Sunday, August 1, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाअक्षरधाम मंदिर पर हमले का मुख्य आरोपित यासीन बट अनंतनाग में गिरफ्तार

अक्षरधाम मंदिर पर हमले का मुख्य आरोपित यासीन बट अनंतनाग में गिरफ्तार

सितंबर 24, 2002 को गुजरात के गाँधीनगर के अक्षरधाम मंदिर में 2 आतंकियों ने हमला किया था। एनएसजी के कमांडो की मदद से करीब 12 घंटे चले ऑपरेशन के बाद आतंकियों को मार गिराया गया था।

गुजरात में अक्षरधाम मंदिर पर हुए आतंकी हमले के मुख्या आरोपित लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी यासीन बट को आज कश्मीर के अनंतनाग में गिरफ्तार कर लिया गया। उसे गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार किया है। वर्ष 2002 में अक्षरधाम मंदिर पर हुए आतंकी हमले में 30 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 80 से ज्यादा घायल हो गए थे।

जम्मू-कश्मीर पुलिस की मदद से यासीन बट को साउथ कश्मीर के अनंतनाग से पकड़ा गया। वहाँ से गुजरात एटीएस की स्पेशल टीम उसे अहमदाबाद ले गई।

सितंबर 24, 2002 को गुजरात के गाँधीनगर के प्रसिद्ध अक्षरधाम मंदिर में 2 आतंकियों ने हमला किया था। एनएसजी के कमांडो की मदद से करीब 12 घंटे चले ऑपरेशन के बाद आतंकियों को मार गिराया गया था। हमले को अंजाम देने वाले आतंकियों की यासीन बट ने मदद की थी। यासीन के अलावा, मोहम्मद फारूख शेख ने भी इस आतंकी हमले में वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई थी, जिसे गत वर्ष सऊदी अरब से लौटते हुए गिरफ्तार कर लिया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe