Friday, July 30, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारत के म्यूटेंट स्ट्रेन चीन में मिले, अस्पताल पहुॅंचे 11: चीन की सरकारी मीडिया...

भारत के म्यूटेंट स्ट्रेन चीन में मिले, अस्पताल पहुॅंचे 11: चीन की सरकारी मीडिया का दावा

WHO ने 27 अप्रैल को कहा था कि भारत में बढ़ते कोरोना वायरस मामलों के पीछे जिस Covid-19 वैरिएंट को कारण माना जा रहा है, वो एक दर्जन से ज्यादा देशों में पाया गया है।

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से पूरा भारत प्रभावित है। बीते नौ दिनों से हर रोज संक्रमितों की संख्या तीन लाख के पार जा रही है और तीन हजार से ज्यादा मौतें हुई हैं। जिस तरह मुसीबत के वक्त भारत ने पूरी दुनिया की मदद की थी, वैसे ही कई देश महामारी के इस संकट में भारत को मदद भेज रहे हैं। इनके बीच चीन की सरकारी मीडिया ने अपने देश में भारत में मिले कोविड19 म्यूटेंट के स्ट्रेन मिलने का दावा किया है

चीन की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने यह दावा चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के मुख्य महामारी विशेषज्ञ के हवाले से किया है। बताया है कि उन्होंने चीन के कुछ शहरों में भारतीय म्यूटेंट स्ट्रेंस मिलने की बात कही है। रिपोर्ट के अनुसार, पूर्वी चीन में एक बंदरगाह पर रुके मालवाहक जहाज पर 11 चीनी नागरिकों को कथित तौर पर भारत के Covid-19 वैरिएंट से संक्रमित पाया गया है। चीन का मानना है कि भारत से सामान आयात किए जाने दौरान ये सभी मामले सामने आए हैं।

चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने गुरुवार (29 अप्रैल 2021) को ये जानकारी दी। वहीं, हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक अधिकारियों ने इस बात की जानकारी साझा नहीं की कि क्या वे सभी भारत में वर्तमान में फैल रहे वैरिएंट से संक्रमित हैं या किसी दूसरे से।

बताया जा रहा है कि कथित तौर पर कोरोना पॉजिटिव पाए गए 10 लोगों और एक Covid-19 एसिंप्टोमेटिक व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि 10 अन्य लोग कार्गो शिप पर ही निगरानी में हैं। ताकि आयात से होने वाले इस संक्रमण को रोकने के चीन कड़े कदम उठाने जा रहा है।

सरकारी मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, इस साल के शुरू में जहाज हुयांग चाओयांग ने आंध्र प्रदेश के काकीनाडा में डॉक किया था। इसके अलावा बांग्लादेश के चटगाँव, सिंगापुर और चीन के जियामिन में भी रुका था। फिलहाल यह जोशुआन के शिपयार्ड में है।

मालूम हो कि चीन ने अपने बंदरगाहों पर कोरोना महामारी को लेकर नई नीति लागू की है। इसके अनुसार 3 महीने के भीतर भारत के बंदरगाहों से गुजरने वाले जहाजों को चीन के बंदरगाहों में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। नवंबर 2020 में चीन ने भारत को वुहान से फैले कोरोना वायरस के लिए मुख्य दोषी ठहराया था। चीनी विज्ञान अकादमी के शोधकर्ताओं ने दावा किया था कि 2019 की गर्मियों में यह महामारी भारत में पनपी थी।

बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंगलवार (27 अप्रैल 2021) को कहा था कि भारत में बढ़ते कोरोना वायरस मामलों के पीछे जिस Covid-19 वैरिएंट को कारण माना जा रहा है, वो एक दर्जन से ज्यादा देशों में पाया गया है। हालाँकि, इन देशों में चीन का नाम नहीं था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

रामायण की नेगेटिव कैरेक्टर से ममता बनर्जी की तुलना कंगना रनौत ने क्यों की? जावेद-शबाना-खान को भी लिया लपेटे में

“...बंगाल मॉडल एक उदाहरण है… इसमें कोई शक नहीं कि देश में खेला होबे।” - जावेद अख्तर और ममता बनर्जी की इसी मीटिंग के बाद कंगना रनौत ने...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe