Monday, July 4, 2022
Homeरिपोर्टमीडियाद न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने 'नस्लीय शुद्धता' के नाम पर आनुवंशिक शोध को लेकर...

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने ‘नस्लीय शुद्धता’ के नाम पर आनुवंशिक शोध को लेकर फैलाया झूठ, संस्कृति मंत्रालय के खारिज करने बाद भी राहुल गाँधी ने दिया प्रोपेगेंडा का साथ

कॉन्ग्रेस सांसद राहुल गाँधी ने ख़ारिज होने के बाद भी उस रिपोर्ट को ट्वीट किया, जिस पर पहले से ही 'तथ्यात्मक रूप से गलत' का लेबल लगाया गया था और परोक्ष रूप से नाजी जर्मनी में हिटलर की नस्लवादी नीतियों के साथ जोड़ा गया था।

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस (TNIE) ने हाल ही में एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें उसने यह भ्रामक दावा किया गया था कि केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्रालय ‘भारतीयों की नस्लीय शुद्धता’ का अध्ययन करने जा रहा है। इस रिपोर्ट में संस्कृति मंत्रालय द्वारा आनुवंशिक इतिहास का पता लगाने और ‘भारत में नस्लों की शुद्धता का पता लगाने’ के लिए अत्याधुनिक डीएनए प्रोफाइलिंग किट और मशीनों पर भी बात की गई है।

लेख में ‘प्यूरिटी ऑफ रेस’ वाला एंगल प्रो. वसंत शिंदे, जो बेंगलुरु में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्य करते हैं, वहाँ से लिया गया था। जबकि TNIE लेख में, भारतीय आबादी के आनुवंशिक इतिहास का पता लगाने के लिए जाँच की खबर को भारत में नस्लों की ‘शुद्धता’ का अध्ययन करने वाले शोधकर्ताओं के साथ जोड़ दिया गया था। जबकि ‘जाति’ की अवधारणा विशुद्ध रूप से एक सामाजिक अवधारणा है और इसका कोई जैविक आधार नहीं है।

यहाँ शुद्धता का मतलब भारतीय आबादी के बीच डीएनए हैलोग्रुप की उत्पत्ति का पता लगाना है। दोनों के बीच जानबूझकर पैदा किए संघर्ष से उन पाठकों को काफी परेशानी हुई जो लेख के अवैज्ञानिक दावों से हैरान थे। हालाँकि, जल्द ही, संस्कृति मंत्रालय ने लेख को स्पष्ट रूप से ‘भ्रामक’ बताते हुए खारिज कर दिया।

हालाँकि, कॉन्ग्रेस सांसद राहुल गाँधी ने ख़ारिज होने के बाद भी उस रिपोर्ट को ट्वीट किया, जिस पर पहले से ही ‘तथ्यात्मक रूप से गलत’ का लेबल लगाया गया था और परोक्ष रूप से नाजी जर्मनी में हिटलर की नस्लवादी नीतियों के साथ जोड़ा गया था। फिर भी TNIE के भ्रामक अंश को टैग करते हुए राहुल गाँधी ने ट्विटर पर लिखा, “पिछली बार जब किसी देश में ‘नस्लीय शुद्धता’ का अध्ययन करने वाला संस्कृति मंत्रालय था, तो यह अच्छी तरह से समाप्त नहीं हुआ था। भारत नौकरी की सुरक्षा और आर्थिक समृद्धि चाहता है, ‘नस्लीय शुद्धता’ नहीं, प्रधानमंत्री।”

बता दें कि संस्कृति मंत्रालय ने 28 मई, 2022 को टीएनआईई के मॉर्निंग स्टैंडर्ड संस्करण में छपे लेख को ‘भ्रामक, शरारती और तथ्यों के विपरीत’ करार दिया। मंत्रालय ने अपने बताया कि यह प्रस्ताव आनुवंशिक इतिहास की स्थापना और ‘भारत में नस्लों की शुद्धता का पता लगाने’ से संबंधित नहीं है बल्कि भारतीय मानव विज्ञान सर्वेक्षण (एएनएसआई) के प्रस्ताव की योग्यता के तहत जाँच की जा रही है।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

इस पूरे मामले में जाने-माने जेनेटिक साइंटिस्ट नीरज राय ने जानबूझकर भ्रामक लेख प्रकाशित करने के लिए द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की आलोचना की है। लेख को ‘शरारती’ बताते हुए उन्होंने कहा कि डीएनए अनुसंधान में मानव स्वास्थ्य और इतिहास के बारे में हमारी समझ में सुधार की काफी संभावनाएँ हैं, इसका इस तरह से दुष्प्रचार में उपयोग नहीं होना चाहिए। उन्होंने राहुल गाँधी को टैग करते हुए लिखा, “नस्लीय शुद्धता कोई चीज नहीं है और नस्ल जैविक रूप से समर्थित संदर्भ भी नहीं है। यह राजनेताओं के लिए नस्लवाद का प्रचार करने का बस एक उपकरण रहा है और इसे आनुवंशिक वंश से नहीं जोड़ा जाना चाहिए।”

लेखक और अर्थशास्त्री संजीव सान्याल, जिन्होंने भारतीय इतिहास और भूगोल पर कई किताबें लिखी हैं, ने कहा है कि यह जानबूझकर एक वैज्ञानिक अध्ययन को गुमराह करने का एक उत्कृष्ट मामला है। ” उन्होंने लिखा, “आर्कियो-जेनेटिक्स एक सुस्थापित क्षेत्र है और मानव यात्रा का पता लगाने का प्रयास करता है। और यह स्थापित करता है कि ‘शुद्ध जाति’ जैसी कोई चीज नहीं है। वास्तव में, हम एक ‘शुद्ध’ प्रजाति भी नहीं हैं।”

JNU के लेखक और वैज्ञानिक आनंद रंगनाथन ने जोर देकर कहा कि नस्ल एक जैविक अवधारणा नहीं है, बल्कि एक सामाजिक अवधारणा है। उन्होंने ट्वीट किया, “जाति कोई वैज्ञानिक अवधारणा नहीं है, शुद्धता तो और भी कम है। न केवल 8 बिलियन मानव बल्कि 99.97% आनुवंशिक रूप से समान हैं, बल्कि आधुनिक मानव जीनोम भी प्राइमेट, प्लांट, बैक्टीरिया, परजीवी और वायरल डीएनए का एक मिशमाश है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

AG के पास पहुँचा TMC वाला साकेत गोखले, हमारे खिलाफ चलाना चाहता है अदालत की अवमानना का मामला: हम अपने शब्दों पर अब भी...

ऑपइंडिया की एडिटर नुपूर शर्मा के लेख की शिकायत लेकर टीएमसी नेता साकेत गोखले अटॉर्नी जनरल के पास गए हैं ताकि अदालत की अवमानना का केस चलवा सकें।

‘शौच करने गई थी, मोहम्मद जाकिर हुसैन सर पीछे-पीछे आ गए’: मिडिल स्कूल में शिक्षक ने नाबालिग छात्रा से की छेड़खानी, हुआ गिरफ्तार

बिहार के सुपौल में शिक्षक जाकिर हुसैन ने 7वीं कक्षा की लड़की के साथ छेड़छाड़ किया। परिजनों ने थाने में दर्ज कराया मामला। आरोपित गिरफ्तार।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,064FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe