Saturday, September 19, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया मोदी जीत गए तो क्या हुआ, उसके पंख कतर दिए जाएँगे: कॉन्ग्रेस ने स्वीकारी...

मोदी जीत गए तो क्या हुआ, उसके पंख कतर दिए जाएँगे: कॉन्ग्रेस ने स्वीकारी ‘Moral Victory’

हेराल्ड ने ख़ुद का सबसे ज्यादा मज़ाक तो बंगाल चुनाव का विश्लेषण करते हुए उड़वाया है। लेख का दावा है कि सारे संसाधन और सारी मेहनत झोंकने के बावजूद भाजपा यहाँ तृणमूल से पीछे नज़र आ रही है।

कॉन्ग्रेस ने शायद अब सार्वजनिक रूप से अपनी हार स्वीकार कर ली है। पार्टी के मुखपत्र ‘नेशनल हेराल्ड’ के एक लेख का विश्लेषण करें तो यही पता चलता है। हेराल्ड ने एक लेख लिखा है, जिसका शीर्षक ही यह बताने के लिए काफ़ी है कि कॉन्ग्रेस और उसके लोग लोकसभा चुनाव 2019 के विभिन्न एग्जिट पोल्स के जारी होने के बाद कितने सदमे में हैं। इस लेख का शीर्षक कहता है कि क्या हो जाएगा अगर मोदी जीत भी जाए, उसके पंख को कतर दिए जाएँगे। शीर्षक कहता है कि यह बात मोदी को भी पता है। कुल मिलाकर देखें तो कॉन्ग्रेस अब इसी बात से ख़ुश है कि मोदी-भाजपा की सीटें पिछली बार से कम होंगी (एग्जिट पोल्स के अनुसार)। लेख की शुरुआत ही होती है एग्जिट पोल्स जारी करने वाली एजेंसियों को गाली देने के साथ।

इस लेख में विभिन्न एजेंसियों द्वारा जारी किए गए एग्जिट पोल्स का विश्लेषण करते हुए उनकी सफलता प्रतिशत का जिक्र किया गया है। कहा गया है कि 2014 में बड़े राज्यों के चुनावों में ये अधिकतर बुरी तरह ग़लत साबित हुए थे। वैसे, ये कोई नई बात नहीं है क्योंकि एग्जिट पोल कोई फाइनल नतीजे नहीं होते और इसे मतदाताओं के सैम्पल के आधार पर जारी किया जाता है। अपने दावों की पुष्टि के लिए कॉन्ग्रेस के मुखपत्र ने पार्टी के ‘डाटा एनालिटिक्स विंग’ के प्रमुख का ट्वीट लगाया है। इसके बाद लेख में एग्जिट पोल पर बहस करने वाले एंकरों की तुलना कार्टून से की गई है।

इस लेख को आगे पढ़ते-पढ़ते पता चल जाता है कि लेखक रात भर सोया नहीं है। एजेंसियों को गाली देने से लेकर एंकरों का मज़ाक उड़ाने तक, सब कुछ एक ख़ास अवसाद से ग्रसित होकर लिखा गया लगता है। भाजपा के बड़े नेताओं के बॉडी लैंग्वेज की पड़ताल करने का दावा करते हुए हेराल्ड ने कहा है कि इससे साफ़-साफ़ दिख रहा है कि सब कुछ ठीक नहीं है। उदाहरण के लिए उसने प्रधानमंत्री और भाजपा अध्यक्ष द्वारा की गई प्रेस कॉन्फ्रेंस को लिया है। इसमें कहा गया है कि मोदी ने सारा लाइमलाइट भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को दे दिया। अव्वल तो यह कि अगर मोदी ख़ुद ही बोलते रहते और अमित शाह को बोलने का मौक़ा नहीं मिलता तो कॉन्ग्रेस के सभी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष मुखपत्र भाजपा में लोकतंत्र न होने का रोना रो रहे होते।

मोदी ने अमित शाह को क्यों बोलने दिया, उन्हें क्यों लाइमलाइट दिया, इस पर भी हेराल्ड को आपत्ति है। इसका कारण भी हेराल्ड ने काफ़ी अजीब सा गिनाया है। हेराल्ड के अनुसार, मोदी को कुछ ऐसा पता है जो मेन स्ट्रीम मीडिया को नहीं पता। लेख के अनुसार, मोदी को पता है कि उनकी छवि अब ख़राब होती जा रही है, इसीलिए उन्होंने अमित शाह को बोलने दिया। इससे आगे का कारण हँसी पैदा करने वाला है। लेख में कहा गया है कि मोदी को यह भी पता है कि राहुल गाँधी की छवि काफ़ी अच्छी होती जा रही है, उनका क़द बढ़ता जा रहा है, इसीलिए मोदी प्रेस कॉन्फ्रेंस में चुप रहे। इस कारण में लॉजिक ढूँढने का ज़िम्मा पाठकों पर छोड़ते हुए आगे बढ़ते हैं।

- विज्ञापन -

आगे हेराल्ड इस बात पर ताली पीटता है कि उन्हें शिवसेना और जदयू जैसे अस्त-व्यस्त गठबंधन दलों के साथ सरकार चलाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। हेराल्ड ने लिखा है कि जिन एग्जिट पोल करने वाली एजेंसियों को सबसे ज्यादा पैसे दिए गए, उन्होंने भी भाजपा को उम्मीद से कम सीटें दी हैं। हेराल्ड का सीधा मानना है कि जिस भी न्यूज़ चैनल या एजेंसी ने भाजपा को एग्जिट पोल में ज्यादा सीटें दी, उन्हें पैसे दिए गए थे। हेराल्ड इस बात पर ताली पीटने में ही व्यस्त है कि मोदी गठबंधन साथियों के साथ उतनी स्वतंत्रता से सरकार नहीं चला पाएँगे, जैसा उन्होंने पिछले पाँच वर्षों में किया था।

कॉन्ग्रेस यहाँ अपनी हार मानती नज़र आ रही है और इसी बात से ख़ुश है कि राजग को बहुमत मिला तो क्या हो गया, सरकार ठीक से थोड़ी न चल पाएगी, हेराल्ड को उम्मीद है कि गठबंधन साथी तो ज़रूर परेशान करेंगे। अर्थात, अब कॉन्ग्रेस अपनी हार से दुःखी नहीं है लेकिन मोदी को थोड़ी परेशानी तो होगी, इस उम्मीद में ख़ुश है। लेकिन, हेराल्ड ने ख़ुद का सबसे ज्यादा मज़ाक तो बंगाल चुनाव का विश्लेषण करते हुए उड़वाया है। लेख का दावा है कि सारे संसाधन और सारी मेहनत झोंकने के बावजूद भाजपा यहाँ तृणमूल से पीछे नज़र आ रही है। असल में जिन्हें भी राजनीति की जरा भी समझ है, उन्हें पता है कि बंगाल में अगर भाजपा को 10 सीटों के क़रीब भी मिलती है तो यह बड़ी सफलता है, एग्जिट पोल्स में तो 23 तक दिए गए हैं।

बंगाल में कभी बराबर की लड़ाई तो थी ही नहीं। यह वहाँ सत्ता पर काबिज ममता बनर्जी, उनकी पूरी सरकारी मशीनरी और गुंडागिरी में दक्ष पार्टी कार्यकर्ताओं से एक ऐसी पार्टी की लड़ाई थी, जिसका राज्य में अब से पहले कोई कैडर ही नहीं था। बावजूद इसके भाजपा के अच्छे प्रदर्शन को Downplay कर के दिखाने के चक्कर में नेशनल हेराल्ड अपनी राजनीतिक नासमझी का परिचय दे रहा है। कॉन्ग्रेस के मुखपत्र का यह भी दावा है कि दमदम, जौनपुर और आजमगढ़ की रैलियों में पीएम मोदी को जनता से ठंडी प्रतिक्रिया मिली। अगर दमदम में मोदी की रैली फ्लॉप रही तो तृणमूल के गुंडों ने रैली के तुरंत बाद वहाँ से भाजपा प्रत्याशी मुकुल रॉय पर हमला क्यों किया?

आजमगढ़ और जौनपुर के सपा और बसपा का गढ़ होने के बावजूद मोदी की रैली में यहाँ अच्छी-ख़ासी भीड़ जुटी और नेशनल हेराल्ड के दावे यहाँ भी झूठे साबित होते हैं। मोदी ने जनता के रुख को देखते हुए सातवें चरण के मतदान के दौरान केदारनाथ का दौरा किया, ऐसा नेशनल हेराल्ड का दावा है। इसके बाद इसने भी लिबरलों के उसी मुद्दे को उठाया, पीएम मोदी जब मंदिर में गए तो रेड कार्पेट क्यों बिछाया गया, कैमरे उनके साथ क्यों थे, वगैरह-वगैरह। इस बारे में हमने भी एक लेख प्रकाशित किया था, जिसमें इस बात पर चिंतन किया गया था किचश्मा पहन कर ध्यान लगाने को लेकर गिरोह विशेष के निशाने पर आए मोदी को अपनी आध्यात्मिक साधना कैसे करनी चाहिए और क्या-क्या पहनना चाहिए, वे वामपंथी भी अब इस पर चर्चा कर रहे हैं, जिन्हें सनातन हिन्दू परंपरा पर कोई विश्वास ही नहीं।

नेशनल हेराल्ड लेख का अंत होते-होते कॉन्ग्रेस की ‘मोरल जीत’ स्वीकार कर लेता है और भाजपा सरकार ठीक से तो चला नहीं पाएगी, इस उम्मीद में ख़ुश होने की झूठी कोशिश करता है। इसके बाद चुनाव आयोग की आलोचना का भी सिलसिला शुरू हो जाता है, जिसमें पूछा जाता है कि मोदी को केदारनाथ दौरे की अनुमति क्यों दी गई? नेशनल हेराल्ड की चले तो किसी व्यक्ति को अपनी व्यक्तिगत धार्मिक आस्था के लिए मंदिरों के दर्शन के भी लाले पड़ जाएँ। इस लेख का विश्लेषण इसीलिए ज़रूरी था, क्योंकि कॉन्ग्रेस ने अपनी नैतिक जीत स्वीकार करते हुए भाजपा के गठबंधनों से यह उम्मीद रखी है कि वो मोदी को सरकार चलाने के दौरान परेशान करें।

नेशनल हेराल्ड ने मोदी की जीत को ‘Pyrrhic Victory’ कहा है। इसका अर्थ हुआ कि ऐसी जीत, जो हार के बराबर हो (सम्राट अशोक के कलिंग विजय की तुलना इससे कर सकते हैं, इसका अर्थ हुआ कि ऐसी जीत जिसमें विजेता को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा हो)। नेशनल हेराल्ड को उम्मीद है कि मोदी जीत कर भी हार सकते हैं। ऐसे शब्दों के चयन के साथ ही नेशनल हेराल्ड ने जता दिया है कि आएगा तो मोदी ही।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

86 साल बाद निर्मली और भपटियाही का ‘मिलन’, पर आत्मनिर्भर बिहार कब बनेगा

आखिर आत्मनिर्भर बिहार कब बनेगा जहाँ के लोग रोजगार के लिए पलायन करने के बदले रोजगार देने वाले बनें?

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

किसानों का विकास, बाजार का विस्तार, बेहतर विकल्प: मोदी सरकार के तीन विधेयकों की क्या होंगी खासियतें

मोदी सरकार ने तीन नए विधेयक पेश किए हैं ताकि कृषि उत्पादन के लिए सरल व्यापार को बढ़ावा मिले और मौजूदा एपीएमसी सिस्टम से वह आजाद हों, जिससे उन्हें अपनी उपज बेचने के और ज्यादा विकल्प व अवसर मिलें।

व्यंग्य: आँखों पर लटके फासीवाद के दो अखरोट जो बॉलीवुड कभी टटोल लेता है, कभी देख तक नहीं पाता

कालांतर में पता चला कि प्रागैतिहासिक बार्टर सिस्टम के साथ-साथ 'पार्टनर स्वापिंग' जैसे अत्याधुनिक तकनीक वाले सखा-सहेलियों के भी बार्टर सिस्टम भी इन पार्टियों में हुआ करते थे।

रेपिस्ट अब्दुल या असलम को तांत्रिक या बाबा बताने वाले मीडिया गिरोहों के लिए जस्टिस चंद्रचूड़ का जरूरी सन्देश

सुदर्शन न्यूज़ के कार्यक्रम पर जस्टिस चंद्रचूड़ मीडिया को सख्त संदेश दिया है कि किसी एक समुदाय को निशाना नहीं बनाया जा सकता है। लेकिन समुदाय का नाम नहीं लिया गया।

प्रचलित ख़बरें

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन के बेटे का लव जिहाद: 10वीं की हिंदू लड़की से रेप, फँसा कर निकाह, गर्भपात… फिर छोड़ दिया

अजीजुद्दीन छत्तीसगढ़ के दुर्ग से कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन कुरैशी का बेटा है। लव जिहाद की इस घटना के मामले में मीडिया के सवालों से...

जया बच्चन का कुत्ता टॉमी, देश के आम लोगों का कुत्ता कुत्ता: बॉलीवुड सितारों की कहानी

जया बच्चन जी के घर में आइना भी होगा। कभी सजते-संवरते उसमें अपनी आँखों से आँखे मिला कर देखिएगा। हो सकता है कुछ शर्म बाकी हो तो वो आँखों में...

NCB ने करण जौहर द्वारा होस्ट की गई पार्टी की शुरू की जाँच- दीपिका, मलाइका, वरुण समेत कई बड़े चेहरे शक के घेरे में:...

ब्यूरो द्वारा इस बात की जाँच की जाएगी कि वीडियो असली है या फिर इसे डॉक्टरेड किया गया है। यदि वीडियो वास्तविक पाया जाता है, तो जाँच आगे बढ़ने की संभावना है।

थालियाँ सजाते हैं यह अपने बच्चों के लिए, हम जैसों को फेंके जाते हैं सिर्फ़ टुकड़े: रणवीर शौरी का जया को जवाब और कंगना...

रणवीर शौरी ने भी इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कंगना को समर्थन देते हुए कहा है कि उनके जैसे कलाकार अपना टिफिन खुद पैक करके काम पर जाते हैं।

3 नाबालिग सगी बेटियों में से 1 का 5 साल से रेप, 2 का यौन शोषण कर रहा था मोहम्मद मोफिज

मोफिज ने बीवी को स्टेशन पर ढकेल दिया, क्योंकि उसने बेटी से रेप का विरोध किया। तीनों बेटियाँ नाबालिग हैं, हमारे पास वीडियो कॉल्स और सारे साक्ष्य हैं। बेगूसराय पुलिस इस पर कार्रवाई कर रही है।

‘एक बार दिखा दे बस’: वीडियो कॉल पर अपनी बेटियों से प्राइवेट पार्ट दिखाने को बोलता था मोहम्मद मोहफिज, आज भेजा गया जेल

आरोपित की बेटी का कहना है कि उनका घर में सोना भी दूभर हो गया था। उनका पिता कभी भी उनके कपड़ों में हाथ डाल देता था और शारीरिक संबंध स्थापित करने की कोशिश करता था।

86 साल बाद निर्मली और भपटियाही का ‘मिलन’, पर आत्मनिर्भर बिहार कब बनेगा

आखिर आत्मनिर्भर बिहार कब बनेगा जहाँ के लोग रोजगार के लिए पलायन करने के बदले रोजगार देने वाले बनें?

नेहरू-गाँधी परिवार पर उठाया था सवाल: सदन में विपक्ष के हो-हल्ले के बाद अनुराग ठाकुर ने माँगी माफी, जाने क्या है मामला

"PM Cares एक पंजीकृत चैरिटेबल ट्रस्ट है। मैं साबित करने के लिए विपक्ष को चुनौती देना चाहता हूँ। यह ट्रस्ट इस देश के 138 करोड़ लोगों के लिए है।"

अलीगढ़ में दिन दहाड़े बंदूक की नोक पर 35 लाख के जेवर लूटने वाले तीनों आरोपितों को यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

कुछ दिन पहले इंटरनेट पर चोरी का वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें ये तीन लुटेरे बंदूक की नोक पर अलीगढ़ में एक आभूषण की दुकान को लूट रहे थे।

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

MP: कॉन्ग्रेस ने गाय को किया चुनाव के लिए इस्तेमाल, शरीर पर पंजे के निशान के साथ लिखा उम्मीदवार का नाम

इंदौर की सांवेर विधानसभा सीट पर उपचुनाव है। उसी चुनाव में लोगों को उम्मीदवार की ओर आकर्षित करने के लिए यह वाहियात कार्य किया गया है।

महाराष्ट्र सरकार के पास कर्मचारियों को सैलरी देने के पैसे नहीं, लेकिन पीआर के लिए खर्च कर रही ₹5.5 करोड़

शिवसेना की अगुवाई वाली महाविकास आघाड़ी समिति के प्रशासन विभाग ने मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र सरकार के पीआर के प्रबंधन के आवेदन करने के लिए निजी विज्ञापन एजेंसियों को आमंत्रित करते हुए एक ई-टेंडर जारी किया है।

‘एक बार दिखा दे बस’: वीडियो कॉल पर अपनी बेटियों से प्राइवेट पार्ट दिखाने को बोलता था मोहम्मद मोहफिज, आज भेजा गया जेल

आरोपित की बेटी का कहना है कि उनका घर में सोना भी दूभर हो गया था। उनका पिता कभी भी उनके कपड़ों में हाथ डाल देता था और शारीरिक संबंध स्थापित करने की कोशिश करता था।

अमेरिका में भी चीनी ऐप्स TikTok और वीचैट पर रविवार से बैन: राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी बताई गई वजह

अमेरिकी सरकार ने भी इन एप्स को बैन करने के पीछे राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी को कारण बताया है। कोरोना वायरस, चीन की चालबाजी, टैक्नोलॉजी पर बढ़ते तनाव और अमेरिकी निवेशकों के लिए वीडियो ऐप TikTok की बिक्री के बीच यह फैसला सामने आया है।

1995 के अमूल विज्ञापन पर चित्रित उर्मिला पर बौखलाए लिबरल्स: रंगीला के प्रमोशन को जोड़ा कंगना की टिप्पणी से

25 साल पहले बनाया गया यह विज्ञापन अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर की फिल्म 'रंगीला' में उनके प्रदर्शन को देखते हुए बनाया गया था।

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

हमसे जुड़ें

260,559FansLike
77,913FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements