Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाZee न्यूज़ के एंकर अमन चोपड़ा ने मौलाना को सिखाया 'धर्मनिरपेक्षता' का पाठ, एक...

Zee न्यूज़ के एंकर अमन चोपड़ा ने मौलाना को सिखाया ‘धर्मनिरपेक्षता’ का पाठ, एक तरफा तहजीब कब तक निभाए हिन्दू?

"हमने आम तौर पर देखा, जब हम मिलते हैं तो सलाम, अस्सलाम वालेकुम, सब कुछ कहते हैं, लेकिन क्या आप लोग राम-राम कहते हैं? आप लोग नहीं कहते हैं। हमने मंदिरों इफ्तारी भी देखी है और नमाज भी देखी है। लेकिन मस्जिदों में हवन-पूजा होता है क्या? लंगर होता है क्या? नहीं होता। एक हाथ से ताली नहीं बजेगी न।"

सोमवार (मई 18, 2020) को जी न्यूज के प्रोग्राम ‘ताल ठोक के’ के एंकर अमन चोपड़ा ने एक मौलाना को ‘धर्मनिरपेक्षता’ का पाठ पढ़ाया। दरअसल, प्रोग्राम में चर्चा हाल ही में कर्नाटक के दावणगेरे जिले में हुई सांप्रदायिक घटना पर आधारित थी, जिसमें मुस्लिम महिलाओं को हिंदू दुकानों से कपड़े खरीदने के लिए कट्टरपंथी निशाना बनाते हैं, धमकी देते हैं और गाली-गलौज करते हैं।

चोपड़ा ने प्रोग्राम की शुरुआत करते हुए मौलाना नदीमुद्दीन से कहा कि वो इस्लामिक कट्टरपंथियों ने जो हरकत की है उसकी निंदा करें। जी न्यूज एंकर अमन चोपड़ा को वीडियो में कहते हुए सुना जा सकता है, “गंगा-जमुनी तहजीब की जिम्मेदारी सिर्फ एक समुदाय की थोड़ी न है, ताली दोनों हाथों से बजेगी।”

उन्होंने आगे कहा, “हमने आम तौर पर देखा, जब हम मिलते हैं तो सलाम, अस्सलाम वालेकुम, सब कुछ कहते हैं, लेकिन क्या आप लोग राम-राम कहते हैं? आप लोग नहीं कहते हैं। हमने मंदिरों इफ्तारी भी देखी है और नमाज भी देखी है। लेकिन मस्जिदों में हवन-पूजा होता है क्या? लंगर होता है क्या? नहीं होता। एक हाथ से ताली नहीं बजेगी न।”

इसके बाद एंकर अमन चोपड़ा मौलाना से बार-बार राम-राम और जय श्री राम बोलने के लिए कहते हैं, लेकिन जब वो नहीं बोलते हैं तो फिर एंकर बार-बार इस्लामिक अभिवादन करके उन्हें समझाते हैं कि वो सांप्रदायिक नहीं है, वो उनका अभिवादन कर सकते हैं, तो फिर वो राम-राम बोलकर क्यों नहीं कर सकते।

बार-बार बोलने के बाद भी जब मौलाना नहीं बोलता है, तो फिर अमन चोपड़ा कहते हैं, “दो हाथों से ताली बजाइए न, मिलकर भी रहना है, गंगा-जमुनी तहजीब भी दिखानी है, आप नहीं बोलेंगे। ताली दो हाथों से बजती है, एक हाथ से नहीं बजती, गंगा जमुनी तहजीब पर भाषण देना बहुत आसान होता है। एक सेकेंड में जुबान बंद हो जाती है आपलोगों की।”

गौरतलब है कि पिछले दिनों कई सारे वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे, जिसमें हिंदू दुकान से सामान खरीदने पर मुस्लिम महिलाओं के साथ मुस्लिम भीड़ को गाली-गलौज करते हुए देखा जा सकता है।

वीडियो में देखा जा सकता है कि रमजान के पवित्र महीने में जैसे ही हिंदुओं के स्वामित्व वाली एक लोकप्रिय कपड़े की दुकान ‘बीएस चन्नबसप्पा एंड संस’ से बुर्का-पहने महिलाएँ बाहर निकलती हैं कि मुस्लिमों की भीड़ उन पर आक्रामक हो जाती है। उनको चारों तरफ से घेर लिया जाता है और सवाल-जवाब किए जाते हैं।

उनके हाथ से कपड़ों की थैली भी छीन ली जाती है और कपड़े रखकर थैली को फेंक दी जाती है। शायद इसलिए क्योंकि उस थैली का रंग ‘भगवा’ था। वीडियो में महिलाओं को आक्रामक मुस्लिम भीड़ से जाने देने की विनती करते हुए देखा जा सकता है।

इसी तरह, एक अन्य मुस्लिम भीड़ ने दावणगेरे शहर के एक अन्य हिस्से में इसी तरह एक दुकान पर खरीददारी के लिए गई दो महिलाओं और एक बच्चे को धमकी दी। वीडियो में देखा जा सकता है कि उर्दू में बात कर रहे एक शख्स बुर्का पहने महिला और उसके बच्चे को कपड़े की दुकान में प्रवेश नहीं करने के लिए धमकाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

समर्थन ले लो… सस्ता, टिकाऊ समर्थन: हर व्यक्ति, संस्था, आंदोलन और गुट के लिए है राहुल गाँधी के पास झऊआ भर समर्थन!

औसत नेता समर्थन लेकर प्रधानमंत्री बनता है, बड़ा नेता बिना समर्थन के बनता है पर राहुल गाँधी समर्थन देकर बनना चाहते हैं।

हड़प्पा काल का धोलावीरा शहर विश्व धरोहर में हुआ शामिल, बतौर CM नरेंद्र मोदी ने तैयार करवाया था इन्फ्रास्ट्रक्चर

भारत के विश्व धरोहर स्थलों की संख्या अब बढ़कर 40 हो गई है। इनमें से 10 स्थलों को तो सूची में साल 2014 के बाद ही जोड़ा गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,488FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe