Sunday, September 19, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइस्लामी आतंकी हमले में 59 नागरिकों सहित 80 की मौत: बुर्किना फासो के राष्ट्रपति...

इस्लामी आतंकी हमले में 59 नागरिकों सहित 80 की मौत: बुर्किना फासो के राष्ट्रपति ने घोषित किया 3 दिन का शोक

बुर्किना फासो के उत्तरी शहर गोरगडजी के पास इस्लामी आतंकियों ने एक काफिले पर घात लगाकर हमला कर दिया। इस हमले में 6 स्वयंसेवी रक्षा लड़ाकों, 15 सैनिकों के साथ 59 नागरिक मारे गए।

अफ्रीकी देश बुर्किना फासो में हुए आतंकी हमले में अब तक 59 नागरिकों के साथ 80 लोग अपनी जान गँवा चुके हैं। देश के राष्ट्रपति रोच मार्क काबोर ने तीन दिनों के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है।

The guardian की रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार ने गुरुवार (19 अगस्त) जानकारी दी कि उत्तरी शहर गोरगडजी (Gorgadji) के पास बुधवार को इस्लामी आतंकियों ने एक काफिले पर घात लगाकर हमला कर दिया। इस हमले में 6 स्वयंसेवी रक्षा लड़ाकों, 15 सैनिकों के साथ 59 नागरिक मारे गए थे। वहीं, बुधवार को शुरुआती मौत का आँकड़ा 47 बताया गया था।

बुर्किना फासो में हुए इस हमले की अभी तक किसी भी आतंकी समूह ने जिम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन अल-कायदा और आईएसआईएस जुड़े आतंकवादी पश्चिम अफ्रीकी देश में सुरक्षाबलों पर अक्सर हमले करते रहे हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सैनिक और स्वयंसेवी रक्षा लड़ाके उत्तरी बुर्किना के एक अन्य शहर अरबिंदा के लिए रवाना होने वाले नागरिकों की रखवाली कर रहे थे। तभी जिहादियों ने घात लगाकर उन पर हमला कर दिया। सरकार के मुताबिक, सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में 58 आतंकवादियों को मार गिराया और बाकी को विमान में डाल अपने साथ ले गए। उन्होंने बताया कि इस मुठभेड़ में 19 लोग घायल भी हुए हैं। बचाव और राहत कार्य जारी है।

गौरतलब है कि आतंकी हमलों की वजह से पूरे देश में अशांति का माहौल है। बिना आधुनिक हथियारों के यहाँ की सेना आतंकियों से लोहा ले रही है। जुलाई 2021 में यहाँ व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए, जिसके बाद सरकार पर दबाव बढ़ा। इसके चलते राष्ट्रपति रोच मार्क ने अपने रक्षा और सुरक्षा मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया। इसके बाद उन्होंने खुद को रक्षा मंत्री नियुक्त किया।

बता दें कि बुर्किना फासो एक ऐसा देश है, जहाँ कई आतंकी संगठन सक्रिय हैं। बुर्किना फासो के पड़ोसी देश माली और नाइजर हैं, जहाँ अक्सर आतंकी हमले होते रहते हैं। पश्चिम अफ्रीका के साहेल क्षेत्र में सबसे अधिक आतंकी हमले होते हैं। यह पिछले दो हफ्तों में बुर्किना के सैनिकों पर तीसरा बड़ा हमला था, जिसमें नाइजर सीमा के पास 4 अगस्त को एक हमला भी शामिल था। इस हमले में 11 नागरिकों सहित 30 लोग मारे गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,067FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe