Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षासब्जी वाले का वेश बनाकर NIA ने पकड़ा आतंकी, मजदूर बनकर रच रहा था...

सब्जी वाले का वेश बनाकर NIA ने पकड़ा आतंकी, मजदूर बनकर रच रहा था हमले की साजिश

जाहिरुल उर्फ जाकिर पश्चिम बंगाल के नादिया का रहने वाला है और वह आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद का सक्रिय सदस्य है। उसने आतंकी विस्फोट और हथियार चलाने की ट्रेनिंग भी हासिल की हुई हैं।

मध्यप्रदेश के इंदौर जिले से राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने स्वतंत्रता दिवस से दो दिन पहले एक आतंकी को गिरफ्तार किया। आतंकी का नाम जाहिरुल शेख है। वह साल 2014 में पश्चिम बंगाल के वर्धमान में हुए बम विस्फोट का आरोपित है।

साल 2014 में वर्धमान में हुए धमाकों के बाद एनआईए जाहिरुल की तलाश कर रही थी, लेकिन बहुत कोशिशों के बाद भी वह पकड़ नहीं आ रहा था। ऐसे में कुछ दिन पहले जाँच एजेंसी को शेख के इंदौर के आजाद नगर थाना क्षेत्र के कोहिनूर कालोनी में होने की खबर मिली। जब जाँच की गई तो पता चला आतंकी वहाँ रहकर पेंटर का काम करता है और साथ में मजदूरी करता है।

प्राप्त जानकारी के आधार पर एनआईए के अधिकारियों का दस्ता इंदौर पहुँचा और वहाँ की पुलिस को भी अपने प्लॉन के बारे में कुछ नहीं बताया। इंदौर में एनआईए ने अपने स्तर पर आतंकी के लिए जाल बिछाया और जिस इलाके में शेख रहता था वहाँ उन्होंने सब्जी बेचनी शुरू कर दी। सब्जी बेचने के बहाने एनआईए के अधिकारियों ने शेख के सही ठिकाने का पता लगाया। जब सारी जानकारियाँ एकत्रित हो गई तो उन्होंने पुलिस की मदद ली और जाहिरुल को धर पकड़ा।

खबरों के मुताबिक एडीजी वरुण कपूर ने बताया कि जिस मकान में शेख किराए पर रहता था उसके मकान मालिक शाकिर खान ने अपने किराएदार का वेरिफिकेशन नहीं करवाया था। शेख लगभग 2 सालों से उसी ठिकाने पर रह रहा था। वह अलग-अलग शहरों में मजदूर बनके काम करता था।

बता दें कि जाहिरुल उर्फ जाकिर पश्चिम बंगाल के नादिया का रहने वाला है और वह आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद का सक्रिय सदस्य है। उसने आतंकी विस्फोट और हथियार चलाने की ट्रेनिंग भी हासिल की हुई हैं। बताया जा रहा है कि इस बार भी वह किसी खूँखार आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में इंदौर में रुका हुआ था। लेकिन एनआईए की सूझ-बूझ ने उसे धर दबोचा। अब वह एजेंसी के शिकंजे में और उससे पूछताछ चल रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -