Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षासरहद पार रिश्तेदारी, सेना के फायरिंग रेंज के पास दुकान: आर्मी की खुफिया जानकारी...

सरहद पार रिश्तेदारी, सेना के फायरिंग रेंज के पास दुकान: आर्मी की खुफिया जानकारी भेजता था नवाब खान, कई बार जा चुका है पाकिस्तान

करीब एक साल से सुरक्षा एजेंसियाँ उस पर नजर बनाए हुई थीं। सुरक्षा एजेंसियाँ आरोपित के खिलाफ पुख्ता सबूत के इंतजार में थीं। लगातार उसकी हर मूवमेंट को ट्रेस किया जा रहा था।

राजस्थान में पाकिस्तान की सीमा से लगते जैसलमेर जिले में सुरक्षा एजेंसियों ने पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में नवाब खान (32) नाम के एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है। उस पर आरोप है कि वह बीते तीन साल से भारतीय सेना और वायुसेना की गतिविधियों की हर जानकारी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को मुहैया करा रहा था।

रिपोर्ट के मुताबिक, नवाब खान के अब्बू का नाम दिते खान है और वह जैसलमेर जिले के चनेसर खान की ढाणी का रहने वाला है। चांधन में वह मोबाइल व ई-मित्र की एक दुकान चलाता है। यहीं पर इंडियन आर्मी की सबसे बड़ी फील्ड फायरिंग रेंज भी है। ऐसे में यह सुरक्षा की दृष्टि से बहुत ही संवेदनशील इलाका है। आरोप है कि चांधन में दुकान के बहाने नवाब खान सेना की हर हरकत पर करीब से नजर रखता था। वो सेना की जमीनी और हवाई जानकारियाँ जुटाकर उन्हें पाकिस्तान की आईएसआई को देता था।

शुरुआती तौर पर जो जानकारी सामने आई है वो ये है कि नवाब खान पाकिस्तान को इन्फॉर्मेशन शेयर करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता था। बीते तीन साल से पाकिस्तान की आईएसआई के संपर्क में रह रहे नवाब खान को कई बार पाकिस्तान की तरफ से जानकारियों के बदले में पैसे भी भेजे गए हैं।

करीब एक साल से सुरक्षा एजेंसियाँ उस पर नजर बनाए हुई थीं। सुरक्षा एजेंसियाँ आरोपित के खिलाफ पुख्ता सबूत के इंतजार में थीं। लगातार उसकी हर मूवमेंट को ट्रेस किया जा रहा था। जैसे ही इन्फॉर्मेशन पुख्ता होते ही बुधवार (24 नवंबर) को जयपुर से जैसलमेर पहुँची इंटेलिजेंस एजेंसियाँ उसे पकड़कर जयपुर ले आईं। फिलहाल उससे गहनता से पूछताछ की जा रही है।

पाकिस्तान में है रिश्तेदारी

पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए नवाब खान की रिश्तेदारी पाकिस्तान में है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान के रहमियार खान इलाके के आसपास उसकी रिश्तेदारी है। रिपोर्ट के मुताबिक, वह कई बार पाकिस्तान की यात्रा भी कर चुका है और उसी दौरान वह आईएसआई के संपर्क में आया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -