Monday, July 15, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षालुधियाना ब्लास्ट में पाकिस्तान+खालिस्तान कनेक्शन, लोकल गैंगस्टर को बनाया हथियार: रिपोर्ट, इनपुट के बावजूद...

लुधियाना ब्लास्ट में पाकिस्तान+खालिस्तान कनेक्शन, लोकल गैंगस्टर को बनाया हथियार: रिपोर्ट, इनपुट के बावजूद ‘अलर्ट’ नहीं थी पुलिस

एक ओर पंजाब में हुए धमाके की जाँच सिर्फ आतंकी हमले को केंद्र में लेकर की जा रही है जबकि खबरें हैं इस धमाके से पहले केंद्रीय एजेंसियाँ पंजाब सरकार को लगातार अलर्ट कर रही थीं कि शायद पंजाब इलेक्शन से पहले कट्टरपंथी माहौल बिगाड़ने की कोशिश करें।

लुधियाना कोर्ट परिसर में गुरुवार (दिसंबर 23, 2021) को हुए बम ब्लास्ट के बाद चल रही जाँच में हमले के पीछे अब तक अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन बब्बर खालसा का नाम सामने आया है। न्यूज 18 की खबर में खुफिया सूत्रों के हवाले से बताया गया कि ये हमला बब्बर खालसा के मुखिया वाधवा सिंह ने लोकल गैंगस्टर हरविंदर सिंह उर्फ रिंदा सिंह की मदद से किया।

बता दें कि बब्बर खालसा का मुख्य उद्देश्य सिखों के लिए खालिस्तान बनवाने का है। ये संगठन कनाडा, जर्मनी, ब्रिटेन और भारत के कुछ भागों में सक्रिय है। वहीं हरविंदर की बात करें तो ये कुछ समय पहले भारत से भागकर पाकिस्तान चला गया था। वहाँ इसने ऐसे गैंगस्टरों को एकजुट किया जो पंजाब में धमाका करवा सकें।

अब पंजाब पुलिस और केंद्रीय एजेंसियाँ इस हमले की कई एंगल से पड़ताल कर रही हैं। इस बीच एक खबर ये भी आई है कि पंजाब पुलिस को ऐसे किसी हमले के बारे में पहले ही अलर्ट किया जा चुका था। खबरों के मुताबिक केंद्रीय खुफिया एजेंसियाँ पंजाब सरकार को लगातार बता रही थीं कि शायद पंजाब इलेक्शन से पहले कट्टरपंथी माहौल बिगाड़ने की कोशिश करें। हालाँकि, इन चेतावनियों को गंभीरता से नहीं लिया गया।

लुधियाना में हुए बम ब्लास्ट के एक दिन बाद आई खबरों के अनुसार आतंकी हमले को लेकर पंजाब पुलिस को 14 दिसंबर को ही अलर्ट किया गया था। खुफिया एजेंसियों ने पंजाब पुलिस एडीजीपी को ये अलर्ट भेजा था। मगर बावजूद इसके, हमले को रोकने के लिए पंजाब पुलिस ने क्या प्रयास किया अब इस पर सवाल उठ रहे हैं।

एक रिपोर्ट दावा करती है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI के मनसूबों को देखते हुए पंजाब को अलर्ट करने का काम जुलाई में शुरू हो गया था। सबसे पहले 9 जुलाई को अलर्ट भेजा गया था। उसके बाद दिसंबर में भी 2-3 बार पुलिस को चेताया गया। कथिततौर पर अलर्ट में साफ उल्लेख था कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI और खालिस्तानी ग्रुप संवेदनशील इमारतों और भीड़-भाड़ वाले इलाकों को निशाना बना सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि कल 23 दिसंबर को लुधियाना कोर्ट परिसर की दूसरी मंजिल पर बने टॉयलेट में 12 बजकर 28 मिनट पर जोरदार धमाका हुआ था। इस धमाके में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। मरने वाले को आत्मघाती हमलावर बताया जा रहा है। घटना के बाद शुरू जाँच में जाँच एजेंसियों को जो विस्फोट मिले हैं वो बेहद शक्तिशाली थे। अनुमान है कि इस विस्फोट से कोर्ट परिसर को भारी नुकसान पहुँचाने की साजिश रची गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मात्र 2 किलोग्राम ही घटा अरविंद केजरीवाल का वजन, AAP कह रही – कोमा में चले जाएँगे, ब्रेन स्ट्रोक हो जाएगा: जेल प्रशासन ने...

10 मई को जब उन्हें जमानत पर रिहा किया गया, तब उनका वजन 64 किलो था। यानी, 1 महीने 10 दिन में अरविंद केजरीवाल का वजन मात्र 1 किलोग्राम घटा।

शराब घोटाले में दिल्ली CM के खिलाफ जाँच पूरी, अब ₹1100 करोड़ की प्रॉपर्टी कुर्क करने की तैयारी: रिपोर्ट में ED अधिकारी के हवाले...

शराब घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने दावा किया है कि उनकी इस केस में पार्टी के साथ-साथ अरविंद केजरीवाल के खिलाफ जाँच पूरी हो गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -