Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षामंदिर के पास कार ब्लास्ट: मुस्लिम बहुल इलाके में पुलिस की छापेमारी से तनाव,...

मंदिर के पास कार ब्लास्ट: मुस्लिम बहुल इलाके में पुलिस की छापेमारी से तनाव, विदेशी फंडिंग का लिंक खँगालने में जुटी NIA

बता दें कि 24 अक्टूबर 2022 को तमिलनाडु के कोयम्बटूर स्थित कोट्टई ईश्वरम मंदिर के सामने एक कार में ब्लास्ट हुआ था। आशंका है कि दीवाली के दौरान मंदिर को निशाना बनाने की साजिश थी। जमिज़ा मुबीन से 2019 में पुलिस खूँखार आतंकी संगठन ISIS से लिंक्स को लेकर पूछताछ कर चुकी है। मुबीन 25 साल का था और वह इंजीनियरिंग ग्रेजुएट था।

तमिलनाडु के कोयंबटूर विस्फोट (Coimbatore, Tamil Nadu Blast) के मामले में संदिग्धों के घरों में लगभग 5 घंटे तक तलाशी ली। स्थानीय पुलिस के साथ मंगलवार (1 नवंबर 2022) को की गई इस कार्रवाई के दौरान तिरुनेलवेली के मुस्लिम बहुल मेलपालयम इलाके चार मुस्लिम युवकों के घरों की तलाशी ली। इस दौरान इलाके में तनाव फैल गया। वहीं, इस मामले में जमेसा मुबिन द्वारा ली गई फंडिंग पर भी कड़ी नजर रखी जा रही है।

बता दें कि कोयंबटूर के एक मंदिर के बाहर हुए विस्फोट में मुबीन की मौत हो गई थी। जाँच एजेंसियों को आशंका है कि वह आत्मघाती हमलावर था। जाँच के शुरुआती निष्कर्षों में पता चला है कि मुबीन एक कट्टरपंथी था। जाँच एजेंसी इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटकों की खरीद के लिए खर्च की गई राशि को देखते हुए एक बड़ी साजिश की जाँच कर रही है।

मंगलवार की सुबह करीब 7:30 बजे पुलिस ने जैसे ही मेलपालयम के खादर मैदान मूपन स्ट्रीट पर शैब मोहम्मद अली (35), सैयद मोहम्मद बुखारी (36), मोहम्मद अली (38) और मोहम्मद इब्राहिम (37) के घरों में तलाशी के लिए घुसी, इलाके में तनाव फैल गया। मुस्लिम बहुल इलाके में हालात को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया था। इस दौरान किसी को भी घरों से बाहर निकलने या प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई थी।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि मोहम्मद इब्राहिम को 2019 में सऊदी अरब पुलिस ने हिरासत में लिया था और इस्लामिक स्टेट के समर्थन में प्रचार करने के कारण उसे भारत भेज दिया गया था। भारत में आते ही NIA ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। वह हाल ही में जमानत पर बाहर आया था। उसके घर में तलाशी के दौरान कुछ सिम कार्ड एवं अन्य सबूत मिले हैं।

सूत्रों का कहना है कि इस हमले को अंजाम देने के लिए विभिन्न स्रोतों से फंडिंग की गई है। NIA पूछताछ के लिए मोहम्मद तलका, मोहम्मद अजरूदीन, मोहम्मद रियाज, फिरोज इस्माइल, मोहम्मद नवाज इस्माइल और अफसर खान को हिरासत में लेगी। तलका 1998 के कोयंबटूर विस्फोट के मास्टरमाइंड एसए बाशा का भतीजा है। जाँच को सही दिशा देने के लिए इन लोगों से पूछताछ महत्वपूर्ण है।

मृतक आतंकी मुबीन सहित सभी संदिग्ध राज्य की खुफिया विभाग द्वारा बनाई गई 96 लोगों की सूची का हिस्सा हैं। इन पर लंबे समय से निगरानी रखी जा रही है। NIA ने साल 2019 में ईस्टर के मौके पर श्रीलंका में ब्लास्ट के बाद घटना के मास्टरमाइंड जहरान हाशमी से संबंधों को लेकर मुबीन से पूछताछ की थी।

इन आतंकियों के विदेशी संपर्कों की भी गहनता से जाँच की जाएगी। एजेंसी को संदेह है कि फिरोज इस्माइल के विदेशों में संबंध हैं। एजेंसी यह पता लगाने का प्रयास कर रही है कि मौजूदा मामले से कोई संबंध है या नहीं। बता दें कि ब्लास्ट के बाद मृतक आत्मघाती हमलावर मुबीन के घर से 75 किलोग्राम विस्फोटक बरामद किया गया था। कहा जा रहा है कि इन विस्फोटकों से 5 जगहों पर हमले करने की तैयारी थी।

बता दें कि 24 अक्टूबर 2022 को तमिलनाडु के कोयम्बटूर स्थित कोट्टई ईश्वरम मंदिर के सामने एक कार में ब्लास्ट हुआ था। आशंका है कि दीवाली के दौरान मंदिर को निशाना बनाने की साजिश थी। जमिज़ा मुबीन से 2019 में पुलिस खूँखार आतंकी संगठन ISIS से लिंक्स को लेकर पूछताछ कर चुकी है। मुबीन 25 साल का था और वह इंजीनियरिंग ग्रेजुएट था।

उसकी गाड़ी में से लोहे की कई कील भी मिली थीं, जिनका इस्तेमाल सड़क पर गाड़ियों को पंक्चर करने में किया जाता है। साथ ही गाड़ी से कई मार्बल पत्थर भी मिले हैं। NIA ने उक्त आतंकी से पूछताछ तो की थी, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीपफेक वीडियो और ऑनलाइन फेक न्यूज़ पर लगेगी लगाम, ‘मोदी 3.0’ लेकर आ रहा ‘डिजिटल इंडिया बिल’: डेटा प्रोटेक्शन के बाद अब YouTube और...

अमित शाह का वीडियो वायरल कर दिया गया और दावा किया गया कि वो आरक्षण खत्म करने की बात कर रहे हैं। कई हस्तियाँ डीपफेक की शिकार बन चुकी हैं।

कश्मीर को अलग बताने वाली अरुंधति रॉय ने गुजरात दंगों को लेकर भी बोले थे झूठ: एहसान जाफरी की बेटियों से रेप और जिंदा...

साल 2002 के गुजरात दंगों को अरुंधति रॉय ने अपने लेख के जरिए कई तरह के झूठ और भ्रम फैलाने की कोशिश की थी। इसके लिए उन्हें माफी भी माँगनी पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -