Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टमीडियान्यूज़ चैनल के संपादक ने प्राइवेट कम्पनी के घाटे के लिए मोदी को ठहराया...

न्यूज़ चैनल के संपादक ने प्राइवेट कम्पनी के घाटे के लिए मोदी को ठहराया जिम्मेदार, लताड़े गए

रुपयों की कमी से जूझती जेट एयरवेज को अब क़र्ज़दाताओं का इंतज़ार है। इसी ख़बर पर TV9 भारतवर्ष के सम्पादक विनोद कापड़ी ने चुटकी लेते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा।

पत्रकार विनोद कापड़ी ने एक प्राइवेट कम्पनी की कंगाली के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हाथ ढूँढ लिया है। बता दें कि जेट एयरवेज घाटे में चल रही है और कम्पनी के पास फंड नहीं है। रुपयों की कमी से जूझती जेट एयरवेज को अब क़र्ज़दाताओं का इंतज़ार है कि वो इमरजेंसी फंड्स देकर इसे किसी तरह चालू रखें। इसी ख़बर पर TV9 भारतवर्ष के सम्पादक विनोद कापड़ी ने चुटकी लेते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा। कापड़ी को लताड़ते हुए अशोक पंडित ने उन्हें थोड़ी पढ़ाई-लिखाई करने की नसीहत दी और पूछा कि एक प्राइवेट एयरलाइन्स की समस्या में मोदी और विकास कहाँ से आ गया?

इसके बाद ट्विटर यूजर्स ने उन्हें अपनी प्रतिक्रियाओं में प्राइवेट और सरकारी कम्पनी का अंतर समझाया। एक यूजर ने कापड़ी और उनकी जमात के बारे में कहा कि ये ऐसे लोग हैं जो अपने बाथरूम में पानी न आने पर भी मोदी को ही कोसते हैं। उसने आगे कहा कि ऐसे लोगों को पेन गिफ्ट किया जाए तो ये इस बात के लिए नाराज़ हो जाएँगे कि रिफिल ख़त्म होने के बाद बदलनी पड़ेगी।

अगर सरकारी रुपयों से किसी प्राइवेट कम्पनी को बचाया जाए तो यही पत्रकार कहेंगे कि जनता के रुपयों का ग़लत इस्तेमाल हो रहा है। कई लोगों ने पूछा कि क्या विजय माल्या की किंगफ़िशर एयरलाइन्स की कंगाली के लिए पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ज़िम्मेदार थे क्या? एक यूजर ने कापड़ी से पूछा कि अगर वो जेट एयरवेज की विफलता के लिए मोदी की ज़िम्मेदार ठहरा सकते हैं तो क्या TCS और HDFC की सफलता का श्रेय वो देंगे?

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कापड़ी के टीवी चैनल के कार्यक्रम में कहा था कि उन्होंने अपने संस्थान में केवल ऐसे लोग भर रखे हैं, जिनके ख़ून में ही मोदी के प्रति घृणा है। अमित शाह ने भी विनोद कापड़ी के एक सवाल पर उन्हें डाँटा था। दरअसल, कापड़ी ने अमित शाह से झूठा सवाल पूछा था कि उन्होंने चुनाव से पहले वाड्रा को जेल भेजने की बात कही थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मध्य प्रदेश और बिहार में भी काँवर यात्रा मार्ग में ढाबों-ठेलों पर लिखा हो मालिक का नाम’: पड़ोसी राज्यों में CM योगी के फैसलों...

रमेश मेंदोला ने कहा कि नाम बताने में दुकानदारों को शर्म नहीं बल्कि गर्व होना चाहिए। हरिभूषण ठाकुर बचौल बोले - विवादों से छुटकारा मिलेगा।

‘लैंड जिहाद और लव जिहाद को बढ़ावा दे रही हेमंत सोरेन की सरकार’: झारखंड में गरजे अमित शाह, कहा – बिगड़ रहा जनसंख्या का...

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर 'भूमि जिहाद', 'लव जिहाद' को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए उन पर तीखा हमला किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -