Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाArticle 370: जम्मू में धारा-144 हटते ही पटरी पर लौटी ज़िंदगी, स्कूल-कॉलेज पहुँचे छात्र

Article 370: जम्मू में धारा-144 हटते ही पटरी पर लौटी ज़िंदगी, स्कूल-कॉलेज पहुँचे छात्र

जम्मू की सड़कों पर आम दिनों की तरह हलचल देखने को मिली। फ़िलहाल, सभी गतिविधियाँ सामान्य हैं। प्रशासन की नज़र हालात पर लगातार बनी हुई है। इंटरनेट सेवाएँ अभी भी बंद हैं।

जम्मू-कश्मीर को विशेषाधिकार देने वाले अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को ख़त्म करने और इसे दो हिस्से में विभाजित कर केंद्र शासित प्रदेश बनाने के सरकार के फ़ैसले के बाद अब स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है। शुक्रवार (9 अगस्त) की शाम को जम्मू से धारा-144 (चार से अधिक लोगों के एक साथ होने पर रोक) हटा दी गई थी। इससे पहले घाटी की स्थानीय मस्जिदों में जुम्मे की नमाज के लिए कर्फ़्यू में ढील दी गई थी।

जम्मू ज़िले की सुषमा चौहान ने बताया कि धारा-144 के आदेश को जम्मू म्यूनिसिपल से वापस ले लिया गया है। बता दें कि गत 5 अगस्त को वहाँ धारा-144 लगाई गई थी। 

आज (10 अगस्त) जम्मू की सड़कों पर आम दिनों की तरह हलचल देखने को मिली, बच्चे बसों से स्कूल जाते दिखे। फ़िलहाल, सभी गतिविधियाँ सामान्य हैं, लेकिन फिर भी प्रशासन की नज़र हालात पर लगातार बनी हुई है। इंटरनेट सेवाएँ अभी भी बंद हैं।

राज्यपाल सत्यपाल मलिक के अनुसार, श्रीनगर के लोग बकरीद मना सकें इसके लिए प्रशासन ने राज्य में सभी आवश्यक इंतज़ाम कर लिए हैं। उन्होंने बताया कि राज्य में दो महीने का राशन है, पेट्रोल, डीज़ल और एलपीजी का स्टॉक मौजूद है। जम्मू में बकरीद की तैयारियों को लेकर आज दुकानें, बाज़ार खुल गए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe