Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाबांग्लादेश के रास्ते भारत में घुसे चायनीज का गुरुग्राम में 100 कमरों का होटल,...

बांग्लादेश के रास्ते भारत में घुसे चायनीज का गुरुग्राम में 100 कमरों का होटल, मुंबई में अब्दुल रज्जाक बिजनेस पार्टनर

चायनीज हान ने पुलिस को बताया कि वह भारत में चीन के लिए जासूसी करता था। उसने अपना कारोबार गुरुग्राम के अलावा मुंबई और हैदराबाद में भी फैला रखा था।

बांग्लादेश के रास्ते भारत में अवैध रूप से दाखिल होने वाले चीनी नागरिक को पश्चिम बंगाल के मालदा में बीएसएफ द्वारा गिरफ्तार करने के बाद पूछताछ में कई खुलासे हुए हैं। हान जुनवे (36) नाम के इस चीनी नागरिक का गुरुग्राम में 100 कमरों वाला अपना एक होटल है, जिसका नाम “स्टार स्प्रिंग” है। उस होटल में चीनी नागरिक के साथ-साथ भारतीय भी काम करते हैं।

पूछताछ में हान ने बताया कि वह भारत में चीन के लिए जासूसी करता था। इसके साथ ही वह भारतीय सिम को चीन भेजता था, जिसका इस्तेमाल अकाउंट हैक करने और अन्य वित्तीय फ्रॉड करने के लिए किया जाता था। हान ने बताया कि उसने अपना कारोबार गुरुग्राम के अलावा मुंबई और हैदराबाद में भी फैला रखा था।

हान की एक कंपनी हैदराबाद में पंजीकृत है, जबकि गुरुग्राम के डीएलएफ फेज-3 के प्लाट नंबर टी-14/9 में वह 80 कमरों वाला स्टार स्प्रिंग नाम से होटल चलाता था। इससे पहले डीएलएफ फेज-3 में ही 30 कमरों का पीजी चलाता था।

हाल ही में हान के बिजनेस पार्टनर सुन जियांग को लखनऊ एटीएस ने गिरफ्तार किया था। हान को एटीएस केस के कारण भारतीय वीजा नहीं मिला था। इस कारण उसने बांग्लादेश का बिजनेस वीजा लिया और वहाँ से अवैध रूप से भारत में घुसने की कोशिश की थी।

हान के संदिग्ध गतिविधियों में शामिल होने की जानकारी इसी साल जनवरी में मिली थी, जब उत्तर प्रदेश की एंटी टेररिस्ट स्क्वॉयड (एटीएस) टीम ने होटल में छापा मारा था। हालाँकि, जुनवे दिसंबर में ही चीन भाग गया था, इस वजह से पकड़ में नहीं आया। एटीएस ने उसकी कंपनी में नंबर-दो की हैसियत वाले डेविड और डायरेक्टर प्रशांत कुमार पोट्टेंल्ली सहित कई अन्य कर्मचारियों को गिरफ्तार किया था।

वहीं, हान के मुंबई स्थित कारोबार के बारे में कहा जाता है कि वहाँ अब्दुल रज्जाक नाम का उसका बिजनेस पार्टनर है। रज्जाक अभी फरार चल रहा है और एटीएस उसकी तलाश कर रही है।

हान जुनवे ने जनवरी 2019 में गाव नाथुपुर निवासी जेवीएल प्रोपर्टीज एंड ट्रेवल्स प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर पारुल लोहिया से मुलाकात की थी। सौदा तय होने पर जेवीएल प्रापर्टीज एंड ट्रेवल्स प्राइवेट लिमिटेड और हान जुनवे की हैदराबाद वाली कंपनी के बीच एग्रीमेंट हुआ। होटल के अधिकतर कमरे पहले बुक रहते थे, लेकिन कोरोना संकट शुरू होने के बाद हान ने किराया देना बंद कर दिया था। दिसंबर 2020 में वह यह कहते हुए चीन चला गया था कि आकर बकाया राशि देगा। तब एटीएस को पता चला कि हान भारतीय सिम को चीन भेजता था।

छापे के दौरान एटीएस की टीम ने जेवीएल प्रापर्टीज एंड ट्रेवल्स के डायरेक्टर पारुल लोहिया से भी पूछताछ की थी। लोहिया ने बताया था कि लीज एग्रीमेंट करने के बाद वह केवल किराया लेने के लिए जाते थे। लोहिया का कहना है कि जैसे ही उन्हें हान के बारे में जानकारी मिली, उन्होंने फरवरी में लीज कैंसिल करने का नोटिस दे दिया था। दो महीने होटल खाली रहा। अप्रैल में पजेशन ले लिया। देश के कई राज्यों में उनका होटल का काम है। अब आगे से वह पूरी छानबीन के बाद ही एग्रीमेंट करेंगे।

होटल डीएलएफ फेज-तीन थाने से केवल डेढ़ से दो किलोमीटर की दूरी पर है, लेकिन पुलिस को इस बारे में कुछ भी पता नहीं चला। थाना प्रभारी विनीत कुमार ने स्वीकार किया कि चीनी नागरिक संदिग्ध गतिविधियों में शामिल है, इसका पता एटीएस के छापे के बाद ही चला।

सूत्रों के मुताबिक चीनी नागरिक के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए बीएसएफ की टीम गुरुग्राम पहुँच सकती है। टीम न केवल होटल का निरीक्षण करेगी बल्कि पारुल लोहिया से भी पूछताछ कर सकती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

समतल कर दिया पैगंबर मुहम्मद की अम्मी-अब्बू का कब्र, बीवी खदीजा का घर बना डाला शौचालय, वो मस्जिद भी बंद… जहाँ पढ़ते थे नमाज:...

वहाबी सुन्नी इस्लाम का सबसे रूढ़िवादी शाखा है। इस्लाम की इस कट्टरपंथी शाखा को वहाबिज्म कहा जाता है, जिसकी स्थापना 18वीं शताब्दी में मुहम्मद इब्न अब्द अल-वहाब ने की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -