Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीययोग दिवस पर इस्लामी कट्टरपंथियों का उपद्रव: मालदीव के स्टेडियम में घुसकर उखाड़े झंडे,...

योग दिवस पर इस्लामी कट्टरपंथियों का उपद्रव: मालदीव के स्टेडियम में घुसकर उखाड़े झंडे, भारत सरकार के आयोजन में शामिल लोगों को धमकियाँ

वीडियो में अराजक भीड़ को झंडे उखाड़ते और ध्यान में बैठे लोगों को स्टेडियम से खदेड़ते देखा जा सकता है।कुछ अन्य विजुअल्स में स्टेडियम में खाने पीने के सामान को उलट दिया गया है। टेबल सारी पलटी पड़ी हैं। पीछे से जोर-जोर शोर मचाया जा रहा है।

योग दिवस के मौके पर 21 जून को मालदीव के नेशनल फुटबॉल स्टेडियम में भारतीय सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अचानक इस्लामी भीड़ ने घुसकर उपद्रव किया। सामने आई वीडियो में देख सकते हैं कि कट्टरपंथियों की भीड़ शोर करते हुए स्टेडियम में घुसी और तोड़फोड़ करना शुरू कर दिया।

वीडियो में अराजक भीड़ को झंडे उखाड़ते और ध्यान में बैठे लोगों को स्टेडियम से खदेड़ते देखा जा सकता है। कुछ अन्य विजुअल्स में स्टेडियम में खाने पीने का सामान उलटा पड़ा दिख रहा है। टेबल सारी पलटी पड़ी हैं। पीछे से जोर-जोर शोर मचाया जा रहा है।

पूरी घटना गलोलूह स्टेडियम की है। मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने ट्विटर पर बताया है कि मालदीव पुलिस ने मामले की जाँच शुरू कर दी है। मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि जो कोई भी इस घटना के लिए जिम्मेदार होगा उसे सजा दी जाएगी।

संबंधी मीडिया रिपोर्ट में बताया गया कि योग कर रहे कुछ लोगों ने स्टेडियम में घुसी भीड़ पर धमकी देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भीड़ ने उनसे फौरन स्टेडियम खाली करने को कह दिया था। लेकिन बाद में पुलिस ने स्थिति को संभाला और आँसू गैस छोड़ कर स्थिति को कंट्रोल किया।

बता दें कि योग और ध्यान का ये कार्यक्रम स्टेडियम में 6: 30 बजे भारतीय सांस्कृति केंद्र द्वारा भारत के युवा, खेल और सामुदायिक विकास मंत्रालय के सहयोग से आयोजित किया गया था। कई लोगों ने इसमें भाग भी लिया था। लेकिन भीड़ के उपद्रव के वजह से इसे जारी नहीं रखा जा सका। इस इवेंट में कई राजनयिक, सरकारी अधिकारी और मालदीव के मंत्री भी थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -