Thursday, January 28, 2021
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा प्रिय होम मिनिस्टर, आतंकियों की लाशें परिवार को सौंप कर उन्हें हीरो बनाना कब...

प्रिय होम मिनिस्टर, आतंकियों की लाशें परिवार को सौंप कर उन्हें हीरो बनाना कब बंद होगा?

बुरहान वनी को मारोगे तो मूसा आ जाएगा, मूसा को मारोगे तो कोई बिल्ला आ जाएगा, बिल्ला को मारोगे तो कोई टाइगर आ जाएगा। ये अनवरत चलता रहेगा। ये अनवरत इसलिए चलता रहेगा क्योंकि इनकी लाशों को, इनकी क़ब्रों को हमारी मानवीय नीतियों ने पर्यटन स्थल और हीरो का दर्जा दे दिया है।

एक तरफ मजहबी उन्माद है जो मानता है कि एक पीढ़ी खप जाए, दो पीढ़ी खप जाए, तीन खपे, चार हो जाए, दो सौ साल लगें लेकिन हम अपना झंडा गाड़ेंगे। और दूसरी तरफ आपकी लड़ाई है कि कभी आप उन्हें बच्चा समझ कर छोड़ देते हैं, कभी रमज़ान में सीजफायर करके उन्हें फिर से संगठित होने का मौका देते हैं, कभी उनके आतंकी बच्चों की लाशों को सौंपते हैं परिवारों को ताकि आतंकियों को समर्थन देने वाला पूरा समुदाय 20-30 हज़ार की भीड़ बन कर आपको यह संदेश देता रहे कि एक पीढ़ी खप जाए, दो पीढ़ी खप जाए, तीन खपे, चार हो जाए, दो सौ साल लगें लेकिन हम अपना झंडा गाड़ेंगे।

अगर भारतीय सुरक्षा नीति इस हिसाब से चलती रही तो इसी तरह की खबरें हम पढ़ते रहेंगे कि इस साल 101 आतंकी मारे जा चुके हैं लेकिन नई भर्तियों से सुरक्षा बल चिंतित है। ये सुरक्षा नीति नहीं, ये तो प्रोटेक्शन देना है एक क़ातिल, आतंकी विचारधारा को जिसे आप मानवतावाद का पाठ पढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं, और वहीं, उसी के मज़हब के तमाम नेता उसे ‘साहब’ कह कर बुलाने से लेकर ‘माटी के सपूत’ और पता नहीं क्या-क्या कहते फिरते हैं।

पहले पाँच साल समझ सकता हूँ कि प्राथमिकताएँ अलग थीं क्योंकि फर्जी मानवाधिकारों की लॉबी को भी देखना था, उनके नैरेटिव को भी काटना था, आतंकियों को रोकना भी था और उन लोगों को मौका भी नहीं देना था जो एक सामाजिक अपराध को राजनीति का रंग देकर वैश्विक मंच पर राष्ट्र की छवि बर्बाद करते हैं। यहाँ तक तो समझा जा सकता है, और उन पाँच सालों तक लोगों ने इंतजार किया, और आपको फिर से वोट देकर सत्ता दी कि कुछ घावों को कैंसर बनने से पहले ही सही दवाई दे दी जाए।

आतंकियों को लगातार मारते रहना, घर में घुस कर ब्लैकमेल करे तो घर को ही आग लगा देना, पैलेट गन से पत्थरबाज़ों को तितर-बितर करना, आफ्स्पा में ढिलाई न बरतना आदि वो नीतियाँ थीं जो पहले पाँच सालों में दिखीं, और काफी हद तक आतंकी गतिविधियों में कमी आई जिसके कारण कई बार बम विस्फोट से लेकर कई आतंकी घटनाएँ आम हुआ करती थीं। इसका भी क्रेडिट इसी सरकार को जाता है।

लेकिन, इस दूसरे कार्यकाल में इन आतंकियों को हीरो बनाने से रोकना एक प्राथमिकता होनी चाहिए। जिसने निर्दोषों को क़त्ल के लिए बंदूक उठा ली, वो मानव नहीं है। जो मानव नहीं है, उसके न तो अधिकार हैं, न परिवार। ऐसे दरिंदों को न सिर्फ बहुत क्रूर सजा मिलनी चाहिए, बल्कि अगर वो मुठभेड़ में मारा जाए तो उसकी लाशों को परिवार को सौंपने की जगह अनाम जगहों पर फेंक दिया जाना चाहिए। हाँ, यह भी ध्यान रहे कि उस आतंकी की लाश का एक टुकड़ा भी किसी जीव के मुँह में न जाए, क्योंकि वो उस जीव के अधिकारों का हनन होगा। उस लाश को नष्ट कर दिया जाना चाहिए। पूरी तरह से जला देना भी एक उचित तरीके हो सकता है।

मेरे इन विचारों से कुछ लोग असहमत हो जाएँगे कि मैं लाशों को जलाने कह रहा हूँ। मुझे इसमें कोई समस्या नहीं दिखती क्योंकि आतंकियों का कोई मज़हब नहीं होता, तो उनकी लाशों को नष्ट करने के लिए जलाना, पानी में डुबाना या किसी निर्जन जगह पर फेंक देना भी एक बेहतर विकल्प है।

प्रश्न यह है कि आखिर ऐसा करना ज़रूरी क्यों है? ज़रूरी इसलिए है कि ये आतंकी रक्तबीज साबित हो रहे हैं। बुरहान वनी को मारोगे तो ज़ाकिर मूसा आ जाएगा, मूसा को मारोगे तो कोई बिल्ला आ जाएगा, बिल्ला को मारोगे तो कोई टाइगर आ जाएगा। ये अनवरत चलता रहेगा। ये अनवरत इसलिए चलता रहेगा क्योंकि इनकी लाशों को, इनकी क़ब्रों को हमारी मानवीय नीतियों ने पर्यटन स्थल और हीरो का दर्जा दे दिया है।

जब एक राष्ट्र के तौर पर हमारी नीति साफ है कि कश्मीर जो हो रहा है वो आतंकी गतिविधि है, हमारे देश की अखंडता पर प्रहार की कोशिश है, तो फिर उसी नीति का हिस्सा नए आतंकियों को पैदा करने में मदद कैसे कर रहा है? आखिर हम इस बात को कैसे नकार रहे हैं कि इनकी लड़ाई कश्मीर या कश्मीरियत की नहीं, बल्कि इस्लामी ख़िलाफ़त की है? क्या इनकी लाशों के साथ चलने वाली भीड़ में आईसिस का काला झंडा नहीं दिखता?

पिछले पाँच सालों में जबसे सेना और सशस्त्र बलों ने, जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ, ऑपरेशन किए हैं, और लगातार आतंकियों को ढेर किया है, तब से इन आतंकियों की योजना बदल गई है। पहले ये कश्मीरी लोगों को नहीं मारते थे। लेकिन, जब इनके पास कुछ और करने को नहीं बचा तो इन्होंने न सिर्फ कश्मीरी सैनिकों को मारा, बल्कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के अफ़सरों को भी मारने लगे।

ज़ाहिर है कि ये लड़ाई कश्मीर के नाम तो नहीं ही लड़ी जा रही। ये लड़ाई तो सांकेतिक जीत के लिए है कि भारत के एक हिस्से पर इस्लाम का ‘अल्लाहु अकबर’ लिखा काला झंडा लहराया जा सकता है, बाकी भारत भी तैयार रहे। कश्मीर के आतंकी तो इसलिए लगातार अपनी जान दे रहे हैं ताकि इनके तथाकथित आंदोलन को बाकी लोग, जो दिल में भारत को इस्लामी ख़िलाफ़त के अंदर होते देखना चाहते हैं, एक उदाहरण के तौर पर देखें।

आप कश्मीरी हिन्दुओं को तो कश्मीर दे नहीं सके, कश्मीर को उसके अपने संविधान और दंड विधान से बाहर लाकर भारतीय संविधान और इंडियन पीनल कोड के नीचे तो ला नहीं सके, लेकिन हर वो काम किया है जिससे भारत-विरोधी भावना भड़कती रहे। जब हमारी नीति स्पष्ट है कि कश्मीर में जो हथियार के साथ आंदोलन कर रहे हैं, वो आतंकी हैं, तो फिर उनकी लाशों को परिवारों को किस हिसाब से दिया जाता है?

अब भारत की जनता ने दोबारा बहुमत देकर मोदी सरकार को कुछ वैसे वायदे पूरे करने की उम्मीद जताई है जो किन्हीं कारणों से पिछले पाँच सालों में पूरी नहीं हो सकी। 370 एक बेकार और मरी हुई चर्चा है, उसे ख़त्म करना आवश्यक है। 35A कई मायनों में राष्ट्रीयता और ‘एक भारत’ के विचार से बुनियादी तौर पर ही उल्टा है। इन्हें ख़त्म करके कश्मीरियों को मुख्यधारा में लाया जाए। अगर ऐसे कानून वहाँ रहेंगे तो आप खूब आईआईटी और आईआईएम खोल दीजिए, सेंट्रल यूनिवर्सिटी बना दीजिए, वहाँ जाएगा कौन?

आशा है कि नई सरकार, अपने इरादे स्पष्ट करते हुए, आतंकी को आतंकी कहे और उनके साथ वही व्यवहार करे जिससे वो जनमानस में कुछ भी बन जाएँ, हीरो तो न बनें। आज विरोध में खड़ी मीडिया पर से लोगों का विश्वास उठ चुका है और उनके नैरेटिव को अब कोई सीरियसली लेता नहीं। उन्हें पढ़ने और देखने वालों में से भी एक बड़ा हिस्सा उन्हें या तो बरनॉल देने जाता है, या फिर वहाँ दिल खोल कर उन्हें लताड़ता है।

इस लिहाज से भी यह मौका उचित है कि इस तरह की मीडिया की पूर्ण उपेक्षा करते हुए, मजबूत क़दम उठाए जाएँ ताकि लोकतांत्रिक भारत का लोकतंत्र सही मायनों में हर जगह स्थापित हो सके और इसकी अखंडता सुनिश्चित रहे। इसके लिए आतंकियों को आयकॉनिफाय करने की जगह, उन्हें लगातार गायब किया जाए। बस एक संख्या बता दी जाए कि इतने लोग आज मारे गए। वो लोग कौन थे, यह बात कम से कम तीन दशक तक क्लासिफाइड सूचना बन कर रहे। उनकी लाश कहाँ है, उसके साथ क्या किया जाए, ये सारी सूचना सार्वजनिक न की जाए।

इससे ‘गजवा-ए-हिंद’ का नारा लगाती, आतंकियों के जनाजों के चारों तरफ सफ़ेद टोपियों की मातमी भीड़ चिल्लाते हुए भारत-विरोधी नारे लगाने की बजाए सफ़ेद तख़्तियों पर गायब आतंकियों की फोटो के साथ किसी चौक पर कभी-कभार इकट्ठे दिखेंगे। वो दृश्य उन परिवारों का, उन समुदायों का, उन गाँवों का मनोबल तोड़ेगा जिसके लोग यह सोचते हैं कि एके सैंतालीस उठा कर किसी की हत्या कर देना नेक काम है। ये उनका मनोबल नीचे करेगा जो सोचते हैं कि आतंकियों के मानवाधिकार होते हैं, जो कॉलम लिखते हैं, जो इनके हिमायती बन कर कोरस में विलाप करते हैं।

अगर इन आतंकियों को सिर्फ एक संख्या के रूप में, साल के अंत में जारी किया जाएगा, और इनकी लाशों को ऊपर बताए तरीक़ों से निपटा जाएगा, तो रक्तबीज का रक्त ज़मीन पर नहीं गिरेगा। वो सेना के खप्पर में ही रहेगा, जिसे सेना जैसे चाहे निपट लेगी। हमारी सेना दुश्मनों की भी लाशों का सम्मान करती है, कश्मीरी तो फिर भी अपने हैं। उनके परिवारों को बता देगी आपका लड़का आतंकी था, वो अपनी तय जगह पहुँचा दिया गया है, आप अपने आप को संभालिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पैंट की चेन खोल 5 साल की बच्ची का हाथ पकड़ना यौन शोषण नहीं: ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के बाद बॉम्बे HC का फैसला

स्तन दबाने के मामले में ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट सुनाने के बाद अब बताया गया है कि यदि किसी नाबालिग के सामने कोई पैंट की जिप खोल दे, तो वो...

मैंने राज खोले तो भागने का रास्ता नहीं मिलेगा: आधी रात फेसबुक लाइव से दीप सिद्धू ने ‘घमंडी किसान’ नेताओं को दी धमकी

गद्दार कहे जाने से नाराज दीप सिद्धू ने किसान नेताओं को चेतावनी दी कि अगर उन्होंने अंदर की बातें खोलनी शुरू कर दी तो इन नेताओं को भागने की राह नहीं मिलेगी।

जेल में ही रहेगा मुनव्वर फारुखी, हाई कोर्ट से जमानत याचिका खारिज: कॉमेडी के नाम पर हिंदू देवी-देवताओं को देता था गाली

हिंदू देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाला मुनव्वर फारुखी अभी कुछ और दिन जेल में रहेगा। हाईकोर्ट ने उसकी जमानत...

व्यंग्य: गेहूँ काटते किसान को फोटो एडिट कर दिखाया बैरिकेड पर, शर्म करो गोदी मीडिया!

एक पुलिसकर्मी शरबत पिलाने और लंगर खिलाने के बाद 'अन्नदाताओं' को धन्यवाद दे रहा है। लेकिन गोदी मीडिया ने उन्हें दंगाई बता दिया।

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से दान किए ₹1 करोड़, 1 लाख

योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़, 1 लाख रुपए अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि निर्माण निधि समर्पण के रूप में दान किए।

जिस राम मंदिर झाँकी को किसान दंगाइयों ने तोड़ डाला, उसे प्रथम पुरस्कार: 17 राज्यों ने लिया था हिस्सा

17 राज्यों की झाँकियों ने 26 जनवरी को राजपथ की परेड में हिस्सा लिया था। इनमें से उत्तर प्रदेश की ओर से आए भव्य राम मंदिर के मॉडल को...

प्रचलित ख़बरें

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

व्यंग्य: गेहूँ काटते किसान को फोटो एडिट कर दिखाया बैरिकेड पर, शर्म करो गोदी मीडिया!

एक पुलिसकर्मी शरबत पिलाने और लंगर खिलाने के बाद 'अन्नदाताओं' को धन्यवाद दे रहा है। लेकिन गोदी मीडिया ने उन्हें दंगाई बता दिया।

UP पुलिस ने शांतिपूर्ण तरीके से हटाया ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को, लोग कह रहे – बिजली काट मार-मार कर भगाया

नेशनल हाईवे अथॉरिटी के निवेदन पर बागपत प्रशासन ने किसान प्रदर्शकारियों को विरोध स्थल से हटाते हुए धरनास्थल को शांतिपूर्ण तरीके से खाली करवा दिया है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।
- विज्ञापन -

 

मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला राहुल गाँधी से करना चाहती थी शादी, एयरपोर्ट पर पुलिस ने रोका

इंदौर के देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट पर एक महिला ने खूब हंगामा किया। उसका कहना था कि उसे राहुल गाँधी से शादी करने दिल्ली जाना है।

केजरीवाल सरकार दिल्ली दंगो के आरोपितों को बचा रही, जमानत के लिए छिपाई जानकारी: दिल्ली पुलिस

याचिका में दिल्ली पुलिस ने आरोप लगाया कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार के वकील ने खुफ़िया एजेंसियों को धोखे में रखा और सही जानकारी को रोके रखा।

पैंट की चेन खोल 5 साल की बच्ची का हाथ पकड़ना यौन शोषण नहीं: ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के बाद बॉम्बे HC का फैसला

स्तन दबाने के मामले में ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट सुनाने के बाद अब बताया गया है कि यदि किसी नाबालिग के सामने कोई पैंट की जिप खोल दे, तो वो...

‘अयोध्या की मस्जिद में नमाज पढ़ना हराम, चंदा देना हराम… इस्लाम के सभी उलेमाओं ने बताया हराम’

AIMIM के ओवैसी ने अयोध्या की मस्जिद पर बयान दिया। उनका कहना है कि यह ‘मस्जिद-ए-ज़ीरार’ है और उसमें नमाज़ पढ़ना हराम है।

मैंने राज खोले तो भागने का रास्ता नहीं मिलेगा: आधी रात फेसबुक लाइव से दीप सिद्धू ने ‘घमंडी किसान’ नेताओं को दी धमकी

गद्दार कहे जाने से नाराज दीप सिद्धू ने किसान नेताओं को चेतावनी दी कि अगर उन्होंने अंदर की बातें खोलनी शुरू कर दी तो इन नेताओं को भागने की राह नहीं मिलेगी।

जेल में ही रहेगा मुनव्वर फारुखी, हाई कोर्ट से जमानत याचिका खारिज: कॉमेडी के नाम पर हिंदू देवी-देवताओं को देता था गाली

हिंदू देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाला मुनव्वर फारुखी अभी कुछ और दिन जेल में रहेगा। हाईकोर्ट ने उसकी जमानत...

16 साल की लड़की का ‘रेप’, शादी का ऑफर और निकाहशुदा अपराधी को बेल क्योंकि उसके मजहब में…

25 वर्षीय निकाहशुदा आरोपित की रिहाई की माँग करते हुए उसके वकील ने अदालत के सामने कहा, "आरोपित के मज़हब में एक से ज़्यादा निकाह..."

व्यंग्य: गेहूँ काटते किसान को फोटो एडिट कर दिखाया बैरिकेड पर, शर्म करो गोदी मीडिया!

एक पुलिसकर्मी शरबत पिलाने और लंगर खिलाने के बाद 'अन्नदाताओं' को धन्यवाद दे रहा है। लेकिन गोदी मीडिया ने उन्हें दंगाई बता दिया।

मुंबई कर्नाटक का हिस्सा, महाराष्ट्र से काट कर केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाए: गरमाई मराठी-कन्नड़ राजनीति

"मुंबई कर्नाटक का हिस्सा है। कर्नाटक के लोगों का मानना है कि मुंबई लंबे समय तक कर्नाटक में रही है, इसलिए मुंबई पर उनका अधिकार है।"

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से दान किए ₹1 करोड़, 1 लाख

योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़, 1 लाख रुपए अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि निर्माण निधि समर्पण के रूप में दान किए।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe