Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसिंगापुर पर हमला करने वाला था 18 साल का मोहम्मद इरफान: काफिरों को छुरा...

सिंगापुर पर हमला करने वाला था 18 साल का मोहम्मद इरफान: काफिरों को छुरा घोंपने और आत्मघाती हमले का था प्लान, ISIS से है जुड़ा

बता दें कि पिछले दो वर्षों में सिंगापुर में हमलों की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया यह तीसरा कट्टरपंथी है। इसके पहले साल 2020 और साल 2021 में एक-एक आतंकियों को सुरक्षाबलों ने गिरफ्तार किया था। दोनों आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की योजना बना रहे थे।

सिंगापुर (Singapore) में सुरक्षाबलों ने क्रूर आतंकी समूह इस्लामिक स्टेट (ISIS) का समर्थन करने और हमलों को अंजाम देने की योजना बनाने का आरोप में एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है। हिरासत में लिए गए संदिग्ध की उम्र 18 साल है।

गिरफ्तार किए गए युवक का नाम मोहम्मद इरफ़ान दानयाल बिन मोहम्मद नोर है। मोहम्मद इरफ़ान दानयाल बिन मोहम्मद नोर देश में इस्लामिक खिलाफत स्थापित करना चाहता था। वह इसके लिए ISIS के समर्थन में सशस्त्र हिंसा की योजना बना रहा था।

गृह मंत्रालय ने बुधवार (1 फरवरी 2023) को कहा कि मोहम्मद इरफान छात्र है और वह ISIS के ऑनलाइन प्रोपगेंडा का लगातार इस्तेमाल करता था। इसके बाद वह कट्टरपंथी बन गया। अधिकारियों को जब विश्वास हो गया कि वह आतंकी समूह से जुड़ा हुआ है तो सुरक्षा खतरे को देखते हुए उसे दिसंबर 2022 में गिरफ्तार कर लिया गया था।

मंत्रालय ने कहा कि मोहम्मद इरफान अंधेरी गलियों में ‘काफिरों’ को छुरा घोंपकर मारने की योजना बनाई थी। इसके साथ ही उसने सैन्य अड्डे पर हमला करने और देश में बम ब्लास्ट करने के लिए वह आतंकियों की ऑनलाइन भर्ती का प्रयास कर रहा था। उसने एक कब्रिस्तान को उड़ाने के लिए बम भी बनाया था। कब्रिस्तान को वह गैर-इस्लामिक मानता था।

इतना ही नहीं, मोहम्मद इरफान ने पिछले साल अगस्त में राष्ट्रीय दिवस पर सिंगापुर के कोनी द्वीप पर अल-कायदा से प्रेरित होकर खुद के द्वारा बनाया गया एक झंडा लहराया था। वह उसे ISIS शासित प्रांत घोषित करना चाहता था। वह पर्याप्त धन जमा करने के बाद हिंसा करने के लिए विदेश यात्रा की भी योजना बना रहा था।

सिंगापुर के कानून और गृह मामलों के मंत्री के. शनमुगम (K. Shanmugam) ने कहा, “गिरफ्तारी के समय वह हिंसा करने के लिए प्रतिबद्ध नजर आ रहा था।” इरफान साल 2020 से इस्लामी चरमपंथियों का Youtube पर तकरीर सुना करता था।

बता दें कि पिछले दो वर्षों में सिंगापुर में हमलों की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया यह तीसरा कट्टरपंथी है। इसके पहले साल 2020 और साल 2021 में एक-एक आतंकियों को सुरक्षाबलों ने गिरफ्तार किया था। दोनों आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की योजना बना रहे थे।

साल 2020 में सिंगापुर के सुरक्षाबलों ने 16 साल के एक लड़के को गिरफ्तार किया था। वह न्यूजीलैंड (New Zealand) में मुस्लिम धर्म के मानने वाले लोगों के नरसंहार से प्रभावित होकर सिंगापुर में हमला करने की योजना बनाई थी। इसके बाद साल 2021 में 20 साल के एक मुस्लिम लड़के को गिरफ्तार किया गया था। वह यहूदियों को छुरा घोंपकर मारने की योजना बना रहा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -