Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'मीडिया हमेशा PM मोदी को क्यों दिखाता है?': सवाल पूछने वाले अभिसार शर्मा ने...

‘मीडिया हमेशा PM मोदी को क्यों दिखाता है?’: सवाल पूछने वाले अभिसार शर्मा ने खुद के वीडियो में 13 में से 11 मिनट उन पर ही रखा फ़ोकस

अभिसार शर्मा इसी बात को आगे बढ़ाते हैं कि 'पूंजापतियों' के कारण ही टीवी और कम्प्यूटर की स्क्रीन पर अखिलेश यादव नहीं दिख रहे। फिर उन्होंने राहुल गाँधी का एक वीडियो चलाया।

वाराणसी में काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर का उद्घाटन करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर यूट्यूबर अभिसार शर्मा एक बार फिर से अपने ही कहे को धता बताने का शिकार हुए हैं। उनका पूछा है कि मीडिया क्यों हमेशा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ध्यान केंद्रित रखता है और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को नहीं दिखाता है? हालाँकि, ये अस्पष्ट है कि आखिर मीडिया को क्यों और कैसे सपा अध्यक्ष को ज्यादा दिखाना चाहिए और पीएम मोदी पर ध्यान केंद्रित नहीं रखना चाहिए।

अभिसार शर्मा का मानना है कि एक पूर्व मुख्यमंत्री मौजूदा प्रधानमंत्री से ज्यादा मीडिया की स्क्रीन पर रहना चाहिए। वो जवाब भी देते हैं कि क्यों अखिलेश यादव को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ज्यादा मीडिया कवरेज दिया जाना चाहिए। उनका कहना है कि हाल ही में जौनपुर में हुई समाजवादी पार्टी सुप्रीमो की रैली में बड़ी संख्या में लोग आए। साथ ही उन्होंने ये दावा भी कर डाला कि ये लोग रुपए-पैसे की लालच में नहीं, अखिलेश यादव के प्रति अपने ‘प्यार’ की वजह से आए। चलिए, ये भी ठीक है।

उन्होंने ये भी घोषित कर डाला कि सपा संस्थापक मुलायम सिंह के बेटे अखिलेश यादव के लिए लोगों का उत्साह अभूतपूर्व है। अगली घोषणा उन्होंने ये की कि 2012 में मुख्यमंत्री पद के दावेदार रहे अखिलेश यादव को उस चुनाव में लोगों का जो ‘प्यार और अटेंशन’ मिल रहा था, अभी भी वैसा ही मिल रहा है। उन्होंने फिर शिकायत की कि अखिलेश यादव को मीडिया क्यों नहीं दिखा रहा। इसके जवाब के लिए उन्होंने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के एक बयान का जिक्र किया।

बता दें कि उक्त वीडियो में केरल के वायनाड के सांसद ने कहा था कि मीडिया हमेशा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसीलिए ज्यादा दिखाता है, क्योंकि इसका नियंत्रण उनके दोस्तों, ‘पूंजापतियों’ के पास है। अभिसार शर्मा इसी बात को आगे बढ़ाते हैं कि ‘पूंजापतियों’ के कारण ही टीवी और कम्प्यूटर की स्क्रीन पर अखिलेश यादव नहीं दिख रहे। फिर उन्होंने राहुल गाँधी का एक वीडियो चलाया, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि पीएम मोदी का सारा ध्यान उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव पर है और वो संसद में उपस्थित नहीं हो रहे।

इसके बाद अभिसार शर्मा ने इस पर दुःख जताया कि कैसे उनके पिछले वीडियो का मजाक बनाया गया। उन्होंने दावा किया कि काल भैरव मंदिर में पीएम मोदी की पूजा के दौरान कैमरा वालों को अंदर आने दिया गया था। उन्होंने नदी में सूर्य को अर्घ्य देते प्रधानमंत्री की तस्वीर दिखाते हुए पूछा कि मीडिया उन्हें क्यों दिखा रहा, गंगा नदी को क्यों नहीं? उन्होंने फिर दावा किया कि औरंगजेब का जिक्र कर पीएम मोदी और सीएम योगी काशी-मथुरा की महिमा को कम कर रहे।

उन्होंने काशी-मथुरा जैसे शहरों में औरंगजेब के जिक्र को हिन्दू धर्म का अपमान करार दिया। तो क्या अदालत में किसी अपराधी के अपराध का वर्णन करना पीड़ित का अपमान है? 13 मिनट के इस वीडियो में अभिसार शर्मा ने अपना ध्यान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर 11 मिनट तक केंद्रित रखा। कोई अच्छा बोले का बुरा, मोदी पीएम हैं इसीलिए मीडिया का फोकस उन पर रहता है। उनके फैसलों की महत्ता होती है। सीएम से ऊपर है पीएम का पद, इसीलिए मीडिया का ध्यान उन पर रहता है। अखिलेश यादव या राहुल गाँधी कभी पीएम बनते हैं तो मीडिया उन पर भी फोकस रखेगा। यूट्यूबर्स उनके कुर्तों पर भी फोकस रखेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -