Tuesday, January 26, 2021
Home विविध विषय अन्य पैगंबर मुहम्मद पर विचार रखना नहीं है ईशनिंदा: मद्रास हाईकोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

पैगंबर मुहम्मद पर विचार रखना नहीं है ईशनिंदा: मद्रास हाईकोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

"किसी एक धर्म की आलोचना 'ईशनिंदा' नहीं होनी चाहिए, ठीक वैसे ही किसी दूसरे धर्म की आलोचना को भी क्रांतिकारी नहीं माना जाना चाहिए।"

मद्रास हाईकोर्ट ने शुक्रवार (फरवरी 22, 2019) को ईशनिंदा और किसी व्यक्ति के ज्ञान के आधार पर की गई धार्मिक विषयों पर टिप्पणी, के बीच फर्क को बताते हुए भारतीय जनता पार्टी के एक कार्यकर्ता को जमानत दे दी। कार्यकर्ता रंगास्वामी ने अपने एक फेसबुक पोस्ट में पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ पिछले साल कथित रूप से ‘ईशनिंदा’ सम्बंधित लेख लिखा था।

49 वर्षीय भाजपा कार्यकर्ता को चेन्नई में चितलपक्कम पुलिस ने सोशल मीडिया के माध्यम से ‘घृणा’ फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। कल्याणसुंदरम रंगास्वामी पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने एक फेसबुक पोस्ट के द्वारा मुस्लिमों की भावनाओं को आहत किया है। रंगास्वामी पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने पैगंबर मुहम्मद पर कुछ टिप्पणी की थी। जैसे ही वह अहमदाबाद से चेन्नई पहुँचे, उन्हें ‘साइबर पुलिस’ ने पूछताछ के लिए पकड़ा और बाद में अदालत में पेश किया गया जहाँ से रंगास्वामी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

न्यायमूर्ति एन आनंद वेंकटेश ने रंगास्वामी द्वारा किए गए फेसबुक पोस्ट की समीक्षा करने के बाद कहा, “इस अदालत के विचार में, जमानत याचिकाकर्ता ने पैगंबर मुहम्मद और उनके परिवार के बारे में अपनी समझ के अनुसार प्रासंगिक इतिहास पढ़ने के बाद ही लिखा है। इसलिए वो इस शर्त पर जमानत के हकदार हैं कि वह जाँच में सहयोग करेंगे।”

ज्ञात हो कि यह ‘आपत्तिजनक पोस्ट’ वर्ष 2015 में लिखा गया था। यह मामला इस वजह से भी दिलचस्प है क्योंकि चितलपक्कम के उप-निरीक्षक डी सेल्वमणि ने इस ‘फेसबुक पोस्ट’ को संज्ञान में लिया था और अपने वरिष्ठ अधिकारियों को जानकारी दी थी। सेल्वमणि ने ‘टाइम्स ऑफ़ इंडिया’ को बताया, “मैंने फेसबुक पर उसकी खोज की और अपमानजनक टिप्पणियाँ पाईं, जो मैंने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को दिखाई, उन्होंने ही मुझे इस मामले में शिकायतकर्ता बनने के लिए कहा।”

इस बीच, MMK नेता एमएच जवाहिरुल्लाह ने कहा कि रंगास्वामी को 30 दिसंबर को पुलिस आयुक्त ने उनकी शिकायत के बाद गिरफ्तार किया था। जबकि सेल्वमणि और MMK नेता एमएच जवाहिरुल्लाह के बीच इस ‘आपत्तिजनक पोस्ट को संज्ञान’ में लिए जाने के ‘क्रेडिट’ को लेकर विवाद भी हुआ कि आखिर किसकी सक्रियता ने रंगास्वामी को एक फेसबुक पोस्ट के लिए गिरफ्तार कर जेल में बंद करवाया।

भाजपा कार्यकर्त्ता के खिलाफ मामला यह था कि पैगंबर मुहम्मद पर उनकी टिप्पणी से धार्मिक तनाव पैदा होगा और इस कारण दो धर्मों के बीच घृणा और दुर्भावना पैदा होगी। 21 फरवरी 2019 को, लगभग 19 दिनों तक कैद में रहने के बाद, रंगास्वामी को जमानत मिली।

रंगास्वामी के वकील ने अदालत में कहा कि भाजपा कार्यकर्ता ने पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ कोई अपमानजनक या निंदनीय टिप्पणी नहीं की है। बल्कि उनका फेसबुक पोस्ट इतिहास पढ़ने, पैगंबर मुहम्मद और उनके परिवार की राय और समझ देने के बारे में था। उन्होंने तर्क दिया कि रंगास्वामी के ऐसा करने का अधिकार भारत के संविधान द्वारा दी गई स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति के तहत सुरक्षित है।

यह ऐतिहासिक निर्णय रंगास्वामी का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता प्रभाकरण के निम्न तर्कों पर कसा गया:

  • “धार्मिक विश्वास की बातों पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को हमेशा से चुनौती मिलती रही है। लेकिन ऐसे भी मौके आए हैं जब ‘दा विंची कोड’ पुस्तक में ईसा मसीह पर सवाल उठाया गया है। ठीक इसी तरह से रामायण में सीता के ऊपर भी सवालिया लेख लिखे गए हैं। धार्मिक मान्यताओं के खिलाफ लापरवाही भरा और अपमानजनक टिप्पणी करना गलत है लेकिन उससे संबंधित पूरे साहित्य / इतिहास को पढ़ने के बाद अपनी राय व्यक्त करना कहीं से भी गलत नहीं है।”
  • रंगास्वामी की ओर से पेश अधिवक्ता प्रभाकरण ने बहुत ही शानदार और धारदार ढंग अपने तर्क रखे। उन्होंने कोर्ट के सामने तर्क रखा कि अल्पसंख्यक समुदायों और उनसे संबंधित धर्मों (इस्लाम या ईसाई धर्म) की आलोचना पर सरकार हमेशा से कड़े रुख अपनाती रही है। जबकि हिंदू धर्म की आलोचना ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता’ के तहत स्वीकार्य मानी जाती रही है।
  • अधिवक्ता प्रभाकरण ने स्पष्ट किया कि उनका तर्क हिंदू धर्म की आलोचना करने वालों को दंडित करने के लिए नहीं है। बल्कि भारत के संविधान में निहित अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता कानून समानता के सिद्धांत पर होनी चाहिए। इसलिए किसी एक धर्म की आलोचना ‘ईशनिंदा’ नहीं होनी चाहिए, ठीक वैसे ही किसी दूसरे धर्म की आलोचना को भी क्रांतिकारी नहीं माना जाना चाहिए।

कोर्ट ने वरिष्ठ वकील की दलीलों से सहमति जताई और रंगास्वामी को जमानत दे दी। अदालत ने कहा कि रंगास्वामी ने प्रासंगिक इतिहास पढ़ने के बाद ही पैगंबर मुहम्मद और उनके परिवार पर अपने विचार व्यक्त किए थे। न की उनके ख़िलाफ़ कोई अपमानजनक टिप्पणी की थी।

मद्रास हाई कोर्ट का यह निर्णय आज शायद कानून के नज़रिए से छोटा प्रतीत हो लेकिन ‘ईशनिंदा’ मामले या ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में समानता’ के नज़रिए से यह शायद भविष्य के लिए एक बड़ा कदम साबित हो सकता है।


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

3 बॉर्डर पर बैरीकेडिंग तोड़ ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों की भीड़ दिल्ली में घुसी, मुकरबा चौक पर तनावपूर्ण माहौल

वीडियो में देख सकते हैं कि भारी तादाद में 'किसान' बैरीकेडिंग के पार खड़े होते हैं, फिर धीरे-धीरे उस पर चढ़ना शुरू कर देते हैं और...

झील जम गई… लेकिन तिरंगे के साथ कदम मिलते रहे: देखिए गणतंत्र दिवस 2021 की मजेदार तस्वीरें

यहाँ हम आपको गणतंत्र दिवस 2021 की देश भर की तस्वीरें दिखा रहे हैं, अलग-अलग कोने से। देश भर में कई जगहों पर तिरंगा फहराया गया।

जिन्होंने बाबरी मस्जिद के नीचे खोजा राम मंदिर, वैज्ञानिक तरीके से ढूँढा पांडवों का इंद्रप्रस्थ… मिला पद्म विभूषण सम्मान

जिन 7 लोगों को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिए चुना गया है, उनमें प्रोफेसर ब्रज बासी लाल (BB Lal) का नाम भी शामिल है।

आधी मूँछ में खेलने उतरेंगे अश्विन, पुजारा ने जो ऑस्ट्रेलिया में नहीं किया… अगर इंग्लैंड के खिलाफ कर देंगे तो!

पुजारा को अश्विन ने इंग्लैंड के खिलाफ किसी भी स्पिनर पर क्रिज से निकल आगे बढ़ कर उड़ा कर शॉट खेलने का चैलेंज दिया है। चैलेंज खुद भी लिया है।

TikTok और UC Browser समेत 59 चाइनीज एप्स पर परमानेंट बैन, सरकार के सवालों का नहीं दे पाए जवाब!

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MeitY) मंत्रालय ने TikTok व 58 अन्य चीनी एप्स को हमेशा के लिए प्रतिबंधित किया।
00:25:31

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

RSS को ‘निकरवाला’ बोला राहुल गाँधी ने, ‘लिकरवाला’ सुन जनता हुई ‘मस्त’: इस लेटेस्ट Video में है बहुत मजा

राहुल गाँधी जब बोलते हैं, बहुत मजा देते हैं। उनके मजे देने वाले वीडियो आप खोजेंगे 1 मिलेंगे 11... अब एक और वीडियो जुड़ गया है, एकदम लेटेस्ट।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।
- विज्ञापन -

 

3 बॉर्डर पर बैरीकेडिंग तोड़ ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों की भीड़ दिल्ली में घुसी, मुकरबा चौक पर तनावपूर्ण माहौल

वीडियो में देख सकते हैं कि भारी तादाद में 'किसान' बैरीकेडिंग के पार खड़े होते हैं, फिर धीरे-धीरे उस पर चढ़ना शुरू कर देते हैं और...

झील जम गई… लेकिन तिरंगे के साथ कदम मिलते रहे: देखिए गणतंत्र दिवस 2021 की मजेदार तस्वीरें

यहाँ हम आपको गणतंत्र दिवस 2021 की देश भर की तस्वीरें दिखा रहे हैं, अलग-अलग कोने से। देश भर में कई जगहों पर तिरंगा फहराया गया।

जिन्होंने बाबरी मस्जिद के नीचे खोजा राम मंदिर, वैज्ञानिक तरीके से ढूँढा पांडवों का इंद्रप्रस्थ… मिला पद्म विभूषण सम्मान

जिन 7 लोगों को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिए चुना गया है, उनमें प्रोफेसर ब्रज बासी लाल (BB Lal) का नाम भी शामिल है।

आधी मूँछ में खेलने उतरेंगे अश्विन, पुजारा ने जो ऑस्ट्रेलिया में नहीं किया… अगर इंग्लैंड के खिलाफ कर देंगे तो!

पुजारा को अश्विन ने इंग्लैंड के खिलाफ किसी भी स्पिनर पर क्रिज से निकल आगे बढ़ कर उड़ा कर शॉट खेलने का चैलेंज दिया है। चैलेंज खुद भी लिया है।

TikTok और UC Browser समेत 59 चाइनीज एप्स पर परमानेंट बैन, सरकार के सवालों का नहीं दे पाए जवाब!

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MeitY) मंत्रालय ने TikTok व 58 अन्य चीनी एप्स को हमेशा के लिए प्रतिबंधित किया।

‘गजनवी फोर्स’ से जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर हमले की फिराक में पाकिस्तान, सैन्य प्रतिष्ठान भी आतंकी निशाने पर

जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर आतंकी हमलों की फिराक में हैं। सैन्य प्रतिष्ठान भी निशाने पर हैं।
00:25:31

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

‘ऐसे बयान हमारी मातृभूमि के लिए खतरा’: आर्मी वेटरन बोले- माफी माँगे राहुल गाँधी

आर्मी वेटरंस ने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के उस बयान की निंदा की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘सेना की कोई आवश्यकता नहीं’ है।

10 को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 को पद्म श्री: पाने वालों में विदेशी राजनेता से लेकर धर्मगुरु तक

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

‘1 फरवरी को हम संसद तक पैदल मार्च निकालेंगे’: ट्रैक्टर रैली से पहले ‘किसान’ संगठनों का नया ऐलान

गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली की अनुमति मिलने के बाद अब 'किसान' संगठन बजट सत्र को बाधित करने की कोशिश में हैं। संसद मार्च का ऐलान किया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe