Thursday, July 29, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षारक्षा मंत्री ने कहा- 'बर्ड्स सुरक्षित उतर गए' तो PM मोदी ने संस्कृत के...

रक्षा मंत्री ने कहा- ‘बर्ड्स सुरक्षित उतर गए’ तो PM मोदी ने संस्कृत के मन्त्रों से राष्ट्र रक्षा के प्रण को दोहराया, शेयर किए वीडियो

पीएम मोदी ने ट्वीट में लिखा, ''राष्ट्ररक्षासमं पुण्यं, राष्ट्ररक्षासमं व्रतम्,राष्ट्ररक्षासमं यज्ञो, दृष्टो नैव च नैव च।। नभः स्पृशं दीप्तम्…स्वागतम्'' इसका मतलब है कि राष्ट्र रक्षा के समान कोई पुण्य नहीं, राष्ट्र रक्षा के समान कोई व्रत नहीं, राष्ट्र रक्षा के समान कोई यज्ञ नहीं। पीएम ने वायु सेना के मैदान में जेट विमानों के उतरने का एक वीडियो भी पोस्ट किया।

फ्रांस से 5 राफेल लड़ाकू विमानों का पहला बैच बुधवार (29 जुलाई, 2020) को अंबाला के IAF एयर फोर्स स्टेशन पर उतर चुका है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने अंबाला में राफेल बेड़े का स्वागत किया। ये पाँच लड़ाकू विमान भारतीय वायु सेना (IAF) के पायलटों द्वारा उड़ाया गया था। यह विमान करीब 7 हजार किलोमीटर की दूरी तय कर भारत पहुँचा है। बीच में इन जेट्स को संयुक्त अरब अमीरात में उतारा गया था। वहीं, राफेल की एयर-टू-एयर रिफ्यूलिंग भी की गई थी।

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर राफेल विमानों का स्वागत किया। खास बात ये है कि पीएम मोदी ने राफेल विमानों का स्वागत संस्कृत के एक श्लोक से किया।

पीएम मोदी ने ट्वीट में लिखा, ”राष्ट्ररक्षासमं पुण्यं, राष्ट्ररक्षासमं व्रतम्,राष्ट्ररक्षासमं यज्ञो, दृष्टो नैव च नैव च।। नभः स्पृशं दीप्तम्…स्वागतम्” इसका मतलब है कि राष्ट्र रक्षा के समान कोई पुण्य नहीं, राष्ट्र रक्षा के समान कोई व्रत नहीं, राष्ट्र रक्षा के समान कोई यज्ञ नहीं। पीएम ने वायु सेना के मैदान में जेट विमानों के उतरने का एक वीडियो भी पोस्ट किया।

वहीं इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा, “बर्ड्स सुरक्षित उतर गए हैं।’’ वायुसेना में लड़ाकू विमानों को ‘बर्ड’ (चिड़िया) कहा जाता है। ‘‘राफेल लड़ाकू विमानों का भारत पहुँचना हमारे सैन्य इतिहास के नए अध्याय की शुरुआत है। ये मल्टीरोल विमान भारतीय वायुसेना की क्षमताओं में क्रांतिकारी बदलाव लाएँगे।’’

गौरतलब है कि जैसे ही राफेल जेट उतरे, नए 36 लड़ाकू विमानों की पहली खेप को अम्बाला में वाटर सलूट दिया गया। विमान को आधिकारिक तौर पर अगस्त की दूसरी छमाही में भारतीय वायुसेना में शामिल किया जाएगा।

इससे पहले अरब सागर में तैनात INS कोलकाता ने राफेल से संपर्क स्थापित कर के उनका स्वागत किया। INS कोलकाता और उड़ते हुए राफेल फाइटर एयरक्राफ्ट के फ्लाइंग लीडर के बीच हुई बातचीत में उन्होंने कहा:-

INS कोलकाता: ऐरो लीडर, इंडियन वॉरशिप नेवल डेल्टा 63, भारतीय महासागर में आपका स्वागत है।

फ्लाइंग राफेल लीडर: बहुत-बहुत धन्यवाद। समुद्र में सुरक्षा के लिए मुस्तैद भारतीय वॉरशिप को देखना आश्वासित करने वाला है।

INS कोलकाता: हमारी कामना है कि आप आसमान को छूते हुए शोभा पाएँ। हैप्पी लैंडिंग्स।

फ्लाइंग राफेल लीडर: आपको भी सुन्दर वातावरण मिले। हैप्पी हंटिंग। ओवर एंड आउट।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी उड़ते हुए राफेल विमानों का वीडियो शेयर किया था।देश भर में सोशल मीडिया पर कई लोगों ने उस वीडियो को गर्व से शेयर किया। फ्रांस से 36 राफेल विमान आने हैं, जिनमें से ये 5 की पहली खेप है। कुछ ही दिनों में 5 और भी आने वाले हैं। इससे भारतीय वायुसेना काफी मजबूत हो गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से अनाथ हुई लड़कियों के विवाह का खर्च उठाएगी योगी सरकार: शादी से 90 दिन पहले/बाद ऐसे करें आवेदन

योजना का लाभ पाने के लिए लड़कियाँ खुद या उनके माता/पिता या फिर अभिभावक ऑफलाइन आवेदन करेंगे। इसके साथ ही कुछ जरूरी दस्तावेज लगाने आवश्यक होंगे।

बंगाल की गद्दी किसे सौंपेंगी? गाँधी-पवार की राजनीति को साधने के लिए कौन सा खेला खेलेंगी सुश्री ममता बनर्जी?

ममता बनर्जी का यह दौरा पानी नापने की एक कोशिश से अधिक नहीं। इसका राजनीतिक परिणाम विपक्ष को एकजुट करेगा, इसे लेकर संदेह बना रहेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,780FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe