Wednesday, November 30, 2022
Homeरिपोर्टमीडिया'शिर्क कर रही हो, भाँ$, झुक कर मोदी से टॉनिक लेती हो': भूमि को...

‘शिर्क कर रही हो, भाँ$, झुक कर मोदी से टॉनिक लेती हो’: भूमि को रुबिका लियाकत ने किया प्रणाम, भड़के कट्टरपंथी

इरफ़ान अंसारी ने लिखा, "चाटुकारिता के लिए भी इतनी तैयारी करनी पड़ती है?" नौशाद शाह ने लिखा, "सच में एहसास आप ही महसूस कर सकती हो क्योंकि हमने कभी किसी की दलाल-गिरी नहीं की तो हम कैसे एहसास महसूस कर सकते है।" एक अन्य मुस्लिम यूजर ने लिखा, "सारे अमल शिर्कीया हैं तुम्हारे। क्या मुस्लिम सिर्फ तुम्हारा नाम ही है?"

ABP न्यूज़ की एंकर रुबिया लियाकत पिछले कुछ दिनों से कैमरे से दूर थीं। स्वास्थ्य कारणों से वो अपना शो नहीं कर रही थीं। इससे बेचैन प्रशंसकों ने भी उनकी अनुपस्थिति को लेकर चिंता जाहिर की थी। हालाँकि, सोमवार (1 नवंबर, 2021) को रुबिका लियाकत ने न्यूज़ स्टूडियो में वापसी की। जहाँ उनके प्रशंसक उन्हें शुभकामनाएँ दे रहे थे और उससे पहले उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना कर रहे थे, वहीं कट्टरपंथियों का एक वर्ग ऐसा भी था जो अपनी हदें पार कर रहा था।

रुबिका लियाकत जब ABP न्यूज़ के दफ्तर में वापस लौटीं तो टीम ने इस पल को कैमरे में कैद किया। टीम को धन्यवाद देते हुए रुबिया लियाकत ने इस वीडियो को ट्विटर पर शेयर किया। वीडियो में देखा जा सकता है कि स्टूडियो के स्टेज पर चढ़ने से पहले वो नीची झुक कर भूमि को प्रणाम करती हैं। दरवाजे पर भी उन्होंने जमीन को छू कर प्रणाम किया। उससे पहले वो हाथ जोड़ कर प्रणाम की मुद्रा में नमस्ते करते दिखीं। इसे उन्होंने एक ‘सुंदर अनुभव’ बताते हुए अपना शो शुरू किया।

लेकिन, इस दौरान कुछ लोगों ने उनके खिलाफ भद्दे कमेंट्स करने शुरू कर दिए। खुद को सामाजिक कार्यकर्ता बताने वाले अमन खान अलहिन्द ने लिखा, “दलाल रूह से बिका। भाई क्या त्रिपुरा भारत देश में नहीं है? क्या तुम्हारा न्यूज चैनल वहाँ के मुस्लिम लोगों पर हो रहे जुल्म को नहीं दिखा सकता? क्या तुम एक एंकर हो या दलाल? मै तुम भाँ$ मीडिया को दलाल ही मानता हूँ। किस जगह तुम लोग वहाँ के लोगों का दर्द दिखाए हो?” इसी तरह मोहम्मद रफीक ने पूछा कि इस्लाम की अच्छी जानकर होने के बावजूद वो शिर्क (मूर्तिपूजा या बहुदेववाद) क्यों कर रही हैं?

मुस्लिमों ने रुबिका लियाकत को दी ‘शिर्क’ न करने की सलाह

इस पर एक अन्य व्यक्ति नौशाद शाह ने जवाब दिया, “भाई धर्म के अच्छे जानकार नही पार्टी के दलाल अच्छे है।” कबीर युसूफ जई नाम के यूजर ने लिखा, “बहुत कमजोर ईमान है आपका तो। हर चीज चूम रही हो। ये चीजें ईमान की कमी है रुबिका जी।”

वहीं आजम खान नाम के यूजर ने लिखा, “इसके लिए पैसा ही सब कुछ है। इस्लाम से इसे कोई लेना-देना नहीं।”

‘खान साहब’ नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा, “मैडम रुबिका, आप नोटों के टुकड़ों की खातिर अपना जमीर बेच चुकी हो। अंधभक्तों के अलावा आपको कोई भी नहीं सुनता। कोई देखना भी नहीं चाहता। काश मेरा ये कमेंट आपकी नस्लें देखें और आप पर शर्म करें।”

अखलाद खान ने तंज कसते हुए पूछा, “कुर्सी के पैर नहीं छुए रुबिका?”

मोहम्मद युसूफ ने टिप्पणी की, “पहले ही माफ़ी माँग ली, क्योंकि झूठ फैलाने जा रही हैं।”

वहीं मारूफ अहमद सन्नी ने लिखा, “तुम्हारे चैनल में काम कर रहे सारे लोग बिकाऊ और बेशर्म है। तुम्हारे पिठपोछू करने वाले कोई और नहीं तुम्हारे चमचे ही हो सकते हैं। स्टूडियो से बाहर आकर पब्लिक से बात करो और महँगाई, भ्रष्टाचार, गरीबी, भूखमरी, बेरोजगारी पर सवाल करो सरकार से। फिर वहाँ मिलेगा तुम्हें जनता का सच्चा प्यार।”

वसीम खान नाम के यूजर ने लिखा, “इतना क्यों झुक रही हो? झुक कर लेने की आदत पड़ गई है। गलत मत समझो। मैं उस टॉनिक की बात कर रहा हूँ, जो मोदी जी लिया करते हैं।” वहीं मोहम्मद एहतेशाम ने लिखा, “ऑफिस आते वक्त इस तरह एंट्री का वीडियो कौन बनाता है मतलब इतनी आत्मुग्धता?”

रुबिका लियाकत पर कट्टरपंथियों ने किए भद्दे कमेंट्स

इरफ़ान अंसारी ने लिखा, “चाटुकारिता के लिए भी इतनी तैयारी करनी पड़ती है?” नौशाद शाह ने लिखा, “सच में एहसास आप ही महसूस कर सकती हो क्योंकि हमने कभी किसी की दलाल-गिरी नहीं की तो हम कैसे एहसास महसूस कर सकते है।” एक अन्य मुस्लिम यूजर ने लिखा, “सारे अमल शिर्कीया हैं तुम्हारे। क्या मुस्लिम सिर्फ तुम्हारा नाम ही है?”

रुबिका लियाकत पर इस्लाम विरोधी होने के भी लगाए दिए गए आरोप

बता दें कि रुबिका लियाकत एबीपी न्यूज़ पर ‘हुंकार’ नाम के कार्यक्रम को होस्ट करती हैं। इस साल मई में उनकी माँ का निधन हो गया था, जिसके बाद उन्होंने कहा था कि माँ मुझ में हमेशा रहेंगी। ‘हुंकार’ के हालिया एपिसोड में उन्होंने आर्यन खान ड्रग्स मामले के बाद नवाब मलिक और देवेंद्र फडणवीस के बीच चल रही जुबानी जंग को कवर किया। कई प्रशंसकों को उन्होंने ट्विटर के जरिए उनकी शुभकामनाओं के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि वो कैमरे को काफी मिस कर रही थीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe