Friday, May 24, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाराजदीप सरदेसाई की 'लाश' पत्रकारिता: बीमारी से राजकुमार की मौत, कहा- भूख से मरा,...

राजदीप सरदेसाई की ‘लाश’ पत्रकारिता: बीमारी से राजकुमार की मौत, कहा- भूख से मरा, सरकारी मदद कहाँ

पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने पूछा कि आखिर सरकार के ये सारे पैकेज जनता के पास कब पहुँचेंगे? ऐसा कहने के पीछे उनका तात्पर्य था कि मृतक को सरकार ने सहायता नहीं मुहैया कराई थी, इसलिए उसकी जान चली गई। बाँदा के डीएम ने राजदीप सरदेसाई को सच्चाई से अवगत कराया।

राजदीप सरदेसाई ने उत्तर प्रदेश के बाँदा में एक गरीब की मौत पर अपनी ‘गिद्ध वाली पत्रकारिता‘ करनी चाही। उन्होंने एक वीडियो पोस्ट किया और साथ में लिखा कि बुंदेलखंड के बाँदा में गरीबों की भूख से हालत खराब है। उन्होंने बताया कि उनकी पत्रकार मौसमी ने एक व्यक्ति से अपनी स्टोरी के दौरान बात की थी, जो अब चल बसा है। साथ ही उन्होंने दावा किया कि अनाज गोदामों में रखे-रखे सड़ रहे हैं।

‘इंडिया टुडे’ के पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने पूछा कि आखिर सरकार के ये सारे पैकेज जनता के पास कब पहुँचेंगे? ऐसा कहने के पीछे उनका तात्पर्य था कि मृतक को सरकार ने सहायता नहीं मुहैया कराई थी, इसलिए उसकी जान चली गई। बाँदा के डीएम ने राजदीप सरदेसाई को सच्चाई से अवगत कराया। मृतक का नाम राजकुमार है, जो खम्हौरा गाँव का निवासी था। ये अंतर्रा प्रखंड के अंतर्गत आता है।

डीएम ने बताया कि मृतक राजकुमार की पत्नी मनोज कुमार अंत्योदय राशन धारक है। उन्हें अप्रैल 1, 2020 को 20 किलो गेहूँ और 15 किलो चावल दी गई थी। इसके बाद उसी महीने की 17 तारीख को ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ 5 किलो चावल दिया गया था। मई 6, 2020 को उन्हें पुनः अंत्योदय कार्ड से 20 किलो चावल और 15 किलो गेहूँ मुहैया कराया गया था। इन सबके बावजूद राजदीप ने बिना कुछ जाने झूठ फैलाया।

हाल ही में 18 मई 2020 को मृतक की पत्नी को फिर से ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना’ के तहत 5 किलो चावल और 1 किलो चना प्राप्त हुआ था। बता दें कि ये खाद्य सामग्रियाँ निःशुल्क दी गई है, इसके एवज में कोई पैसा नहीं लिया गया। साथ ही बाँदा प्रशासन ने साफ़ कर दिया है कि राजकुमार की मृत्यु भूख के कारण नहीं हुई है, बीमारी के कारण हुई है। इसके बाद लोगों ने राजदीप सरदेसाई को जम कर लताड़ा।

हालाँकि, राजदीप सरदेसाई ने बाद में बाँदा के डीएम का उनकी रिप्लाई के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि वो अपनी स्टोरी में उनकी इस प्रतिक्रिया को जोड़ने की कोशिश करेंगे। एक यूजर ने राजदीप से कहा कि वो अब जनता से माफ़ी माँगें। इसके बावजूद राजदीप सरदेसाई बाँदा के राजकुमार का वो इंटरव्यू लोगों को दिखाते रहे, जो उन्होंने तब दिया था जब वो जिन्दा थे। लोगों ने आरोप लगाया कि वो सरकार को बदनाम करने के लिए लगे हुए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -