Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाखालिस्तानियों को वीजा, आतंकियों को समर्थन, किसान आंदोलन की फंडिंग: कनाडा के राजनयिकों को...

खालिस्तानियों को वीजा, आतंकियों को समर्थन, किसान आंदोलन की फंडिंग: कनाडा के राजनयिकों को इसलिए भेजा गया वापस

“उन्होंने लोगों को उनकी पृष्ठभूमि जानने के बावजूद वीजा दिया। ऐसे वीजा पाने वाले कई लोग कनाडा में आपराधिक गतिविधियों में शामिल हैं। ये वीज़ा सिर्फ खालिस्तानी उद्देश्य के समर्थन के लिए दिए गए थे ताकि आंदोलन को अधिक से अधिक मजबूती मिल सके।”

कनाडा चाहे भारत से उसके डिप्लोमैट्स को वापस भेजने को लेकर कितना ही हो हल्ला मचा ले, सच तो ये है कि भारत सरकार के पास उसके डिप्लोमेट्स के गलत कामों में जुड़े होने के सबूत हैं। कनाडा के डिप्लोमैट्स ने भारत के आतंरिक मामलों में दखलअंदाजी की है, जिसके पुख्ता सुबूत हैं। इसी आधार पर भारत ने उन्हें देश छोड़कर जाने को कहा।

न्यूज़18 ने टॉप सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया है कि कनाडा के राजनयिक चंडीगढ़ और पंजाब के अन्य क्षेत्रों में विभिन्न वाणिज्य दूतावासों में अपनी शक्तियों का बेजा इस्तेमाल कर रहे थे। रिपोर्ट के मुताबिक, कनाडाई राजनयिक वीजा देने के मामले में “बेहद नरम” थे और जानबूझकर ऐसे लोगों को वीजा देते थे, जो आपराधिक पृष्ठभूमि वाले लोगों को जानते थे और खालिस्तानी आतंकियों का समर्थन करते थे। उन्होंने खालिस्तानी मुद्दे के लिए समर्थन बढ़ाने के लिए उन्हें वीजा दिया।

सूत्रों ने कहा, “कई मौकों पर कनाडाई राजनयिक वीज़ा प्रक्रिया को लेकर बहुत नरम रहे। जाँच के दायरे में आए कुछ लोगों को और जिन्हें एजेंसियों की तरफ से कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता था, उन्हें जानबूझकर कनाडा भेजने के लिए वीजा दिया गया था।”

न्यूज़18 ने सरकारी सूत्रों के हवाले से कहा, “उन्होंने लोगों को उनकी पृष्ठभूमि जानने के बावजूद वीजा दिया। ऐसे वीजा पाने वाले कई लोग कनाडा में आपराधिक गतिविधियों में शामिल हैं। ये वीज़ा सिर्फ खालिस्तानी उद्देश्य के समर्थन के लिए दिए गए थे ताकि आंदोलन को अधिक से अधिक मजबूती मिल सके।”

कथित तौर पर भारत सरकार के पास इस बात के सबूत हैं कि कैसे कनाडाई सरकार ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन का समर्थन किया था। उन्होंने कहा कि यह उन विषयों में से एक था, जहाँ वे (कनाडाई पक्ष का जिक्र करते हुए) प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर से शामिल थे और उन्होंने इसे लेकर कनाडा में प्रवासी भारतीयों और भारत में किसानों को भड़काया था।

सूत्रों ने कहा, “प्रवासी भारतीयों को भड़का कर उन्होंने भारत में आंदोलन के लिए फंडिंग का इंतजाम किया। यह बिल्कुल वैध लग रहा था, लेकिन अगर हम एक परिवार के लिए आने वाले नियमित पैसे को देखें तो अचानक वो 10 से 20 गुना बढ़ गया था।”

बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा, “पंजाब सरकार के कार्यालयों के साथ उनकी (कनाडाई राजनयिकों की) बैठकें लगातार होती थीं, जो गलत थीं। कुछ मौकों पर, कुछ लोगों ने कनाडाई अधिकारियों की मंशा के बारे में एजेंसियों को औपचारिक और अनौपचारिक तौर से जानकारी भी दी थी।

सूत्रों ने इस बात पर भी जोर दिया कि भारत ने काफी सोचने-विचारने, भारतीय खुफिया एजेंसियों के पेश सुबूतों की जाँच और जमीनी कार्रवाई के बाद ही कनाडाई सरकार से अपने 41 राजनयिकों को वापस बुलाने के लिए कहा।

सूत्रों के मुताबिक, कनाडा कुछ मामलों में भारत को प्रत्यर्पण में मदद करने से भी इनकार करता रहा है। इसके अलावा वो भारत को उन लोगों की जाँच करने में मदद नहीं कर रहा था, जिन्होंने कनाडा में जाकर शरण ली थी।

यहाँ ध्यान देने कि बात यह है कि 22 अक्टूबर 2023 को विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने बताया था कि भारत के पास कनाडा सरकार के भारत के मामलों में लगातार हस्तक्षेप के सबूत हैं। भारतीय मामलों में कनाडाई राजनयिक हस्तक्षेप के बारे में उन्होंने कहा कि महत्वपूर्ण मात्रा में जानकारी अभी तक जनता के साथ साझा नहीं की गई है। उनके अनुसार, समय के साथ और अधिक जानकारियाँ सामने आ सकती हैं, जिससे जनता को समझ में आ जाएगा कि भारत को ये कदम क्यों उठाना पड़ा।

विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा, ”हमने उसमें से बहुत कुछ सार्वजनिक नहीं किया है। मेरा मानना है कि वक्त के साथ और भी चीजें सामने आएँगी और जो हमने किया, लोग समझेंगे कि हमें उनमें से कई लोगों के साथ उस तरह की असुविधा क्यों हुई।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -