Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा'सीमा पार आतंकवाद और ISIS मानवता के लिए सबसे बड़ी चुनौती': NSA अजीत डोभाल...

‘सीमा पार आतंकवाद और ISIS मानवता के लिए सबसे बड़ी चुनौती’: NSA अजीत डोभाल ने लगाई उलेमाओं की ‘क्लास’, समझाया क्या होता है ‘जिहाद’

इस दौरान इंडोनेशिया के एनएसए महमूद मोहम्मद भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि युवकों की ऊर्जा को सही दिशा देने की ज़रूरत है। मजहब का संकीर्ण प्रयोग नहीं होना चाहिए।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल (Ajit Doval) ने सीमा पार आतंकवाद और आईएसआईएस (ISIS) से प्रेरित आतंकवाद को मानवता के खिलाफ सबसे बड़ी चुनौती करार दिया। उन्होंने कहा कि इस्लाम में जिहाद का मतलब इंद्रियों और अहंकार के खिलाफ लड़ाई है, न कि निर्दोषों के खिलाफ।

उन्होंने कहा कि अतिवाद और कट्टरता, धर्म का बिगड़ा हुआ रूप हैं। इनके खिलाफ लड़ाई को धर्म विशेष के लिए टकराव के तौर पर नहीं देखना चाहिए। डोभाल ने नई दिल्ली में मंगलवार (29 नवंबर 2022) को भारत और इंडोनेशिया के बीच एक दूसरे के धर्म के प्रति शांति और सामाजिक सद्भाव को बनाए रखने में उलेमाओं की भूमिका पर आयोजित चर्चा के दौरान यह बात कही।

इस दौरान इंडोनेशिया के एनएसए महमूद मोहम्मद भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि युवकों की ऊर्जा को सही दिशा देने की ज़रूरत है। मजहब का संकीर्ण प्रयोग नहीं होना चाहिए। प्रोपेगेंडा और नफरत से निपटने के लिए उलेमा को टेक्नोलोजी का भी प्रयोग करना चाहिए। इसके साथ ही, उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में हेट स्पीच, पक्षपात, प्रोपेगेंडा, हिंसा और धर्म के दुरुपयोग का कोई स्थान नहीं।

उन्होंने भारत व इंडोनेशिया के बीच पारस्परिक शांति और सामाजिक सद्भाव को बढ़ावा देने में उलेमाओं की भूमिका की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस्लाम के मूल सहिष्णु और उदारवादी सिद्धांतों पर लोगों को शिक्षित करने और प्रगतिशील विचारों से अवगत कराने में उलेमाओं की अग्रणी भूमिका है। डोभाल ने कहा, “दोनों देश (भारत और इंडोनेशिया) आतंकवाद और अलगाववाद के शिकार रहे हैं। हालाँकि, हमने चुनौतियों पर काफी हद तक काबू पा लिया है, लेकिन सीमा पार आतंकवाद और आईएसआईएस प्रयोजित आतंकवाद आज भी एक खतरा बना हुआ है।”

डोभाल ने इंडोनेशिया में हाल ही में आए भूकंप में मारे गए लोगों के प्रति भी संवेदना जाहिर की। एनएसए ने कहा, ”इंडोनेशिया में हाल ही में आए भूकंप से जान-माल के नुकसान से हम सभी को दुख हुआ है। हमें भूकंप पीड़ितों और उनके परिवारों के प्रति गहरी संवेदना है। हम घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं। दुख की इस घड़ी में भारत इंडोनेशिया के साथ खड़ा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -