएम रुक गए और स्ट्राइक की फोर्स से बच गए।

रोहाना पर अदालत में मुकदमा चला और उसे छह साल जेल की सजा सुनाई गई। राष्ट्रपति की क्षमा प्राप्त करने के ढाई साल बाद उन्हें रिहा कर दिया गया। बाद में डेली मिरर के साथ एक इंटरव्यू में, विजेमुनि ने अपना आक्रोश व्यक्त किया और बताया कि उन्होंने राजीव गाँधी पर हमला क्यों किया।

उन्होंने कहा, “मैं गार्ड ऑफ ऑनर का इंतजार कर रहा था, भारत और प्रधानमंत्री गाँधी ने हमारे देश के साथ जो किया उससे मैं बेचैन और गुस्से में था। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी क्योंकि समझौते पर पहले ही हस्ताक्षर हो चुके थे। इससे मुझे गुस्सा आ गया और मैंने सोचा कि मुझे अपने देश में हुई आपदा का बदला लेने के लिए कुछ करना चाहिए। मैं सोच रहा था कि भारत किस तरह लिट्टे को पैसे, हथियार और सैन्य प्रशिक्षण से मदद कर रहा है। राइफल से हमला करने का विचार मेरे दिमाग में तब आया जब राजीव गाँधी मुझसे लगभग दो या तीन फीट दूर थे।”

घटना की रिकॉर्डिंग

अनुभवी पत्रकार और ANI के अध्यक्ष प्रेम प्रकाश ने भी राजीव गाँधी पर हमले की रिकॉर्डिंग की थी। ANI की स्मिता प्रकाश ने इस घटना के बारे में ट्विटर पर करते हुए बताया कि प्रेम प्रकाश ने ही श्रीलंका से रिपोर्ट करते हुए घटना का वीडियो बनाया था। स्मिता के मुताबिक, पीएमओ इस घटना से इनकार करना चाहता था, लेकिन यह श्रीलंका में पहले ही सुर्खियाँ बटोर चुका था।

वीडियो क्लिप को उस समय श्रीलंका में भारतीय अधिकारियों ने लिया भी था। हालाँकि, जब प्रधानमंत्री ने कहने के बाद इसे प्रेम प्रकाश को वापस कर दिया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

उत्तराखंड में चलती कार में महिला और उसकी 5 साल की बच्ची से गैंगरेप, BKU (टिकैत गुट) के सुबोध काकरान और विक्की तोमर सहित...

उत्तराखंड के रुड़की में महिला और उसकी पाँच साल की बच्ची से गैंगरेप के आरोप में टिकैत गुट के नेता समेत पाँच गिरफ्तार कर लिए गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,188FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe