Friday, April 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीययूक्रेन बचाने सड़क पर आए राष्ट्रपति जेलेंस्की, उंगली की जगह लिंग से 5 मिनट...

यूक्रेन बचाने सड़क पर आए राष्ट्रपति जेलेंस्की, उंगली की जगह लिंग से 5 मिनट तक पियानो बजाने वाला Video भी वायरल

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की का लिंग से पियानो बजाने वाला वीडियो अब वायरल। यह भी रिपोर्ट किया जा रहा है कि राष्ट्रपति जेलेंस्की बस एक मुखौटा हैं, यूक्रेन की असल सत्ता आयहोर कोलोमोस्काई के हाथ में है।

रूस द्वारा यूक्रेन पर हमला किए जाने के बाद यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने शुक्रवार (फरवरी 25, 2022) को अपनी नई वीडियो जारी की। इस वीडियो में कथित तौर पर राष्ट्रपति अपने साथियों के साथ कीव की सड़कों पर हैं। वीडियो में वलोडिमिर जेलेंस्की (Volodymyr Zelensky) कहते नजर आ रहे हैं कि वह अपनी स्वतंत्रता को बचाने के लिए यहाँ पर मौजूद हैं।

रिपोर्ट्स के अनुसार उन्होंने कहा, “हम सब यहाँ हैं। हमारी सेना यहाँ है। नागरिक यहाँ हैं। हम सब अपनी स्वतंत्रता, अपना देश बचाने के लिए यहाँ है और ऐसे ही बने रहेंगे।” वीडियो में उनके साथ यूक्रेन के प्रधानमंत्री, चीफ ऑफ स्टाफ और अन्य वरिष्ठ साथी भी नजर आए। 

मालूम हो कि इससे पहले खबर आई थी रूस के आक्रमण के बाद जेलेंस्की देश को छोड़ कर भाग गए हैं और अब ये उनकी नई दावे वाली वीडियो है, लेकिन इस वीडियो को कब रिकॉर्ड किया गया, ये टाइम अभी मीडिया रिपोर्ट में स्पष्ट नहीं बताया गया है।

उल्लेखनीय है कि एक ओर जहाँ यूक्रेन के हालात सुर्खियों में हैं, वहीं यूक्रेनी राष्ट्रपति भी अपनी नई पुरानी वीडियोज से चर्चा में हैं। हाल में उनकी एक वीडियो सामने आई है। इसमें वह हाथ ऊपर करके और पैंट नीचे करके पियानो बजाते और अजीब कॉमेडी करते नजर आ रहे हैं। उनकी इस वीडियो को देखकर लोगों का कहना है कि यही वजह है एक कॉमेडियन के हाथ में देश को नहीं सौंपा जाना चाहिए।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की का लिंग से पियानो (Volodymyr Zelensky piano with dick/penis) बजाने वाला वीडियो अब वायरल हो गया है। मीडिया में यह भी रिपोर्ट किया जा रहा है कि राष्ट्रपति जेलेंस्की बस एक मुखौटा हैं, यूक्रेन की असल सत्ता आयहोर कोलोमोस्काई (Ihor Kolomoyskyi) के हाथ में है।

जेलेंस्की का कॉमेडी करियर और राजनीतिक सफर

जानकारी के मुताबिक, 1995 में कीव नेशनल इकोनॉमिक यूनिवर्सिटी से कानून की डिग्री के साथ ग्रेजुएशन किया। इसके बावजूद जेलेंस्की ने अपना करियर कॉमेडी के क्षेत्र में बनाया। पढ़ाई के दौरान ही जेलेंस्की थिएटर को लेकर काफी आकर्षित हुए। वे 1997 में पर्फामेंस ग्रुप, क्वार्टल 95, KVN के फाइनल में नजर आए। राजनैतिक करियर की बात करें तो जेलेंसकी एक राजनेता के तौर पर 2018 में सामने आए।

इसके बाद उनकी एक राजनैतिक व्यंग्य सीरिज के कारण वह लोगों के बीच इतने पसंद किए गए कि उन्हें राजनेता बनने के डेढ़ वर्षों में ही राष्ट्रपति का पद सौंप दिया गया। बिन मेनस्ट्रीम मीडिया के यूक्रेन राष्ट्रपति बनने वाले जेलेंसकी हमेशा सोशल मीडिया और यूट्यूब पर फेमस रहे थे। लेकिन उनके राष्ट्रपति बनने के बाद यूक्रेन की संविधान में संशोधन कर देश को नाटो और यूरोपीय संघ का सदस्य बनाने की नीति का ऐलान किया गया था। इस बदलाव का नतीजा क्या हुआ ये आज विश्व के सामने है।

ये बात सच है कि 44 साल के हो चुके जेलेंस्की को राष्ट्रपति बनने से पहले अपने पूर्ववर्ती राष्ट्राध्यक्षों की तुलना में राजनीति का कोई अनुभव नहीं था। उनके कार्यकाल की शुरुआत से यूक्रेन और रूस के बीच तनाव लगातार बना रहा। इसके बावजूद वोलोडिमिर जेलेंस्की ने अपने देश को नाटो की पूर्ण सदस्यता दिलाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया। रूस का आरोप है कि यूक्रेन ने 1990 के समझौते का उल्लंघन कर खुद का सैन्यीकरण करने का फैसला किया है। पुतिन यूक्रेन के इस कदम को रूस के लिए प्रत्यक्ष खतरे के रूप में देखते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

भारत विरोधी और इस्लामी प्रोपगेंडा से भरी है पाकिस्तानी ‘पत्रकार’ की डॉक्यूमेंट्री… मोहम्मद जुबैर और कॉन्ग्रेसी इकोसिस्टम प्रचार में जुटा

फेसबुक पर शहजाद हमीद अहमद भारतीय क्रिकेट टीम को 'Pussy Cat) कहते हुए देखा जा चुका है, तो साल 2022 में ब्रिटेन के लीचेस्टर में हुए हिंदू विरोधी दंगों को ये इस्लामिक नजरिए से आगे बढ़ाते हुए भी दिख चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe