Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा'मैंने 65 धमाके किए, पुलिस वालों को भी मारा... लेकिन कोई मेरा कुछ भी...

‘मैंने 65 धमाके किए, पुलिस वालों को भी मारा… लेकिन कोई मेरा कुछ भी नहीं बिगाड़ पाया’

"कोई भी बड़ा आतंकी मेरे बिना कुछ नहीं हैं। जेल में रहकर जो मैं कर सकता हूँ, वह कोई संगठन बाहर रहकर भी नहीं कर सकता। मेरे ऊपर लिखी किताब 'डेंजरस माइंड' पढ़ो, सब समझ में आ जाएगा।"

‘डॉ बम’ के नाम से कुख्यात आतंकी और मुंबई में सिलसिलेवार धमाकों का दोषी डॉ जलीस अंसारी रविवार (जनवरी 19, 2020) की सुबह अमौसी एयरपोर्ट से मुंबई रवाना होने से पहले एसटीएफ अधिकारियों को चुनौती दे गया। उसने देश की कानून व्यवस्था को कमजोर बताते हुए कहा कि उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। उसने कहा कि अब तक उसने 65 से ज्यादा धमाके किए, लेकिन पुलिस केवल 3 मामलों में उस पर आरोप सिद्ध कर पाई। इससे अंदाजा लगा लें कि स्थिति क्या है?

हिंदुस्तान की रिपोर्ट्स के अनुसार, शनिवार (जनवरी 18, 2020) की दोपहर लगभग 3 बजे जलीस अंसारी को एसटीएफ और मुंबई एटीएस कानपुर लेकर पहुँची थी। यहाँ पर पूछताछ करने के बाद सुबह चार बजे उसे अमौसी ले जाया गया। कानपुर से लखनऊ के रास्ते में भी एसटीएफ अफसर उससे पूछताछ करते रहे। जहाँ उसने साफ शब्दों में अधिकारियों को चुनौती दी कि देश की कानून व्यवस्था ढीली है और कोई भी उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

जलीस ने अफसरों से कहा, “मैं 65 से ज्यादा धमाके कर चुका हूँ और अब तक मुझ पर सिर्फ़ तीन आरोप ही साबित हुए हैं। मैंने पुलिस वालों को धमाके में मारा और अब तक वह खुद पर हुए हमले के साक्ष्य नहीं जुटा पाई, इसी से अंदाजा लगा लो क्या स्थितियाँ हैं।”

अधिकारियों के सवालों का जवाब देते हुए आतंंकी ने कहा, “कोई भी बड़ा आतंकी मेरे बिना कुछ नहीं हैं। जेल में रहकर जो मैं कर सकता हूँ, वह कोई संगठन बाहर रहकर भी नहीं कर सकता।” उसने देश के मौजूदा हालातों पर भी अधिकारियों को जानकारी दी। उसने कहा कि सीएए और एनआरसी को लेकर पूरे देश में विद्रोह की एक बहुत बड़ी भूमिका तैयार हो चुकी है। अगर सरकार इसे नहीं समझ पाएगी तो इसका अंजाम भुगतना होगा।

गौरतलब है कि जलीस ने अधिकारियों के सामने ‘डेंजरस माइंड’ नामक किताब का जिक्र किया और सुरक्षा एजेंसियों को बताया कि यह किताब उसके ऊपर है। अगर वे इसे पढ़ेंगे तो उन्हें कई तथ्यों के बारे में जानकारी मिल जाएगी। बता दें कि डेंजरस माइंड किताब को हुसैन जैदी ने लिखा है। हुसैन जैदी मुंबई के रहने वाले और लंबे समय तक उन्होंने अंडरवर्ल्ड समेत आतंकवाद पर बहुत काम किया है।

जानकारी के अनुसार, कई बार पुलिस को चकमा देकर बच निकलने में कामयाब रहे डॉ जलीस अंसारी ने पूछताछ में अपने नेटवर्क से जुड़े कई साथियों के राज उगले। इसके अलावा उसकी पॉकेट डॉयरी से कई अहम जानकारियाँ सामने आई। पता चला है किवह सेंट्रल जेल में रहकर सस्ते सामान के प्रयोग से बम बनाने का फार्मूला तैयार कर रहा था।

मुंबई से नमाज पढ़ने निकला था ‘डॉ. बम’, कानपुर की मस्जिद से निकलते धराया
नमाज के लिए निकला ‘डॉ. बम’ लापता, परोल पर बाहर था मुंबई धमाकों का गुनहगार
Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -