Tuesday, September 22, 2020
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा कारगिल के 20 साल: 'फर्ज पूरा होने से पहले मौत आई तो प्रण लेता...

कारगिल के 20 साल: ‘फर्ज पूरा होने से पहले मौत आई तो प्रण लेता हूँ मैं मौत को मार डालूँगा’

मनोज पांडे एक बंकर से दूसरे बंकर अटैक करते हुए आगे बढ़ रहे थे। शरीर से ज्यादा खून बह जाने की वजह से वे अंतिम बंकर पर पस्त पड़ गए। उनके आँखें बंद करने से पहले खालुबार पोस्ट पर तिरंगा लहरा रहा था।

वर्ष 1999 में भारतीय सेना ने पाकिस्तान की घुसपैठिया सेना को हरा कर कारगिल विजय हासिल की थी। कारगिल, द्रास, मशकोह, बटालिक जैसी अति दुर्गम घाटियों में पाकिस्तान की सेना से लड़ते हुए भारतीय सेना (वायुसेना समेत) के 527 जवान वीरगति को प्राप्त हुए थे। इन्हीं में से एक नाम है इस विजय की नींव रखने वाले कैप्टन मनोज पांडे का, जिनकी कारगिल युद्ध में दिखाई गई बहादुरी के किस्से हर किसी के रोंगटे खड़े कर देते हैं।

एनडीए के इंटरव्यू में ही परमवीर चक्र पाने का सपना देखकर भारतीय सेना में शामिल होने वाले जाँबाज मनोज पांडे ने ना केवल यह सम्मान हासिल किया, बल्कि देश की एक बड़ी विजय के सूत्रधार भी बने। हालाँकि जब परमवीर चक्र मिला तो उसे लेने के लिए वे स्वयं मौजूद नहीं थे। उनके पिता श्री गोपी चंद पांडे ने 26 जनवरी, 2000 को तत्कालीन राष्ट्रपति केआर नारायणन से सम्मान ग्रहण किया। मनोज को भगवद् गीता पढ़ना और बाँसुरी बजाना भी बहुत पसंद था। उनके बक्से में बाँसुरी हमेशा रहती थी।

“मेरा बलिदान सार्थक होने से पहले अगर मौत दस्तक देगी तो संकल्प लेता हूँ कि मैं मौत को मार डालूँगा।”

ये शब्द उस योद्धा कैप्टन मनोज कुमार पांडे के थे जिसने मात्र 24 साल की उम्र में ही कारगिल युद्ध में देश के लिए अपने प्राण न्योछावर कर दिए थे। वीरगति को प्राप्त होने से पहले ही वो कारगिल जंग की जीत की बुनियाद रख चुके थे।

घर जाना था पर आया कारगिल से बुलावा

- विज्ञापन -

गोरखा रेजीमेंट के कैप्टन मनोज कुमार पांडे सियाचिन में तैनाती के बाद छुट्टियों पर घर जाने की तैयारी में थे। अचानक 2-3 जुलाई की रात उन्हें बड़े ऑपरेशन की जिम्मेदारी सौंपी गई। खालुबार टॉप सामरिक रूप से बेहद महत्वपूर्ण इलाका था। यह जगह पाकिस्तानी सैनिकों के लिए एक तरह का कम्यूनिकेशन हब भी था। भारतीय सेना का मानना था कि अगर वहाँ से पाकिस्तानी सैनिक खदेड़ दिए जाएं तो उनके अन्य ठिकाने भी मुश्किल में पड़ जाएँगे। इससे उन्हें वापस भागने में भी समस्या होगी।

खालुबार पोस्ट सबसे मुश्किल लक्ष्य

कैप्टन मनोज कुमार पांडे को खालुबार पोस्ट फतह करने की जिम्मेदारी मिली। रात के अंधेरे में मनोज कुमार पांडे अपने साथियों के साथ दुश्मन पर हमले के लिए कूच कर गए। दुश्मन ऊँचाई पर छिपा बैठा था और नीचे के हर मूवमेंट पर नजर रखे हुए था। वहाँ से वे रॉकेट लाँचर और ग्रेनेड लाँचर का इस्तेमाल कर रहे थे।

भारतीय सैनिकों के ऊपर लगभग 60-70 मशीनगन लगातार फायरिंग कर रहीं थीं। साथ ही गोले भी बरस रहे थे। जिस कारण यह बिल्कुल भी आसान लक्ष्य नहीं था। एक बेहद मुश्किल जंग के लिए मनोज कुमार अपनी टुकड़ी के साथ आगे बढ़ रहे थे। इस दौरान कैप्टन मनोज पांडे के साथ रहे सैनिक बताते हैं कि ठण्ड में राइफ़ल के ब्रीचब्लॉक को जाम होने से बचाने के लिए वे उसे अपने ऊनी मौजे से ढक कर आगे बढ़ रहे थे ताकि वो गरम रहे।

खालुबार टॉप

सिर्फ 4 बंकर का था अंदाजा, लेकिन ..

पाकिस्तानी सेना को मनोज पांडे के मूवमेंट का जैसे ही पता चला उसने ऊँचाई से फायरिंग शुरू कर दी। लेकिन फायरिंग की परवाह किए बिना कैप्टन मनोज काउंटर अटैक करते और हैंड ग्रेनेड फेंकते हुए आगे बढ़ते गए। सबसे पहले उन्होंने खालुबार की पहली पोजीशन से दुश्मन का सफाया करने का प्लान बनाया। सेना वहाँ पर मात्र चार बंकर होने का अंदाजा लगाकर चल रही थी, लेकिन मनोज ने ऊपर जा देखा तो 6 बंकर थे। हर बंकर से दो-दो मशीनगन भारतीय सेना के ऊपर फायरिंग कर रही थी। थोड़ी दूरी पर स्थित दो बंकरों को उड़ाने के लिए मनोज ने हवलदार दीवान को भेजा। दीवान ने उन बंकरों को तबाह कर दिया। लेकिन इस बीच गोली लगने से वे वीरगति को प्राप्त हो गए।

बंकर को उड़ाने का मात्र एक ही तरीका होता है कि उसके लूप होल में ग्रेनेड डालकर उसमें बैठे लोगों को ख़त्म किया जाए। बाकी के 4 बंकरों को ठिकाने लगाने के लिए मनोज पांडे और उनके साथी ज़मीन पर रेंगते हुए बंकरों के पास पहुँच गए। इसके बाद कैप्टन मनोज ने एक-एक कर 3 बंकर ध्वस्त किए, लेकिन चौथे बंकर में ग्रेनेड फेंकते वक़्त उनके शरीर के बाँए हिस्से में कुछ गोलियाँ लगीं, जिससे वो लहूलुहान हो गए।

गोली लगने के बाद जब मनोज पांडे को उनके साथियों ने वहीं रुकने को कहा तो उन्होंने जवाब दिया ‘उन्हें अपने अधिकारियों को आखिरी बंकर को ध्वस्त करने के बाद विजयी निशान दिखाना है’। लहूलुहान होने के बावजूद उन्होंने बंकर में ग्रेनेड फेंकने की कोशिश की। पाकिस्तानी सैनिकों ने उन्हें देख लिया और फायरिंग शुरू कर दी। मनोज पांडे के सिर में 4 गोलियाँ लगी जिससे उनके सर का एक हिस्सा गायब हो गया। लेकिन इसी दौरान अन्य भारतीय सैनिक उस बंकर को तबाह करने में सफल रहे।

मनोज पांडे एक बंकर से दूसरे बंकर अटैक करते हुए आगे बढ़ रहे थे। शरीर से ज्यादा खून बह जाने की वजह से वे अंतिम बंकर पर पस्त पड़ गए। उनके आँखें बंद करने से पहले खालुबार पोस्ट पर तिरंगा लहरा रहा था। जब मनोज पांडे को गोलियाँ लगीं, तब उनकी उम्र मात्र 24 साल और 7 दिन थी।

यकीनन वो अपनी कही हुई बात के साथ ही विदा हुए। हमेशा के लिए आँखें बंद करने से पहले ही वो अपने फर्ज को पूरा कर चुके थे, उन्होंने लहूलुहान शरीर से ही आखिरी बंकर को उड़ाने का हौसला दिखाया।

मरने से पहले उनके अंतिम शब्द थे- ‘ना छोड़नू’। इस नेपाली भाषा का हिंदी में अर्थ होता है- “उन्हें मत छोड़ना।” जब कैप्टेन मनोज ने आखिरी साँस ली, तब उनके पास उनकी खुखरी, काले रंग की डिजिटल घड़ी और एक बटुआ था। उस बटुए में 156 रुपए थे।

इस पूरे मिशन का नेतृत्व कर रहे कर्नल ललित राय के पैरों में भी गोली लगी थी। कर्नल रॉय ने जब खालुबार पर भारतीय झंडा फहराया, तो उस समय उनके पास मात्र 8 जवान ही शेष थे, बाकी लोग या तो बलिदान हो चुके थे, या फिर घायल थे। जब-जब भारतीय सेना के वीरों का जिक्र होगा, ‘बटालिक के हीरो’ (Hero of Batalik) मनोज कुमार पांडे याद आएँगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

निलंबित AAP सांसद संजय सिंह ने टीवी पर स्वीकारा कि उन्होंने उपाध्यक्ष का माइक तोड़ा, कहा- लोकतंत्र की रक्षा कर रहे थे

AAP नेता संजय सिंह ने खुद और अन्य विधायकों का बचाव करते हुए कहा कि वे 'लोकतंत्र को बचाने' की कोशिश कर रहे थे।

नोटबंदी और कृषि बिल के लिए एक ही शख्स के इंटरव्यू के वायरल दावे को ANI एडिटर ने नकारा, कॉन्ग्रेस ने फैलाया ‘झूठ’

इन दिनों सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि समाचार एजेंसी ANI ने हाल ही में पारित किए गए किसान बिल और 2016 में मोदी सरकार द्वारा लाए गए नोटबंदी के लिए एक ही व्यक्ति का इंटरव्यू लिया।

व्यंग्य: रवीश जी दुबरा गए हैं, एतना चिंता हो रहा है देस का कि का कहें महाराज!

एक समाज के तौर पर हम कहाँ जा रहे हैं? धरती घूम रही है और हम भी घूम रहे हैं। इसी धरती पर मोदी हमें घुमा रहा है। जबकि लेहरू जी द्वारा भारत को दिए गए विज्ञान की सौगात यही कहती है किसान को किसान ही रहने दो, उसको व्यापारी मत बनाओ।

संजय सिंह और डेरेक ओ ब्रायन ने ईशान करण की चिट्ठी नहीं पढ़ी… वरना पत्रकार हरिवंश से पंगा न लेते

दूर बैठकर भी कर्मचारियों के मन को बखूबी पढ़ लेने वाले हरिवंश जी, अब आसन पर बैठ संजय सिंह, डेरके ओ ब्रायन की 'राजनीति' को पढ़ हँसते होंगे।

दिल्ली दंगों से पहले चाँदबाग में हुई बैठक: 7 गाड़ियों में महिलाएँ जहाँगीरपुरी से लाई गई, देखें व्हाट्सअप चैट में कैसे हुई हिंसा की...

16-17 फरवरी की देर रात चाँद बाग में मीटिंग करने का निर्णय लिया था। यहीं इनके बीच यह बात हुई कि दिल्ली में चल रहे प्रोटेस्ट के अंतिम चरण को उत्तरपूर्वी दिल्ली के इलाकों में अंजाम दिया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

संघी पायल घोष ने जिस थाली में खाया उसी में छेद किया – जया बच्चन

जया बच्चन का कहना है कि अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाकर पायल घोष ने जिस थाली में खाया, उसी में छेद किया है।

प्रेगनेंसी टेस्ट की तरह कोरोना जाँच: भारत का ₹500 वाला ‘फेलूदा’ 30 मिनट में बताएगा संक्रमण है या नहीं

दिल्ली की टाटा CSIR लैब ने भारत की सबसे सस्ती कोरोना टेस्ट किट विकसित की है। इसका नाम 'फेलूदा' रखा गया है। इससे मात्र 30 मिनट के भीतर संक्रमण का पता चल सकेगा।

‘क्या तुम्हारे पास माल है’: सामने आई बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस के बीच हुई ड्रग चैट

कुछ बड़े बॉलीवुड सितारों के बीच की ड्रग चैट सामने आई है। इसमें वे खुलकर ड्रग्स के बारे में बात कर रहे हैं।

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

सुप्रीम कोर्ट में ‘हिन्दू आतंक’ का हवाला दिए जाने से बौखलाए NDTV के पत्रकार ने केंद्र पर लगाया ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप

आतंकवादी हमले को ‘छोटा-मोटा’ हमला करार देने वाले NDTV के पत्रकार जैन ने केंद्र पर किसी भी कीमत पर ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप लगाया।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

निलंबित AAP सांसद संजय सिंह ने टीवी पर स्वीकारा कि उन्होंने उपाध्यक्ष का माइक तोड़ा, कहा- लोकतंत्र की रक्षा कर रहे थे

AAP नेता संजय सिंह ने खुद और अन्य विधायकों का बचाव करते हुए कहा कि वे 'लोकतंत्र को बचाने' की कोशिश कर रहे थे।

भारत के आगे एक बार फिर नतमस्तक हुआ नेपाल: विवादित नक्‍शे वाली किताब पर PM ओली ने लगाई रोक

नेपाल की केपी ओली सरकार ने देश के विवादित नक्‍शे वाली किताब के वितरण पर रोक लगा दिया है। नेपाल के विदेश मंत्रालय और भू प्रबंधन मंत्रालय ने श‍िक्षा मंत्रालय की ओर से जारी इस किताब के विषयवस्‍तु पर गंभीर आपत्ति जताई थी।

नोटबंदी और कृषि बिल के लिए एक ही शख्स के इंटरव्यू के वायरल दावे को ANI एडिटर ने नकारा, कॉन्ग्रेस ने फैलाया ‘झूठ’

इन दिनों सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि समाचार एजेंसी ANI ने हाल ही में पारित किए गए किसान बिल और 2016 में मोदी सरकार द्वारा लाए गए नोटबंदी के लिए एक ही व्यक्ति का इंटरव्यू लिया।

ड्रग तस्कर केशवानी ने पूछताछ में लिया दीया मिर्जा का नाम: NCB बाकी सितारों के साथ उन्हें भी जल्द भेजेगी समन

दीया का नाम पूछताछ के दौरान अनुज केशवानी ने लिया है। केशवानी ने बताया कि दीया की मैनेजर ड्रग्स खरीदती थी। उन्होंने इसके सबूत भी दिए हैं।

व्यंग्य: रवीश जी दुबरा गए हैं, एतना चिंता हो रहा है देस का कि का कहें महाराज!

एक समाज के तौर पर हम कहाँ जा रहे हैं? धरती घूम रही है और हम भी घूम रहे हैं। इसी धरती पर मोदी हमें घुमा रहा है। जबकि लेहरू जी द्वारा भारत को दिए गए विज्ञान की सौगात यही कहती है किसान को किसान ही रहने दो, उसको व्यापारी मत बनाओ।

आयकर विभाग ने उद्धव ठाकरे और उनके बेटे के साथ ही शरद पवार और उनकी बेटी को भेजा नोटिस, गलत जानकारी साझा करने के...

“मुझे अपने चुनावी हलफनामे के बारे में आयकर विभाग से नोटिस मिला। चुनाव आयोग के निर्देश पर, आयकर ने 2009, 2014 और 2020 के लिए चुनावी हलफनामों पर एक नोटिस भेजा है।"

PM मोदी के जन्मदिन पर अपमानजनक वीडियो किया वायरल, सोनू खान को UP पुलिस ने किया अरेस्ट

सोनू खान को उसके घर से गिरफ्तार किया गया। उसके पास से वह फोन भी बरामद किया गया है, जिससे उसने प्रधानमंत्री मोदी पर अपमानजनक...

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,978FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements