Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबालाकोट की बरसी पर कथित संघर्ष विराम उल्लंघन पर पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिक को...

बालाकोट की बरसी पर कथित संघर्ष विराम उल्लंघन पर पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिक को किया तलब

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने आरोप लगाते हुए कहा है कि मंगलवार (फरवरी 25, 2020) को ही POK स्थित नेजापीर इलाके में भारतीय सेना की ओर से किए गए संघर्ष विराम उल्लंघन के दौरान एक चालीस साल के व्यक्ति को गंभीर चोटें आई हैं।

दिल्ली में जारी हिंसा के बीच पाकिस्तान की ओर से सीजफायर उल्लंघन के संबंध में कुछ खबरें सामने आई हैं। इन खबरों में हैरानी की बात यह है कि सीजफॉयर उलंघन का आरोप भारत ने नहीं बल्कि पाकिस्तान ने भारत पर लगाया है। बुधवार को पाकिस्तान ने कश्मीर में एलओसी (LOC) पर भारतीय सैनिकों पर सीज़फायर (संघर्ष विराम) के उलंघन का आरोप लगाया है। इसके संबंध में पाकिस्तान ने एक वरिष्ठ भारतीय राजनयिक को तलब भी किया है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने आरोप लगाते हुए कहा है कि मंगलवार (फरवरी 25, 2020) को ही POK स्थित नेजापीर इलाके में भारतीय सेना की ओर से किए गए संघर्ष विराम उल्लंघन के दौरान एक चालीस साल के व्यक्ति को गंभीर चोटें आई हैं।

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा, “भारत द्वारा संघर्ष विराम उल्लंघन में वर्ष 2017 से ही
वृद्धि जारी है, इस दौरान भारतीय बलों ने 1,970 युद्धविराम उल्लंघन किए हैं।” उन्होंने कहा कि भारत द्वारा संघर्ष विराम का उल्लंघन क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा के लिए खतरा है और इससे रणनीतिक नुकसान हो सकती है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष अब तक भारत की ओर से 384 बार सीज फायर का उलंघन हो चुका है।

पाकिस्तानी विदेश कार्यालय ने भारतीय राजनयिक की पहचान नहीं बताई है। साथ ही पाकिस्तान ने भारतीय पक्ष से 2003 के युद्धविराम व्यवस्था का सम्मान करने के साथ ही संघर्ष विराम उल्लंघन की इन और अन्य घटनाओं की जाँच, भारतीय सेनाओं को भी युद्धविराम का सम्मान करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा और कार्य सीमा पर शांति बनाए रखने का भी आग्रह किया है।

गौरतलब है कि आज ही उस बालाकोट एयर स्ट्राइक की पहली बरसी है, जब भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुस कर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी कैंपों पर बमबारी कर उसे तबाह कर दिया था। फरवरी 14, 2019 को हुए जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत ने 26 फरवरी की देर रात इसका बदला लिया था और पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित जैश के आतंकी कैंप को नेस्तानबूद कर दिया था। भारतीय वायुसेना के इस एयर स्ट्राइक में जैश के करीब 250 से अधिक आतंकवादियों को मार गिराया था। विपक्षी दलों द्वारा बार-बार माँग करने पर भारत सरकार ने इसका वीडियो जारी कर सबूत भी दिखाए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -