Friday, September 24, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाकश्मीर: सेना की तैनाती के आधिकारिक आदेश को लीक करने के आरोप में पाक...

कश्मीर: सेना की तैनाती के आधिकारिक आदेश को लीक करने के आरोप में पाक समर्थक पत्रकार क़ाज़ी शिबली गिरफ़्तार

क़ाज़ी शिबली बंग्लौर विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में स्नातक है, उसके ख़िलाफ़ अनंतनाग ज़िले के एक स्थानीय पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज़ किया गया है। उसकी गिरफ़्तारी के बाद, स्थानीय कश्मीरी अब जाहिरा तौर पर हैशटैग "FreeQaziShibli" का उपयोग करके Pro-Pakistan सिम्पैथाइज़र की रिहाई के लिए अभियान चला रहे हैं।

‘The Kashmir Walla’ की ख़बर के अनुसार, पाकिस्तान समर्थक पत्रकार और प्रोपेगैंडा वेबसाइट ‘द कश्मीरियत’ के समाचार संपादक क़ाज़ी शिबली को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने हाल ही में गिरफ़्तार किया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग ज़िले के निवासी क़ाज़ी शिबली को उसके कुछ ऐसे ट्वीट्स पर सवाल उठाने के आरोप में हिरासत में लिया गया है, जिसमें जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त अर्धसैनिक बल के जवानों की तैनाती के संबंध में एक आधिकारिक आदेश की जानकारी शामिल थी। वह पाकिस्तान समर्थक समाचार वेबसाइट द कश्मीरियत चलाता है।

क़ाज़ी शिबली बैंगलोर विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में स्नातक है। उसके ख़िलाफ़ अनंतनाग ज़िले के एक स्थानीय पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज़ किया गया है। उसकी गिरफ़्तारी के बाद, स्थानीय कश्मीरी अब सोशल मीडिया पर हैशटैग “FreeQaziShibli” द्वारा इस पाकिस्तानी-समर्थक और सिम्पैथाइज़र की रिहाई के लिए अभियान चला रहे हैं।

कुछ महीने पहले, ‘द कश्मीरियत’ का फेसबुक पेज भी सम्बंधित सोशल नेटवर्किंग साइट के नियंत्रण अधिकारियों द्वारा हटा दिया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुझे राष्ट्रवादी होने की सजा दी जा रही, कलंकित करने वालों मुझे रोकना असंभव’: मनोज मुंतशिर का ‘गिरोह’ को करारा जवाब

“मेरी कोई रचना शत-प्रतिशत ओरिजिनल नहीं है। मेरे खिलाफ याचिका दायर करें। मुझे माननीय न्यायालय का हर फैसला मंजूर है। मगर मीडिया ट्रायल नहीं।"

‘₹96 लाख दिल्ली के अस्पताल को दिए, राजनीतिक दबाव में लौटा भी दिया’: अपने ही दावे में फँसी राणा अयूब, दान के गणित ने...

राणा अयूब ने दावा किया कि उन्होंने नई दिल्ली के एक अस्पताल को 130,000 डॉलर का चेक दिया था। जिसे राजनीतिक दबाव की वजह से लौटा दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,995FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe