Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टमीडियामुस्लिम मिरर के खिलाफ FIR, क्राइम ब्रांच अधिकारियों को बताया था 'BJP-RSS के हथियार...

मुस्लिम मिरर के खिलाफ FIR, क्राइम ब्रांच अधिकारियों को बताया था ‘BJP-RSS के हथियार वाले कार्यकर्ता’

शाहपुर में लॉकडाउन का नियम पालन कराने पहुँची पुलिस पर हुई पत्थरबाजी वाली घटना का वीडियो शेयर करते हुए पुलिस अधिकारियों को भाजपा और आरएसएस का ऐसा कार्यकर्ता बताया गया, जो हथियार लेकर चलते हैं। मुस्लिम मिरर के संपादक सैयद जुबेर अहमद ने...

अहमदाबाद पुलिस ने हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच नफरत फैलाने के आरोप में मुस्लिम मिरर (Muslim mirror) वेबसाइट के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की है। पोर्टल पर आरोप है कि उसने अपने ट्विटर अकॉउंट से शाहपुर में हुई पत्थरबाजी वाली वीडियो शेयर करके सांप्रदायिकता फैलाने का प्रयास किया। साथ ही वीडियो शेयर करते हुए क्राइम ब्रांच के अधिकारी और डी-स्टाफ के अधिकारियों को BJP और RSS का हथियार वाला कार्यकर्ता बताया था।

इस खबर की जानकारी स्वराज्य के इंटर्न हर्षिल मेहता ने अपने ट्विटर पर दी है। हर्षिल ने मामले से अवगत कराते हुए एफआईआर के स्क्रीनशॉट अपने ट्विटर पर शेयर किए हैं। साथ ही मुस्लिम मिरर के उस ट्वीट का स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है, जिसके आधार पर अहमदाबाद पुलिस ने मुस्लिम मिरर पर कार्रवाई की और उनके ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 153, 505 (1)ब के तहत FIR दर्ज की।

जानकारी के लिए बता दें कि ये पूरा मामला 8 मई को शाहपुर में लॉकडाउन का नियम पालन कराने पहुँची पुलिस पर हुई पत्थरबाजी से संबंधित है। दरअसल, इस मामले के मद्देनजर, पुलिस ने कुछ पत्थरबाजों को गिरफ्तार किया था। साथ ही साइबर क्राइम को सोशल मीडिया पर झूठी जानकारी फैलाने वालों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए थे।

इन्हीं निर्देशों का पालन करते हुए साइबर पुलिस को मुस्लिम मिरर के इस ट्वीट के बारे में पता चला और फिर आगे उपयुक्त कार्रवाई हुई।

पुलिस के अनुसार, शाहपुर में घटी घटना को मुस्लिम मिरर के ट्विटर हैंडल पर न केवल ट्विस्ट करके अपलोड किया गया, बल्कि वीडियो को शेयर करते हुए पुलिस अधिकारियों को भाजपा और आरएसएस का ऐसा कार्यकर्ता बताया गया, जो हथियार लेकर चलते हैं।

अहमदाबाद मिरर की रिपोर्ट के अनुसार, साइबर क्राइम के पीआई एसडी कलाट ने कहा, “हम फिलहाल ट्वीट और ट्विटर अकॉउंट से संबंधी बाकी डिटेल्स निकाल रहे हैं और आगे की पड़ताल भी जारी है।”

मुस्लिम मिरर पर एफआईआर होने के बाद मुस्लिम मिरर के संपादक सैयद जुबेर अहमद ने अपने ऊपर लगे सभी इल्जामों को खारिज किया है। उनका कहना है कि वो अपने ट्वीट पर अडिग हैं और उन्हें वीडियो व्हॉट्सएप के जरिए मिली थी। उनके अनुसार उन्होंने अहमदाबाद के अपने सूत्रों से इसे सत्यापित करने के बाद ही ट्विटर हैंडल पर अपलोड किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,573FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe