Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाकोरोना से सिंगापुर में एक भी मौत नहीं: शेखर गुप्ता की 'द प्रिंट' ने...

कोरोना से सिंगापुर में एक भी मौत नहीं: शेखर गुप्ता की ‘द प्रिंट’ ने शेयर किया पुराना डेटा, लगी लताड़

'द प्रिंट' ने 18 मार्च को एक लेख लिखा और फिर से 24 मार्च को इसे रीपब्लिश किया। शायद उसे पता नहीं था कि इस बीच सिंगापुर में कोरोना वायरस के कारण 2 लोगों की जान जा चुकी है। यहाँ तक कि इसके संस्थापक और 'एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया' के अध्यक्ष शेखर गुप्ता ने भी ट्विटर पर इस ख़बर को शेयर करते हुए दावा किया कि सिंगापुर में कोरोना के 266 मामले सामने आए हैं लेकिन एक भी मृत्यु नहीं हुई है।

पीएम मोदी की बुराई के चक्कर में वामपंथी किसी भी हद तक जा सकते हैं। शेखर गुप्ता की ‘द प्रिंट’ ने दावा किया है कि सिंगापुर में कोरोना वायरस के कारण एक भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई है। ‘द प्रिंट’ ने 18 मार्च को एक लेख लिखा और फिर से 24 मार्च को इसे रीपब्लिश किया। शायद उसे पता नहीं था कि इस बीच सिंगापुर में कोरोना वायरस के कारण 2 लोगों की जान जा चुकी है। यहाँ तक कि इसके संस्थापक और ‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया’ के अध्यक्ष शेखर गुप्ता ने भी ट्विटर पर इस ख़बर को शेयर करते हुए दावा किया कि सिंगापुर में कोरोना के 266 मामले सामने आए हैं लेकिन एक भी मृत्यु नहीं हुई है।

साथ ही उन्होंने ये भी दावा किया कि वहाँ पर ‘इन्फेक्शन रेट’ बाकी दुनिया से एकदम अलग है। साथ ही उन्होंने लिखा कि ये सब बिना लॉकडाउन के ही संभव हुआ। हालाँकि, आज ही ख़बर आई है कि सिंगापुर के दो इंटरनेशनल स्कूलों के बच्चों के 6 पेरेंट्स कोरोना वायरस के शिकार हो गए हैं। वहाँ के अधिकतर स्कूल ‘रिमोट लर्निंग’ पर काम कर रहे हैं ताकि बच्चों को स्कूल न जाना पड़े। कोरोना वायरस से दुनिया भर में दहशत फ़ैल रहा है।

कोरोना को लेकर शेखर गुप्ता का ग़लत डेटा

भारत के विभिन्न राज्यों में कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन की घोषणा की गई है। कई जगहों पर कर्फ्यू भी लगा हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज दूसरी बार राष्ट्र को सम्बोधित किया हैं। वहीं कई लोगों ने ‘द प्रिंट’ को उसकी हरकत के लिए लताड़ लगाई। लोगों ने कहा कि मोदी विरोधी मीडिया हमेशा भाजपा के विरोध के चक्कर में फेक न्यूज़ को भी शेयर करने से नहीं हिंचकता।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe