Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाकॉन्ग्रेस नेता गौहर अहमद वानी गिरफ्तार: शोपियाँ में हिज्बुल आतंकियों को भगाने का आरोप

कॉन्ग्रेस नेता गौहर अहमद वानी गिरफ्तार: शोपियाँ में हिज्बुल आतंकियों को भगाने का आरोप

जम्मू कश्मीर पुलिस के अनुसार, वह आतंकी संगठनों के लिए ओवर ग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) के रूप में काम कर रहा था और आतंकवादियों का बचाव करता आया है। घटना के दिन वह आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को भगा रहा था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बृहस्पतिवार (दिसंबर 10, 2020) देर शाम शोपियाँ जिले में आतंकियों को भगाने के आरोप में कॉन्ग्रेस नेता गौहर अहमद वानी (Gowhar Ahmed Wani) को गैर-कानूनी गतिविधियाँ (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के तहत शोपियाँ से गिरफ्तार किया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, कॉन्ग्रेस नेता गौहर अहमद वानी, जो कि पेशे से वकील भी है, दक्षिण कश्मीर में इमाम साहब शोपियाँ का निवासी है। उसे गत 7 दिसंबर को आतंकवादियों को भगाते हुए पकड़ा गया था। दरअसल, कुछ आतंकवादी एक कार में यात्रा कर रहे थे और जब भारतीय सेना के 44 राष्ट्रीय राइफल्स ने को ट्रेंज़ इलाके के बाबा खदर रामपुरा चौक पर उसे रोका, तो आतंकवादी भाग निकले और कार को परगाचू के पास छोड़ दिया।

सुरक्षाबलों द्वारा पीछा किए जाने पर आतंकवादी कार छोड़कर भाग निकले जबकि गौहर वानी कार से कूद गया था और खुद को पीड़ित बताने का नाटक किया। बाद में, गौहर से पूछताछ की गई और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने इस सिलसिले में यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया है।

अधिकारीयों ने बताया कि कॉन्ग्रेस नेता वानी आतंकवादियों को शरण दे रहा था और उन्हें केंद्रशासित प्रदेश में परिवहन के साधन मुहैया करा रहा था। जम्मू कश्मीर पुलिस के अनुसार, वह आतंकी संगठनों के लिए ओवर ग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) के रूप में काम कर रहा था और आतंकवादियों का बचाव करता आया है। घटना के दिन कॉन्ग्रेस नेता आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को भगा रहा था।

गौरतलब है कि यह घटना ऐसे समय पर सामने आई है जब पीडीपी नेता वहीद पारा को भी शुक्रवार (नवंबर 27, 2020) को 15 दिनों के लिए राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) की हिरासत में भेजा गया है। पीडीपी नेता वहीद पारा को हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों के साथ 2019 के संसदीय चुनावों के दौरान अपना समर्थन प्राप्त करने के लिए कथित रूप से साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

वहीं, जम्मू-कश्मीर में जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव के लिए मतदान जारी हैं। चुनाव के मद्देनजर सरकार ने घाटी में सुरक्षाबलों की संख्या बढ़ाई है। लेकिन इस बीच आतंकी संगठन लगातार घाटी में सुरक्षाबलों, नेताओं पर हमले की फिराक में हैं। लेकिन सभी खुफिया एजेंसी सतर्क हैं और लगातार आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई जारी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe