Sunday, September 26, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान के उकसावे का सैन्य जवाब देने से पीछे नहीं हटेगा मोदी का नया...

पाकिस्तान के उकसावे का सैन्य जवाब देने से पीछे नहीं हटेगा मोदी का नया भारत: अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत अपने पड़ोसियों के साथ सामान्य संबंध स्थापित करना चाहता है। लेकिन जब तक पाकिस्तान आतंक और हिंसा मुक्त वातावरण सुनिश्चित नहीं करता, तब तक भारत उससे किसी भी प्रकार का कोई मैत्री संबंध नहीं रखेगा।

अमेरिका में कॉन्ग्रेस को दी गई रिपोर्ट में अमेरिकी इंटेलिजेंस कम्युनिटी ने कहा है कि पाकिस्तान के द्वारा भारत विरोधी गतिविधियों के बाद उसे सैन्य स्तर पर जवाब देने की संभावना में वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पिछले समकक्षों से कहीं आगे हैं।

अमेरिकी कॉन्ग्रेस के समक्ष रखी गई वार्षिक संकट आकलन रिपोर्ट (Annual Threat Assessment Report) में राष्ट्रीय सुरक्षा के निदेशक कार्यालय (ODNI) ने भारत और पाकिस्तान के मध्य किसी भी प्रकार के युद्ध की संभावना से पूरी तरह इनकार किया है। लेकिन यह शंका व्यक्त की है कि दोनों देशों के बीच का संकट निकट भविष्य में और भी गहराता जाएगा।  

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत अपने पड़ोसियों के साथ सामान्य संबंध स्थापित करना चाहता है। लेकिन जब तक पाकिस्तान आतंक और हिंसा मुक्त वातावरण सुनिश्चित नहीं करता, तब तक भारत उससे किसी भी प्रकार का कोई मैत्री संबंध नहीं रखेगा।

ODNI की रिपोर्ट में यह बात विशेष रूप से कही गई है कि पाकिस्तान के प्रति सैन्य कार्रवाई करने में पिछले राष्ट्राध्यक्षों की तुलना में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत ज्यादा मुखर है। पाकिस्तान द्वारा भारत में कोई भी आतंकी हमला अथवा कश्मीर के अंदर अशान्ति की परिस्थितियाँ दो परमाणु हथियार संपन्न देशों के मध्य संभावित संघर्ष का कारण बन सकती हैं। अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के उन्मूलन और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बाँटने के बाद से ही दोनों देशों की राजधानियों में एक-दूसरे के हाई कमिश्नर नहीं हैं।

ODNI की रिपोर्ट की रिपोर्टर के अनुसार, अफगानिस्तान में लड़ाई के समय ईराक और सीरिया अमेरिकी सेना के प्रमुख चिंता का विषय थे। लेकिन परमाणु संपन्न भारत और पाकिस्तान के बीच संघर्ष की स्थिति पूरे विश्व के लिए अभी भी चिंता का विषय है। यह रिपोर्ट भविष्य की परिघटनाओं के निकटवर्ती और दूरगामी प्रभाव पर आधारित होती है। वाशिंगटन में जारी होने वाली यह रिपोर्ट नीति-निर्माताओं को विश्व भर में अमेरिकी सैन्य संयोजन के लिए सहायता करती है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PFI के 6 लोग… ₹28 लाख की वसूली… खाली कराना था 60 परिवार, कहाँ से आए 10000? – असम के दरांग में सिपाझार हिंसा...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने सिपाझार हिंसा के पीछे PFI के होने की बात कही। 6 लोगों ने अतिक्रमणकारियों से 28 लाख रुपए वसूले थे।

केरल: CPI(M) यूथ विंग कार्यकर्ता ने किया दलित बच्ची का यौन शोषण, वामपंथी नेताओं ने परिवार को गाँव से बहिष्कृत किया

केरल में DYFI कार्यकर्ता पर एक दलित बच्ची के यौन शोषण का आरोप लगा है। बच्ची की उम्र मात्र 9 वर्ष है। DYFI केरल की सत्ताधारी पार्टी CPI(M) का यूथ विंग है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,375FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe