Thursday, August 5, 2021
Homeबड़ी ख़बरप्रियंका गाँधी वाड्रा की राजनीति में एंट्री, कॉन्ग्रेस का मास्टर स्ट्रोक?

प्रियंका गाँधी वाड्रा की राजनीति में एंट्री, कॉन्ग्रेस का मास्टर स्ट्रोक?

अब तक सिर्फ चुनाव प्रचार का जिम्मा संभालने वाली प्रियंका गाँधी की राजनीति में औपचारिक एंट्री हो गई है। प्रियंका गाँधी को पूर्वी यूपी के लिए कॉन्ग्रेस जनरल सेक्रेटरी की जिम्मेदारी दी गई है।

लोकसभा चुनाव 2019 को ध्यान में रखते हुए कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी ने पार्टी के संगठन में फ़ेरबदल किया है। कॉन्ग्रेस पार्टी अध्यक्ष ने प्रेस रिलीज़ जारी करके संगठन में होने वाले बदलाव की जानकारी मीडिया को दी है।

[poll id=”8″]

राहुल गाँधी द्वारा जारी प्रेस रिलीज में प्रियंका गाँधी को पूर्वी यूपी के लिए कॉन्ग्रेस जनरल सेक्रेटरी की ज़िम्मेदारी दी गई है। अब तक सिर्फ चुनाव प्रचार का ज़िम्मा संभालने वाली प्रियंका गाँधी की राजनीति में औपचारिक एंट्री हो गई है। इसी प्रेस रिलीज़ में कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता वेणु गोपाल को ऑल इंडिया कॉन्ग्रेस कमिटी का जनरल सेक्रेटरी बनाया गया है। इसके साथ ही वेणु गोपाल को कर्नाटक की ज़िम्मेदारी भी दी गई है।

प्रियंका गाँधी कॉन्ग्रेस पार्टी में यह ज़िम्मेदारी फ़रवरी के पहले सप्ताह से संभालेंगी। इसके अलावा कॉन्ग्रेस पार्टी में ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी नई ज़िम्मेदारी दी गई है। मध्य प्रदेश विधान सभा चुनाव के बाद यह संभावना थी कि सिंधिया को पार्टी ने भले ही मुख्यमंत्री की गद्दी न दी हो, परंतु संगठन में बड़ी ज़िम्मेदारी देने की संभावना है। हालाँकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए जनरल सेक्रेटरी बनाकर एक तरह से पार्टी ने सिंधिया को लॉलीपॉप थमा दिया है।

प्रियंका के पति रॉबर्ट वाड्रा ने उनको कॉन्ग्रेस पार्टी की ओर से नई ज़िम्मेदारी मिलते ही फेसबुक पर बधाई दी।

कॉन्ग्रेस ने गुलाम नबी आजाद को हरियाणा का जनरल सेक्रेटरी नियुक्त किया है। इससे पहले
गुलाम नबी आजाद उत्तर प्रदेश जनरल सेक्रेटरी की भूमिका निभा रहे थे।

कॉन्ग्रेस पार्टी के संगठन में हुए इस बदलाव पर टिप्पणी करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, “बीजेपी में पार्टी ही परिवार है, जबकि कॉन्ग्रेस में परिवार ही पार्टी है। यूपी में तो गठबंधन से नकारे ही गए, बिहार में भी मनमुटाव चल रहा है।”


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस श्रीजेश ‘The Wall’ के दम पर हॉकी में मिला ब्रॉन्ज मेडल… शिवसैनिकों ने उन्हें पाकिस्तानी समझ धमकाया था

टीम इंडिया के खिलाड़ी श्रीजेश ने शिव सैनिकों को कहा, "यार अपने इंडिया के प्लेयर को तो पहचानते नहीं हो पाकिस्तानी प्लेयर्स को कैसे पहचानोगे।''

दाँत काट घायल किया… दर्द से कराहते रवि कुमार दहिया ने फिर भी फाइनल में बनाई जगह – देखें वीडियो

टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में रवि कुमार दहिया और रूस के जौर रिजवानोविच उगवे के बीच मुकाबला होगा। गोल्ड मेडल के लिए...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,075FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe