Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाजअमेठी में लड़की के साथ रंगरेलियाँ मना रहा मौलाना गिरफ्तार, घर से मिली शक्तिवर्धक...

अमेठी में लड़की के साथ रंगरेलियाँ मना रहा मौलाना गिरफ्तार, घर से मिली शक्तिवर्धक दवाएँ: छत्तीसगढ़ में जादू-टोना करने वाले मौलवी पर FIR

उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ के दो अलग-अलग मामलों में एक मौलवी और मौलाना पर पुलिस ने FIR दर्ज की है। अमेठी में एक मस्जिद के मौलाना को तेज आवाज में म्यूजिक बजाकर एक महिला के साथ रंगरेलियाँ मनाते पकड़ा गया है। वहीं, दूसरे मामले में छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक दरगाह के मौलवी पर झाड़-फूँक के नाम पर अन्धविश्वास फैलाने के आरोप में केस दर्ज हुआ है। यहाँ से लड़कियों के क्रॉस लगे चित्र भी बरामद किए गए हैं।

उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ के दो अलग-अलग मामलों में एक मौलवी और मौलाना पर पुलिस ने FIR दर्ज की है। अमेठी में एक मस्जिद के मौलाना को तेज आवाज में अश्लील गाने बजाकर एक लड़की के साथ रंगरेलियाँ मनाते पकड़ा गया है। वहीं, दूसरे मामले में छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक दरगाह के मौलवी पर झाड़-फूँक के नाम पर अन्धविश्वास फैलाने के आरोप में केस दर्ज हुआ है। यहाँ से लड़कियों के क्रॉस लगे चित्र भी बरामद किए गए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पहला मामला अमेठी के जायस थाना क्षेत्र का है। यहाँ मोजमगंज गाँव की मस्जिद में लगभग 7 साल से एक मौलाना रहता था। वो अक्सर नकाब में रहता था। उसकी गतिविधियों को देखकर गाँव के लोग उस पर नजर रख रहे थे। बुधवार (21 फरवरी 2024) की रात में एक महिला उसकी झोपड़ी में जाते हुए दिखी तो नजर गड़ाए ग्रामीणों ने उसका पीछा किया।

जब लोग झोपड़ी में पहुँचे तो वहाँ मौलाना और महिला एक बिस्तर पर दोनों आपत्तिजनक हालात में मिले। मौलाना ने मामले को रफा-दफा करने की गुजारिश की, लेकिन ग्रामीण नहीं माने। ग्रामीणों का आरोप है कि मौलाना मस्जिद के बगल वाले छप्पर में गाँव की ही एक लड़की के साथ रंगरेलियाँ मनाता था।

इसके बाद ग्रामीणों को इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही गश्त करती पुलिस टीम मस्जिद के पास पहुँची और मौलाना को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान लगभग 18 वर्षीया लड़की के परिजनों को भी बुलाया गया और उन्हें उनकी बेटी सौंप दी गई। ग्रामीणों का आरोप है कि मौलाना अपनी शानो-शौकत पर लाखों रुपए खर्च करता था।

इतना ही नहीं, मौलाना शक्तिवर्धक दवाएँ खाता था और वह ब्रांडेड पानी मँगवा कर पीता था। वह बाहर से लड़कियाँ मँगवाता था और उनके संग रंगरेलियाँ मनाता था। वह साल में एक से अधिक बार जलसे आदि का आयोजन करता था, जिसमें लाखों रुपए लुटाए जाते थे। आरोपित मौलाना का नाम और सही पता गाँव वालों को भी नहीं पता है।

झाड़-फूँक के नाम पर अन्धविश्वास फैलाने वाले मौलवी पर FIR

एक अन्य मामले में छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में झाड़-फूँक के नाम पर समाज में अन्धविश्वास फैला रहे एक मौलवी पर पुलिस ने FIR दर्ज की है। आरोपित का नाम सादिक खान है। सादिक खान पर आरोप है कि उसने तोरवा थाना क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने एक घर को मज़हबी इबादतगाह के रूप में ढाल दिया था।

इसी जगह को वह चिल्ला मुबारकपुर दरगाह बताने लगा था। वह झाड़-फूँक के नाम पर लोगों की बड़ी-से-बड़ी बीमारियों को ठीक करने का दावा भी करता था। छत्तीसगढ़ के उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा ने गुरुवार (22 फरवरी 2024) को इस मामले में कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए थे।

बिलासपुर पुलिस ने बताया कि आरोपित मौलवी सादिक खान के खिलाफ टोनही अधिनियम के तहत FIR दर्ज हुई है। वह लोगों पर भूत-प्रेत का साया बताकर उन्हें गुमराह करता था। सादिक खान के ठिकानों से कई लड़कयों की फोटो भी बरामद हुई है, जिस पर क्रॉस लगा हुआ है।

नगर निगम की नोटिस मिलने के बाद फिलहाल घर में बने गुंबद को हटा दिया गया है। इसी जगह पर लगभग 65 ऐसे परिवार चिह्नित हुए हैं, जो अवैध रूप से प्रधानमंत्री योजना आवास से बने मकानों में अवैध तौर पर रह रहे थे। स्थानीय प्रशासन जाँच करके इस मामले में कार्रवाई में जुटा हुआ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -