Friday, March 1, 2024
Homeरिपोर्टमीडियावेंटिलेंटर पर कॉन्ग्रेस, TMC को ऑक्सीजन: ABP के चुनावी कवरेज पर भड़के यूजर्स, कहा-...

वेंटिलेंटर पर कॉन्ग्रेस, TMC को ऑक्सीजन: ABP के चुनावी कवरेज पर भड़के यूजर्स, कहा- पीक पर असंवेदनशीलता

“देश में ऑक्सीजन के लिए इस समय हाहाकार मचा हुआ है। तो अब ये सीटों की जो ऑक्सीजन है ये किसको मिली ये हम ग्राफिक्स के जरिए अपने दर्शकों को बता रहे हैं।”

आपने कई बार देखा होगा कि क्रिएटिव होने के चक्कर में न्यूज चैनल कुछ ऐसा कर देते हैं जिससे न केवल उनका मजाक बनता है, बल्कि संवेदनाएँ भी आहत होती हैं। कभी टाइम मशीन में बैठकर कवरेज होती है तो कभी लाइव टीवी पर एंकर ही रॉकेट में उड़ने लगता है।

सामान्य दिनों में ये सब मीडिया चैनलों पर दिखना बेहद आम है। लेकिन कोविड जैसे संवेदशील समय में यदि इस तरह के प्रयास किए जाएँ तो थू-थू के अलावा कुछ नहीं मिलेगी। एबीपी के साथ कुछ यही हुआ है।

कोविड की गंभीरता को देखते हुए जहाँ कुछ चैनलों ने चुनावी कवरेज तक पर रोक लगा दी। वहीं एबीपी थोड़ा हटके दिखने के चक्कर में हर नैतिकता भूल गया। इस समय एबीपी के चुनावी कवरेज की कुछ क्लिप्स सोशल मीडिया पर वायरल हैं।

मास्क लगाकर इसमें एंकर को देख सकते हैं कि वो रुझानों का विश्लेषण कर रही हैं। देखा जा सकता है कि कैसे चुनावों को ऑक्सीजन से जोड़कर बंगाल के रुझान बताए गए। क्लिप में एंकर कहती हैं, “देश में ऑक्सीजन के लिए इस समय हाहाकार मचा हुआ है। तो अब ये सीटों की जो ऑक्सीजन है ये किसको मिली ये हम ग्राफिक्स के जरिए अपने दर्शकों को बता रहे हैं।”

इसके बाद क्लिप में पीछे देख सकते हैं कि ऑक्सीजन टैंकर प्लेन से बाहर आता है और एंकर कहती हैं, “इस ऑक्सीजन टैंकर से बीजेपी को बिलकुल ऑक्सीजन नहीं मिली है। सीटों की जो बात हो रही है वो टीएमसी को 194 सीटें मिल रही हैं और कॉन्ग्रेस के हाथ 4 सीटें आई हैं। कॉन्ग्रेस को देख लग रहा है कि वो वेंटिलेटर पर है। उन्हें बिलकुल ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। सीटों की ऑक्सीजन में टीएमसी बाजी मारती दिखाई दे रही है।”

एबीपी न्यूज की इस क्लिप को मशहूर कॉमेडियन सलोनी गौर ने अपने ट्वीट पर शेयर किया है। उन्होंने एबीपी की कवरेज पर हताशा दिखाते हुए कहा कि असंवेदनशीलता यहाँ पीक पर है। स्वाति भासीन नाम की यूजर ने एबीपी की इस क्लिप को देख कहा कि इन लोगों को लगता है कि देश में ऑक्सीजन की कमी एक मजाक है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस की जीत के बाद कर्नाटक विधानसभा में लगे थे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, फॉरेंसिक जाँच से खुलासा: मीडिया में सूत्रों के हवाले से...

एक्सक्लूसिव मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि जो फॉरेंसिक रिपोर्ट राज्य सरकार को दी गई है उसमें कन्फर्म है कि पाकिस्तान जिंदाबाद कहा गया।

सिद्धार्थ के पेट में अन्न का नहीं था दाना, शरीर पर थे घाव ही घाव: केरल में छात्र की मौत के बाद SFI के...

सिद्धार्थ आत्महत्या केस में 6 आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद कॉलेज यूनियन अध्यक्ष के. अरुण और एसएफआई के कॉलेज ईकाई सचिव अमल इहसन ने आत्मसमर्पण कर दिया, जबकि एसएफआई से जुड़े आसिफ खान समेत 9 अन्य आरोपितों की तलाश पुलिस कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe