Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षागाय काटने वाली आसिया अंद्राबी का खुलासा: ISI से मिले पैसे पत्थरबाजों, हुर्रियत, राष्ट्रविरोधियों...

गाय काटने वाली आसिया अंद्राबी का खुलासा: ISI से मिले पैसे पत्थरबाजों, हुर्रियत, राष्ट्रविरोधियों में बाँटे

पाकिस्तानी फौज में कैप्टन रैंक का अधिकारी आसिया का भतीजा है। इसके अलावा पता चला है कि आसिया का एक और नजदीकी रिश्तेदार पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की फौज और उनकी खुफिया एजेंसी इंटर सर्विस इंटेलिजेंस (ISI) के साथ संपर्क में है।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने इस बात का खुलासा किया है कि अलगाववादी समूह दुख्तरान-ए-मिल्लत की प्रमुख आसिया अंद्राबी पाकिस्तान फौज के संपर्क में थीं और उन्हें पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI से पैसे भी मिलते थे। जानकारी के बता दूँ कि आसिया वही हैं जिन्होंने 2015 में गाय काटी थी, वीडियो वायरल होने के बाद उन्हें गिरफ्तार भी किया गया था। एजेंसी ने बताया है कि आसिया, पाक फौज में काम करने वाले एक अधिकारी के जरिए जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज़ सईद के संपर्क में भी थीं।

जनसत्ता में प्रकाशित खबर के मुताबिक एनआईए सूत्रों ने एक समाचार एजेंसी को बताया कि पाकिस्तानी फौज में कैप्टन रैंक का अधिकारी आसिया का भतीजा है। इसके अलावा पता चला है कि आसिया का एक और नजदीकी रिश्तेदार पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की फौज और उनकी खुफिया एजेंसी इंटर सर्विस इंटेलिजेंस (ISI) के साथ संपर्क में है।

एनआईए ने इससे पहले मंगलवार (4 जून) को हाफिज सईद के साथ आतंकी फंडिंग के मसले पर मसरत आलम, आसिया अंद्राबी और शबीर शाह को गिरफ्तार किया था। इन्हें 10 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। जिसके बाद से ये तीनों अब तक तिहाड़ जेल में बंद हैं।

गौरतलब है, अलगाववादी समूह की संस्थापक आसिया भारत से कश्मीर के अलगाव के लिए काम कर रही हैं। आसिया को राष्ट्र के ख़िलाफ़ युद्ध छेड़ने के मामले में पिछले वर्ष जुलाई में गिरफ्तार भी किया जा चुका है।

इसके अलावा बता दें जाँच और पूछताछ में मालूम चला है कि आसिया के कुछ रिश्तेदार दुबई और सउदी अरब में भी रहते हैं। इन लोगों ने भी आसिया को भारत में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के लिए पैसे पहुँचाए हैं। यह धन पत्थरबाजों और हुर्रियत के समर्थकों में बाँटे गए थे जिन्होंने श्रीनगर और घाटी के अन्य हिस्सों में सरकार के खिलाफ व्यापक प्रदर्शन किए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टोक्यो ओलंपिक में भारत को तीसरा मेडल: बॉक्सर लवलीना बोरगेहेन ने जीता कांस्य पदक, जानिए असम के छोटे से गाँव से यहाँ तक का...

भारतीय महिला बॉक्सर लवलीना बोरगेहेन को टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक मिला। उन्हें वीमेंस वेल्टरवेट (69 किलोग्राम) वर्ग में ये ख़िताब प्राप्त हुआ।

‘अपनी बेटी की तरह रेप..’: इतना पीटा कि ब्रेस्ट सर्जरी करानी पड़ी, अरबपति की ‘सेक्स कालकोठरी’ में कई महिलाओं का यौन शोषण

जॉर्ज सोरोस के मनी मैनेजर रहे होवार्ड रुबिन पर 'सेक्स कालकोठरी' में BDSM सेशन के जरिए कई महिलाओं के यौन शोषण व प्रताड़ना के आरोप लगे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,873FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe