Friday, April 19, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाफुटबॉलर से जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी बना आमिर सिराज एक पाकिस्तानी आतंकी के साथ ढेर,...

फुटबॉलर से जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी बना आमिर सिराज एक पाकिस्तानी आतंकी के साथ ढेर, जुलाई से ही था लापता

वर्ष 2020 में सुरक्षा बल दर्जनों स्थानीय युवाओं को सफलतापूर्वक आतंकवादी शिविरों से वापस लाने और उन्हें मनाने में कामयाब रहे। उन्होंने इसी तरह का अवसर आमिर सिराज को भी दिया, लेकिन उसने स्पष्ट इंकार कर दिया।

सुरक्षा बलों ने बृहस्पतिवार (दिसंबर 24, 2020) को उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकवादियों को मार गिराया। जहाँ एक मारे गए आतंकवादी की पहचान पाकिस्तानी के रूप में हुई है, वहीं दूसरा आतंकी कॉलेज में पढ़ रहा एक छात्र अमीर सिराज नाम का फुटबॉलर था। आमिर सिराज जुलाई 02, 2020 से ही लापता बताया जा रहा था।

रिपोर्ट्स के अनुसार, सोपोर में एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि आमिर 6 महीने पहले लापता हो गया था। उन्होंने बताया कि आमिर फुटबॉल खेलने के लिए सोपोर के आदिपोरा में अपने मामा के घर से जाने के बाद गायब हो गया था और उसके बाद कभी घर नहीं लौटा। बाद में उन्हें पता चला कि वह जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हो गया था।

वर्ष 2020 में सुरक्षा बल दर्जनों स्थानीय युवाओं को सफलतापूर्वक आतंकवादी शिविरों से वापस लाने और उन्हें मनाने में कामयाब रहे हैं। सुरक्षाबलों ने इसी तरह का अवसर आमिर सिराज को भी दिया, लेकिन उसने स्पष्ट इंकार कर दिया।

जिस ऑपरेशन में आमिर सिराज मारा गया था, वह जम्मू-कश्मीर के बारामुला जिले के वानीगम क्रीरी इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी के संबंध में एक विशिष्ट इनपुट पर कार्रवाई करते हुए बारामूला पुलिस, 29RR और 176Bn CRPF द्वारा संयुक्त कॉर्डन और सर्च ऑपरेशन के तहत किया गया था।

जब सुरक्षाबलों को पता चला कि आतंकवादी एक घर के अंदर छिपे हुए हैं, तो उन्होंने उन्हें आत्मसमर्पण करने का भी मौका दिया। लेकिन आतंकवादियों ने आत्मसमर्पण के बजाय संयुक्त खोज दल पर अंधाधुंध गोलियाँ बरसानी शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई के साथ ही मुठभेड़ शुरू हो गई। कई घंटे तक चली मुठभेड़ में सुरक्षाबलों को दो आतंकियों को मार गिराने में सफलता मिली।

मारे गए जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों में एक शीर्ष कमांडर भी शामिल है। मारे गए आतंकियों की पहचान पाकिस्तान के अबरार उर्फ लंगू और सोपोर के आमिर सिराज के रूप में हुई। अधिकारियों ने बताया कि दोनों आतंकवादी इस क्षेत्र में हुई कई आतंकवादी घटनाओं में शामिल थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा चुनाव 2024: पहले चरण में 60+ प्रतिशत मतदान, हिंसा के बीच सबसे अधिक 77.57% बंगाल में वोटिंग, 1625 प्रत्याशियों की किस्मत EVM में...

पहले चरण के मतदान में राज्यों के हिसाब से 102 सीटों पर शाम 7 बजे तक कुल 60.03% मतदान हुआ। इसमें उत्तर प्रदेश में 57.61 प्रतिशत, उत्तराखंड में 53.64 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe