Friday, February 26, 2021
Home देश-समाज बुर्के ही बुर्के: किसान आंदोलन में बुर्के वाले भी आ गए हैं; सनद रहे...

बुर्के ही बुर्के: किसान आंदोलन में बुर्के वाले भी आ गए हैं; सनद रहे रतनलाल को बुर्केवालियों ने ही घसीट कर मारा था

शाहीन बाग में माहौल बनाने के बाद जो भयावह तस्वीर राष्ट्रीय राजधानी ने इन महिलाओं की देखी क्या उसके बाद भी उपस्थिति पर सवाल उठाना उचित नहीं है कि आखिर इनका किसान प्रदर्शन से क्या लेना-देना है? और ये सब वहाँ किसके समर्थन में मंच तक पहुँची हैं या इनके जरिए क्या संदेश देने की कोशिश हो रही है?

शाहीन बाग के प्रदर्शन से लेकर दिल्ली दंगों तक का सफर तय करने वाली ‘बुर्केधारियों’ ने अब किसान आंदोलन पर अपना डेरा जमाया है। सोशल मीडिया पर सामने आई तस्वीर में देख सकते हैं कि बुर्के पहनने वाली तमाम महिलाएँ मंच पर जाकर फोटो खिंचवा रही हैं। तस्वीर देखकर नहीं लगता कि इनका संबंध किसान परिवार से है या ये खुद किसानी करती हैं। तो ऐसे में सवाल है कि आखिर ये सब यहाँ कर क्या कर रही हैं?

किसान आंदोलन में बुर्काधारी महिलाएँ
किसान आंदोलन में बुर्काधारी महिलाएँ (तस्वीर साभार: सोशल मीडिया)

किसान प्रदर्शन की आड़ में पहले ही खालिस्तानी 26 जनवरी को अपना झंडा इंडिया गेट पर फहराने की माँग उठा रहे हैं। वामपंथी भी पहले ही किसान महिलाओं के हाथ में उमर खालिद और शरजील इमाम जैसे कट्टरपंथियों की तस्वीर थमा कर उनकी रिहाई के लिए आवाज उठा चुके हैं। ऐसे में अब इन बुर्के वाली महिलाओं के प्रदर्शन मंच तक पहुँचने के मायने कितने डरावने हो सकते हैं, इसका अंदाजा लगाने के लिए उत्तरपूर्वी दिल्ली में हुए दंगों को याद करने की जरूरत है।

कॉन्सटेबल रतनलाल की हत्या याद है आपको? चाँदबाग से एक वीडियो सामने आई थी। वीडियो में तमाम बुर्केधारी महिलाएँ पुलिस के पीछे जाकर उन पर हमला करते हुए दिखीं थी। इसी भीड़ ने वहाँ दंगों का आगाज किया था और आईपीएस अमित शर्मा को बुरी तरह जख्मी करके कॉन्सटेबल रतन लाल की जान ले ली थी। वीडियो में साफ दिखा था कि कैसे बुर्के में चेहरा छिपा कर इन महिलाओं ने पुलिस पर हमला किया था और बाद में अचानक गोलियाँ चलने की आवाज आई थी।

‘दिल्ली राइट्स 2020: द अनटोल्ड स्टोरी (Delhi Riots 2020: The Untold Story)’ की लेखिका मोनिका अरोड़ा ने भी अपनी किताब में इन बुर्केधारी महिलाओं की पोल पट्टी खोली थी। उन्होंने बताया था कि उस दिन हिंसा से पहले महिलाओं ने बुर्के के भीतर चाकू और तलवार तक छिपा रखे थे और जब रोड जाम खुलवाने डीसीपी अमित शर्मा अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ गए तो प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने अपने बुर्के में छिपाए पत्थर, चाकू और तलवार से पुलिस अधिकारियों पर हमला कर दिया।

घटनाओं से स्पष्ट है कि बुर्केधारी महिलाओं का ‘किसी’ प्रदर्शन तक पहुँचना कितना खतरनाक हो सकता है। वो भी तब जब न इनके चेहरों की पहचान हो सकती है और न इनके मनसूबों की। शाहीन बाग में माहौल बनाने के बाद जो भयावह तस्वीर राष्ट्रीय राजधानी ने इन महिलाओं की देखी क्या उसके बाद भी उपस्थिति पर सवाल उठाना उचित नहीं है कि आखिर इनका किसान प्रदर्शन से क्या लेना-देना है? और ये सब वहाँ किसके समर्थन में मंच तक पहुँची हैं या इनके जरिए क्या संदेश देने की कोशिश हो रही है?

एक ओर किसान यूनियन के नेता हैं कि वो न केंद्र सरकार से बातचीत करना चाहते हैं और न ही सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश हैं। उनकी मंशा वैसे ही तमाम दिल्लीवासियों के लिए चिंता का विषय है और ऐसे समय में इन तस्वीरों का सामने आना…! लोकतांत्रिक अधिकारों के नाम पर इनका कहीं भी एकत्रित होते जाना इस बात की याद नहीं कराता कि ऐसी तस्वीरें शाहीन बाग प्रदर्शन में भी देखी जा चुकी हैं बल्कि उस दृश्य को ताजा करता है जब शाहीन बाग के विकराल रूप के कारण उत्तर पूर्वी दिल्ली के कम से कम 50 परिवारों ने अपने सपूतों को गँवाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

‘लियाकत और रियासत के रिश्तेदार अब भी देते हैं जान से मारने की धमकी’: दिल्ली दंगा में भारी तबाही झेलने वाले ने सुनाया अपना...

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि चाँदबाग में स्थित दंगा का प्रमुख केंद्र ताहिर हुसैन के घर को सील कर दिया गया था, लेकिन 5-6 महीने पहले ही उसका सील खोला जा चुका है।

3 महीनों के भीतर लागू होगी सोशल, डिजिटल मीडिया और OTT की नियमावली: मोदी सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स

आपत्तिजनक विषयवस्तु की शिकायत मिलने पर न्यायालय या सरकार जानकारी माँगती है तो वह भी अनिवार्य रूप से प्रदान करनी होगी। मिलने वाली शिकायत को 24 घंटे के भीतर दर्ज करना होगा और 15 दिन के अंदर निराकरण करना होगा।

भगोड़े नीरव मोदी भारत लाया जाएगा: लंदन कोर्ट ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी, जताया भारतीय न्यायपालिका पर विश्वास

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने नीरव की मानसिक सेहत को लेकर लगाई गई याचिका को ठुकरा दिया। साथ ही ये मानने से इंकार किया कि नीरव मोदी की मानसिक स्थिति और स्वास्थ्य प्रत्यर्पण के लिए फिट नहीं है।

LoC पर युद्धविराम समझौते के लिए भारत-पाक तैयार, दोनों देशों ने जारी किया संयुक्त बयान

दोनों देशों ने तय किया कि आज, यानी 24-45 फरवरी की रात से ही उन सभी पुराने समझौतों को फिर से अमल में लाया जाएगा, जो समय-समय पर दोनों देशों के बीच हुए हैं।

यहाँ के CM कॉन्ग्रेस आलाकमान के चप्पल उठा कर चलते थे.. पूरे भारत में लोग उन्हें नकार रहे हैं: पुडुचेरी में PM मोदी

PM मोदी ने कहा कि पहले एक महिला जब मुख्यमंत्री के बारे में शिकायत कर रही थी, पूरी दुनिया ने महिला की आवाज में उसका दर्द सुना लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री ने सच बताने की बजाए अपने ही नेता को गलत अनुवाद बताया।

प्रचलित ख़बरें

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।

‘लोकतंत्र सेनानी’ आज़म खान की पेंशन पर योगी सरकार ने लगाई रोक, 16 सालों से सरकारी पैसों पर कर रहे थे मौज

2005 में उत्तर प्रदेश की मुलायम सिंह यादव की सपा सरकार ने आजम खान को 'लोकतंत्र सेनानी' घोषित करते हुए उनके लिए पेंशन की व्यवस्था की थी।

मस्जिदों में लाउडस्पीकर हटाने के लिए बजरंग दल ने शुरू किया राष्ट्रव्यापी कैंपेन: 1 लाख हस्ताक्षरों की दरकार

ये कैंपेन 22 फरवरी 2021 से शुरू किया गया है। अभियान के तहत संगठन का मकसद एक लाख लोगों का समर्थन पाना है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,848FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe