Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षालश्कर ए तैयबा के टॉप आतंकी जहूर वानी समेत 5 गिरफ्तार, गुफा में छुपाए...

लश्कर ए तैयबा के टॉप आतंकी जहूर वानी समेत 5 गिरफ्तार, गुफा में छुपाए गोला-बारूद का खुलासा

ज़हूर से पूछताछ के बाद ही अन्य 4 आतंकी सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने गंभीर धाराओं में ज़हूर वानी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। बताया जा रहा है कि जहूर बडगाम में लश्कर के आतंकियों के लिए हथियार सप्लाई, कम्यूनिकेशन और ट्रांसपोर्टेशन का काम देखता था।

जम्मू-कश्मीर के बडगाम के अरिजल खानसाहिब में सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप ओवर ग्राउंड वर्कर (OGW) जहूर वानी (Zahoor Wani) समेत 5 आतंकियों को गिरफ्तार किया है। ये लोग भी आतंकियों की मदद किया करते थे। इनकी पहचान युनूस मीर, असलम शेख, परवेज़ शेख और रहमान लोन बताई जा रही है। इससे पहले बडगाम पुलिस ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप आतंकी सहयोगी ज़हूर वानी को गिरफ्तार किया था।

पुलिस ने शुक्रवार (मई 15, 2020) शाम अरिज़ल खानसाहिब इलाके में एक गुफानुमा आतंकी ठिकाने पर छापेमारी की। जहाँ से इस आतंकी की गिरफ्तारी की गई। इस आतंकी ठिकाने से पुलिस ने हथियार और कारतूस भी बरामद किए थे। यह आतंकी ठिकाना जहूर के घर से महज 200-300 मीटर की दूरी पर था, वो भी उसकी अपनी जमीन पर।

गुफानुमा आतंकी ठिकाने की तस्वीरें 

ज़हूर से पूछताछ के बाद ही अन्य 4 आतंकी सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने गंभीर धाराओं में ज़हूर वानी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। बताया जा रहा है कि जहूर बडगाम में लश्कर के आतंकियों के लिए हथियार सप्लाई, कम्यूनिकेशन और ट्रांसपोर्टेशन का काम देखता था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस और सुरक्षाबल जहूर की काफी दिनों से तलाश कर रहे थे। कुछ दिन पहले जिला बारामुला से गिरफ्तार किए गए दो ओवरग्राउंड वर्करों से मिले दस्तावेजों में जहूर के कुछ फोटो भी मिले थे। तभी से पुलिस और सेना इसकी तलाश कर रही थी।

पुलिस को उम्मीद है कि ज़हूर से पूछताछ के दौरान बड़गाम में लश्कर के मॉड्यूल को खत्म करने में मदद मिलेगी। पुलिस के मुताबिक जल्द ही इस मामले में कई और गिरफ्तारियाँ भी हो सकती हैं।

सुरक्षाबलों ने कश्मीर में सक्रिय ऐसे टॉप-10 आतंकियों की लिस्ट तैयार की है, जिसमें हिजबुल मुजाहिदीन के नए चीफ कमांडर गाजी हैदर का नाम सबसे शीर्ष पर है। 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe