Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजनेपाल के रास्ते पाकिस्तान भागने की फिराक में था नौशाद: लश्कर के आतंकियों अशफाक-सुहैल...

नेपाल के रास्ते पाकिस्तान भागने की फिराक में था नौशाद: लश्कर के आतंकियों अशफाक-सुहैल से संपर्क में था, नेपाली अधिकारी को खिलाई थी रिश्वत

नौशाद लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी अशफाक और सुहैल के संपर्क में था। सुहैल ने पंजाब के कुछ बड़े नेताओं को निशाना बनाने की योजना तैयार की थी।

दिल्ली के जहाँगीरपुरी के भलस्वा डेयरी क्षेत्र से पकड़े गए आतंकियों नौशाद और जगजीत सिंह जग्गा से पूछताछ में बड़े खुलासे हो रहे हैं। नौशाद से पूछताछ में पता चला है कि वह नेपाल के रास्ते पाकिस्तान जाना चाहता था। रिश्वतखोर नेपाली अधिकारी के पकड़े जाने के कारण ऐसा नहीं हो सका। पता चला है कि नौशाद, अशफाक और सुहैल जैसे पाकिस्तानी आतंकियों के संपर्क में था। आतंकी पंजाब में बड़े नेताओं को निशाना बनाना चाहते थे।

पकड़े गए आतंकी नौशाद ने पूछताछ के दौरान जानकारी दी कि हत्या के आरोप में 25 सालों से ज्यादा समय तक जल में रहने के दौरान उसकी जान-पहचान कई आतंकियों से हुई थी। वह साल 2018 में जेल से रिहा हुआ था। रिहाई के बाद से ही वह आतंकियों के संपर्क में आना चाहता था। यहाँ तक की वर्ष 2019 में वह दो बार नेपाल गया था। नेपाल से पासपोर्ट हासिल कर वह पाकिस्तान जाना चाहता था। जिस नेपाली अधिकारी के जरिए नौशाद अपना नेपाली पासपोर्ट बनवा रहा था वो रिश्वतखोरी के आरोप में गिरफ्तार हो गया और नौशाद पाकिस्तान नहीं जा सका।

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, नौशाद लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी अशफाक और सुहैल के संपर्क में था। सुहैल ने पंजाब के कुछ बड़े नेताओं को निशाना बनाने की योजना तैयार की थी। दिल्ली पुलिस की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, जेल में सजा के दौरान ही वह पाकिस्तानी आतंकियों के संपर्क में आया था और उनके लिए काम करने लगा था।

बता दें कि 12 जनवरी, 2023 को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने नौशाद और जगजीत सिंह जग्गा को गिरफ्तार किया था। दोनों ने हिंदू युवक के हत्या की बात कबूली थी। नौशाद ने आतंकी संगठन आईएसआईएस से प्रेरित होकर हिंदू युवक की हत्या कर सिर काट दिया था और इस कृत्य का वीडियो भी बनाया था। रिपोर्टों के मुताबिक, इस वीडियो को उसने पाकिस्तान स्थित अपने आका सुहैल को भेजा था। नौशाद और जगजीत की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने घर और आसपास की तलाशी के दौरान यह युवक का शव बरामद किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -