Wednesday, July 24, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षादिग्गी राजा के 'शांतिदूत' ज़ाकिर नाइक के भारतीय खाते में किसी ने डाले ₹49...

दिग्गी राजा के ‘शांतिदूत’ ज़ाकिर नाइक के भारतीय खाते में किसी ने डाले ₹49 करोड़, ED का नया ख़ुलासा

प्रवर्तन निदेशालय के अनुसार, ज़ाकिर नाइक के पास आय का कोई ज्ञात स्रोत नहीं है, फिर भी उसके भारतीय बैंक खाते में 49 करोड़ रुपए कैसे डाले गए? उसकी संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के पास ₹100 करोड़ से भी ज्यादा की अचल संपत्ति है।

इस्लामिक उपदेशक और भगोड़ा ज़ाकिर नाइक के पास इनकम का कोई स्रोत नहीं है, फिर भी उसके खाते में 49 करोड़ रुपए डाले गए। प्रवर्तन निदेशालय के अनुसार, ज़ाकिर नाइक के पास आय का कोई ज्ञात स्रोत नहीं है, फिर भी उसके भारतीय बैंक खाते में 49 करोड़ रुपए कैसे डाले गए? प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने विशेष अदालत में ज़ाकिर नाइक के ख़िलाफ़ दायर किए गए आरोप-पत्र में यह दावा किया है। जस्टिस एमएस आज़मी ने ज़ाकिर नाइक के ख़िलाफ़ प्रवर्तन निदेशालय द्वारा मनी लॉन्ड्रिंग क़ानून रोकथाम अधिनियम के तहत दाखिल आरोपपत्र का संज्ञान लिया। भगोड़ा ज़ाकिर नाइक अभी मलेशिया में रह रहा है और उसकी वीडियोज में भड़काऊ चीजें होती हैं।

अभी हाल ही में केरल में एक आतंकी की गिरफ़्तारी भी हुई है, जो ज़ाकिर नाइक के वीडियो देख-देख कर आत्मघाती हमलावर बनने की योजना बना रहा था। प्रवर्तन निदेशालय ने कहा है कि ज़ाकिर नाइक के पास कारोबार, रोज़गार या फिर व्यापार से आय का कोई स्रोत नहीं है। ऐसी स्थिति में भी वह अपने खाते में कहाँ से और क्यों 49.2 करोड़ रुपए ट्रांसफर करने में कामयाब रहा, सरकारी एजेंसियाँ इसका पता लगा रही हैं। केंद्रीय जाँच एजेंसी अब तक नाइक के दो सहयोगियों आमिर गजदार और नज़मुद्दीन साथक को गिरफ्तार कर चुकी है। गैर-क़ानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम के तहत नाइक के ख़िलाफ़ 2016 में मामला दर्ज किया गया था।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी की प्राथमिकी के आधार पर यह कार्रवाई की गई थी। ख़बरों के मुताबिक़ नाइक की अब तक जितनी संपत्ति ज़ब्त की गई है, उसके पास उस से कहीं ज्यादा संपत्ति अभी भी मौजूद है। उसकी संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के पास ₹100 करोड़ से भी ज्यादा की अचल संपत्ति है। इस से पहले भी ED उसकी संपत्ति को ज़ब्त कर चुका है। 2017 में ED ने उसकी और उस से जुड़ी संस्था की ₹18 करोड़ से भी अधिक की सम्पत्तियों को ज़ब्त किया था।

सरकार ने ज़ाकिर नाइक की संस्था को ग़ैरक़ानूनी करार देकर प्रतिबंधित किया हुआ है। कुल मिलाकर देखा जाए तो सरकारी एजेंसियाँ अब तक नाइक की ₹50 करोड़ से भी अधिक की संपत्ति ज़ब्त कर चुकी है। वित्त मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाली एजेंसी ED के मुताबिक़ ये कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी। श्री लंका में हुए हमलों के बाद वहाँ ज़ाकिर नाइक के पीस टीवी नामक चैनल को प्रतिबंधित कर दिया गया था। इस बारे में बात करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर तंज कसा था और कहा था कि दिग्गी राजा तो ज़ाकिर नाइक को अपने कंधे पर बिठा कर चलते हैं। उन्होंने कहा था कि कॉन्ग्रेस नेता ज़ाकिर के दरबार में जाकर उसकी तारीफ़ करते नहीं थकते थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -