Thursday, May 30, 2024
Homeरिपोर्टमीडियासुप्रीम कोर्ट में 'हिन्दू आतंक' का हवाला दिए जाने से बौखलाए NDTV के पत्रकार...

सुप्रीम कोर्ट में ‘हिन्दू आतंक’ का हवाला दिए जाने से बौखलाए NDTV के पत्रकार ने केंद्र पर लगाया ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप

सुदर्शन न्यूज द्वारा सुप्रीम कोर्ट में ‘हिंदू आतंक’ पर NDTV शो का हवाला दिए जाने की वजह से श्रीनिवासन जैन भड़के हुए थे। एनडीटीवी के पत्रकार ने केंद्र पर हमला करते हुए ट्वीट किया कि सुदर्शन टीवी की रक्षा करने के लिए केंद्र सरकार ने सभी सीमाएँ पार कर दी।

NDTV ‘जर्नलिस्ट’ श्रीनिवासन जैन ने मंगलवार (सितंबर 22, 2020) को सुदर्शन न्यूज़ के खिलाफ केंद्र सरकार की ‘कथित’ निष्क्रियता पर अपना गुस्सा व्यक्त करने के लिए ट्विटर पर अपना पक्ष रखा। आतंकवादी हमले को ‘छोटा-मोटा’ हमला करार देने वाले पत्रकार ने केंद्र पर किसी भी कीमत पर ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप लगाया।

सुदर्शन न्यूज द्वारा सुप्रीम कोर्ट में ‘हिंदू आतंक’ पर NDTV शो का हवाला दिए जाने की वजह से श्रीनिवासन जैन भड़के हुए थे। एनडीटीवी के पत्रकार ने केंद्र पर हमला करते हुए ट्वीट किया कि सुदर्शन टीवी की रक्षा करने के लिए केंद्र सरकार ने सभी सीमाएँ पार कर दी।

उन्होंने लिखा, “सॉलिसिटर जनरल ने प्रेस फ्रीडम की खोज करते हुए किसने क्या किया तकनीक (जो हिंदू आतंक पर दिखाया गया है?) को फर्जी बताया कि कोर्ट पहले डिजिटल मीडिया को नियंत्रित करे।”

जैन ने आगे आरोप लगाया कि राजनीतिक दलों के लिए मीडिया में अपने लोगों का बचाव करना आम बात है। उन्होंने कहा कि सरकार निष्पक्षता और कानून के शासन के लिए कभी-कभार अपना बलिदान देती है, बशर्ते कि अपराध ‘बहुत शर्मनाक’ हो।

श्रीनिवासन जैन ने ट्वीट किया, “अपने लोगों’ की सुरक्षा के लिए सभी दल / सरकार अपने रास्ते से भटक गई है। लेकिन कभी-कभी निष्पक्षता और कानून के शासन के पालन के लिबास को बनाए रखने के लिए, आप कार्रवाई की अनुमति देते हैं, खासकर यदि अपराध बहुत ही बुरा हो।”

NDTV के पत्रकार आगे कहा कि केंद्र तो निष्पक्ष या कानून का पालन करने का नाटक भी नहीं करना चाहता है। उन्होंने आरोप लगाया कि आज की सरकार ‘अपने लोगों’ की रक्षा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगी, भले ही वह कानून के शासन को बर्बाद कर दे।

उन्होंने कपिल मिश्रा, सुदर्शन टीवी और एबीवीपी के कार्यकर्ताओं का नाम लिया, जिन्होंने कथित तौर पर जेएनयू पर हमला किया था, उन लोगों की सूची में जिनके अपराध ‘गंभीर’ थे। लेकिन इस शासन ने, बार-बार, ‘अपने लोगों’ की रक्षा के लिए पूरी जोर लगा दी, चाहे इससे कानून पर कितना भी बुरा प्रभाव क्यों न पड़े।

श्रीनिवासन जैन ने आतंकी हमला को बताया ‘छोटा-मोटा’

गौरतलब है कि NDTV पर अपने एक शो के दौरान, श्रीनिवासन जैन ने अपने मोदी विरोधी नैरेटिव को फैलाने के लिए एक आतंकवादी हमले को कम दिखाने कोशिश की थी। उन्होंने दावा किया था कि इशरत जहाँ जैसे आतंकवादियों को एक मुठभेड़ के दौरान गुजरात पुलिस ने गोली मार दी थी। पत्रकार का कहना था कि आतंकी गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री को मारने के लिए नहीं, बल्कि ‘छोटा-मोटा’ बम विस्फोट करने के लिए आए थे।

निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने NDTV के पत्रकार की खिंचाई की

हाल ही में एनडीटीवी पर निवेशक और व्यापारी राकेश झुनझुनवाला ने इंटरव्यू के दौरान ‘पत्रकार’ श्रीनिवासन जैन को नैतिक मीडिया रिपोर्टिंग का सबक सिखाया। राकेश झुनझुनवाला ने जोर देते हुए कहा, “मैं पीएम मोदी का प्रशंसक हूँ – यह एक जाना-माना तथ्य है। एक भारतीय के रूप में, मुझे अपने राजनीतिक विकल्पों पर अधिकार है, लेकिन, मैं आपको पूर्वाग्रह से ग्रसित पाता हूँ। मुझे लगता है कि NDTV सरकार के खिलाफ पूर्वाग्रह से ग्रसित है।” हालाँकि श्रीनिवासन ने अपने चैनल पर लगे आरोपों को खारिज करने का प्रयास किया, लेकिन उसका कोई मतलब नहीं था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कौन हैं पुणे के रईसजादे को बेल देने वाले एलएन दावड़े, अब मीडिया से रहे भाग: जिसने 2 को कुचल कर मार डाला उसे...

पुणे पोर्श कार के आरोपित को बेल देने वाले डॉक्टर एल एन दावड़े की एक वीडियो सामने आई है इसमें वो मीडिया से भाग रहे हैं।

120 संगठन, विपक्ष, आंदोलनजीवी और पालतू पत्रकार… चुनावी नतीजों से पहले देश को जलाने की प्लानिंग, मोदी जीते तो कोर्ट से चुनाव रद्द करवाने...

'केरोसिन तेल छिड़का जा चुका है, एक चिंगारी से पूरे देश में आग लग जाएगी' - राहुल गाँधी का ये 2 साल पुराना बयान याद कीजिए, और आज नीलू व्यास थॉमस को सुनिए। मतगणना के बाद हिंसा भड़काने की पूरी प्लानिंग तैयार है। शाहीन बाग़ और किसान आंदोलन शायद इसका ही एक्सपेरिमेंट था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -