Monday, August 2, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाNRC की आहट से सहमे घुसपैठिए, रात के अँधेरे में भाग रहे बांग्लादेश

NRC की आहट से सहमे घुसपैठिए, रात के अँधेरे में भाग रहे बांग्लादेश

अंतरराष्ट्रीय सीमा के बड़े इलाके में फेंसिंग और बिजली नहीं है। इलाका नदियों और घने जंगलों से घिरा है। इसका फायदा उठाकर लोग सीमा पार कर रहे हैं। इसे देखते हुए बांग्लादेश ने सीमावर्ती गॉंव के लोगों को साथ मिलकर सुरक्षा कमेटी बनाई है।

नेशनल रजिस्टर आफ सिटिजन्स (NRC) अभी पूरे देश में लागू नहीं हुआ है। लेकिन, इसकी आहट से सालों से भारत में अवैध रूप से रह रहे घुसपैठियों की नींद उड़ गई है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार हर रोज रात को सैकड़ों बांग्लादेशी सीमा पार कर रहे हैं। इनमें से कई को सीमा में घुसते हुए बांग्लादेश बार्डर गार्ड्स (बीजीबी) ने दबोचा भी है।

बीजीबी के महानिदेशक मेजर जनरल मोहम्मद शफीनुल इस्लाम ने 2 जनवरी को बताया था कि नवंबर और दिसंबर में 445 बांग्लादेशी नागरिक वापस आए हैं। उन्होंने माना था कि जॉंच से यह बात सत्यापित हुई है कि ये सभी घुसपैठिए थे। दैनिक जागरण की एक रिपोर्ट के अनुसार बीजीबी ने जितने लोगों को पकड़ा है, उससे कहीं ज्यादा सीमा पार कर घुसने में सफल रहे हैं।

रिपोर्ट में स्थानीय लोगों के हवाले से बताया गया है कि रोजाना 300 से 400 लोग भारत से बांग्लादेश लौट रहे हैं। बांग्लादेश के झिनाइदा जिले से सटे सीमावर्ती महेशपुर उप जिला से ही नवंबर से अब तक हजारों लोगों ने रात के अँधेरे में बांग्लादेश में प्रवेश किया है। बांग्लादेशी बॉर्डर गॉ‌र्ड्स ने पिछले महीने करीब 300 लोगों को महेशपुर उप जिला से पकड़कर पुलिस को सौंपा था।

रिपोर्ट के अनुसार बांग्लादेश में घुसने की कोशिश करते अधिकांश लोगों ने वहॉं की एजेसियों को बताया है कि वे काम के सिलसिले में अरसे से भारत में रह रहे थे। इनके पास से भारतीय पहचान पत्र भी बरामद हुए हैं। रिपोर्ट में अधिकारियों के हवाले से बताया गया है कि अंतरराष्ट्रीय सीमा के बड़े इलाके में फेंसिंग और बिजली नहीं है। इलाका नदियों और घने जंगलों से घिरा है। इसका फायदा उठाकर लोग सीमा पार कर रहे हैं। इसे देखते हुए बांग्लादेश ने सीमावर्ती गॉंव के लोगों को साथ मिलकर सुरक्षा कमेटी बनाई है। बीएसएफ अधिकारियों के हवाले से बताया गया है कि असम में एनआरसी लागू होने के बाद से वहॉं से भी बांग्लादेशी अब अपने देश लौटने लगे हैं।

गौरतलब है कि एनआरसी को भारत का आंतरिक मामला बताते हुए बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन पहले ही अपने नागरिकों को वापस लेने की बात कह चुके हैं। उन्होंने कहा था, “हम बांग्लादेशी नागरिकों को वापस आने की अनुमति देंगे, क्योंकि उनके पास अपने देश में प्रवेश करने का अधिकार है।” मोमेन ने बताया था कि भारत से अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों की सूची भी मुहैया कराने का अनुरोध किया गया है। बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना के अंतरराष्ट्रीय मामलों के सलाहकार गौहर रिजवी ने भी कहा था कि भारत में अवैध रूप से रह रहे लोग वापस लिए जाएँगे।

भारत के साथ रिश्ते सुनहरे दौर में, अवैध रूप से रह रहे हर बांग्लादेशी को बुलाएँगे: पीएम शेख हसीना का सलाहकार

घुसपैठियों की घर वापसी के लिए बांग्लादेश तैयार, भारत से माँगी लिस्ट

बांग्लादेशी या रोहिंग्या मुसलमान इस देश का नहीं है, उसकी पहचान कर, अलग करना समय की माँग

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsएनआरसी की खबरें, एनआरसी बांग्लादेश, बांग्लादेश के विदेश मंत्री, अवैध बांग्लादेशी, बांग्लादेश घुसपैठी, बंगाल घुसपैठिए, आसाम घुसपैठिए, भारत बांग्लादेश, 445 बांग्लादेशी नागरिक भारत से लौटे, एनआरसी की खबरें, एनआरसी बांग्लादेश, बांग्लादेश के विदेश मंत्री, अवैध बांग्लादेशी, बांग्लादेश घुसपैठी, बंगाल घुसपैठिए, आसाम घुसपैठिए, भारत बांग्लादेश, बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना, शेख हसीना एनआरसी, भारत में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशी, बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश, BGB महानिदेशक मेजर जनरल मोहम्मद शफीनुल इस्लाम, बीएसएफ घुसपैठिए, बीजीबी बांग्लादेश नरागरिक, भारत से भाग रहे घुसपैठिए, रात के अंधेरे में भाग रहे घुसपैठिए
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुहर्रम पर यूपी में ना ताजिया ना जुलूस: योगी सरकार ने लगाई रोक, जारी गाइडलाइन पर भड़के मौलाना

उत्तर प्रदेश में डीजीपी ने मुहर्रम को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी हैं। इस बार ताजिया का न जुलूस निकलेगा और ना ही कर्बला में मेला लगेगा। दो-तीन की संख्या में लोग ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे।

हॉकी में टीम इंडिया ने 41 साल बाद दोहराया इतिहास, टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुँची: अब पदक से एक कदम दूर

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। 41 साल बाद टीम सेमीफाइनल में पहुँची है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,549FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe