Tuesday, September 21, 2021
Homeविविध विषयअन्यCJI यौन शोषण मामला: SC के वकीलों ने की निष्पक्ष जाँच की माँग, सभी...

CJI यौन शोषण मामला: SC के वकीलों ने की निष्पक्ष जाँच की माँग, सभी 27 जज मुख्य न्यायाधीश के साथ खड़े

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने इस बीच न्यायाधीश एस ए बोबडे को इस मामले में अगला कदम लेने के लिए कहा है।

बीते शनिवार (अप्रैल 20, 2019) को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के ख़िलाफ़ न्यायालय की पूर्व कर्मचारी ने एक हलफनामा दर्ज कराया था। इसमें CJI रंजन गोगोई पर यौन शोषण का आरोप लगाया गया था। मामले के मद्देनजर रंजन गोगोई ने शनिवार को एक बैठक की थी। जिसमें उन्होंने अपने ऊपर लगे हुए इल्जामों को खारिज करते हुए न्यायपालिका को खतरे में बताया था।

अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की दो शीर्ष संस्थाओं ने रंजन गोगोई द्वारा खुद के ख़िलाफ़ लगे आरोपों से निपटने के तरीके को अनुचित ठहराया है। संगठन ने इसे “प्रक्रियात्मक असंगतता (procedural impropriety)” और प्रक्रिया का ‘उल्लंघन’ करार दिया है। सर्वोच्च न्यायालय बार एसोसिएशन और सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड एसोसिएशन ने पीठ से चीफ जस्टिस पर लगे आरोपों की निष्पक्ष जाँच के लिए आवश्यक कदम उठाने का आग्रह किया है।

एससीबीए (सर्वोच्च न्यायालय बार एसोसिएशन) ने अपनी कार्यकारी समिति की इमरजेंसी बैठक के बाद मामले की जाँच को निष्पक्षता के साथ शुरू करने के लिए फुल कोर्ट से इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट, सोशल मीडिया और अन्य स्रोतों पर आरोपों के संबंध में उपलब्ध सभी सामग्रियों और तथ्यों को अगली बैठक में सुनवाई के लिए एक साथ देखने का आग्रह किया।

दैनिक जागरण में छपी रिपोर्ट के मुताबिक एससीबीए के सचिव विक्रांत यादव ने बताया कि कार्यकारी समिति का मानना है कि सुप्रीम कोर्ट की पूर्व कर्मचारी द्वारा सीजेआई पर लगाए गए आरोपों की सुनवाई के लिए 20 अप्रैल को अपनाई गई प्रक्रिया, कानून द्वारा स्थापित प्रक्रिया के साथ ही साथ स्वाभाविक न्याय के सिद्धांतों के खिलाफ भी है।

वहीं एससीएओआरए (सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड एसोसिएशन) ने सोमवार(अप्रैल 22, 2019) को पारित प्रस्ताव में कहा कि सुप्रीम कोर्ट की पूर्व कर्मचारी द्वारा लगाए गए आरोपों पर स्थापित प्रक्रिया के तहत सुनवाई होनी चाहिए और प्रत्येक मामले में समान रूप से कानून को लागू किया जाना चाहिए।

इसके साथ ही एसोसिएशन ने आरोपों की निष्पक्ष जाँच के लिए फुल कोर्ट की अध्यक्षता में कमिटी गठन करने की माँग की है। वहीं दूसरी ओर न्यायालय के कर्मचारी कल्याण संगठन ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई का समर्थन किया है।

गौरतलब है कि इन दो शीर्ष संस्थाओं के अलावा मेधा पाटकर, अरुंधति रॉय, अरुणा रॉय सहित लगभग 33 हस्तियों ने एक बयान में भारत के मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ आरोपों की जाँच के लिए एक उच्च स्तरीय स्वतंत्र समिति द्वारा एक स्वतंत्र जाँच की माँग की है।

वकीलों की माँग से उलट सुप्रीम कोर्ट के सभी 27 जज मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई पर लगे यौन शोषण के आरोप मामले में उनके साथ हैं। सुबह की चाय (जो सुप्रीम कोर्ट में जजों की हर दिन की अनौपचारिक मीटिंग होती है) पर सभी 27 जज मुख्य न्यायाधीश के पक्ष में खड़े दिखे। यह मीटिंग आज 15 मिनट देर तक चली और 10:30 पर शुरू होने वाली हियरिंग भी इसी वजह से 10:45 पर शुरू हुई।

इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबिक रंजन गोगोई ने सोमवार को हुई एक बैठक के बाद न्यायाधीश एस ए बोबडे को इस मामले में अगला कदम लेने के लिए कहा है। बता दें कि चीफ जस्टिस पर लगे इस आरोप के बाद अन्य जजों ने अपने आवासीय दफ्तरों में पुरुष कर्मचारियों की तैनाती की माँग की है। गौरतलब है कि सोमवार को हुई जजों से मुलाकात में उन्हें अपनी पीड़ा से अवगत कराया था। जिसके बाद अन्य जजों ने उनके साथ मज़बूती से खड़े रहने पर सहमति जताई थी।

सोमवार को यह बैठक लगभग 20 मिनट तक चली। रंजन गोगोई की मानें तो इस दौरान कई जजों ने उनके आवासीय दफ्तरों में सिर्फ पुरूष कर्मियों की तैनाती का आग्रह किया, जिससे ऐसी स्थिति से बचा जा सके। इस दौरान चीफ़ जस्टिस ने यह भी कहा कि पुरुष कर्मियों की माँग पूरी करना मुश्किल है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट में 60 फीसदी महिला स्टाफ हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

आज पाकिस्तान के लिए बैटिंग, कभी क्रिकेट कैंप में मौलवी से नमाज: वसीम जाफर पर ‘हनुमान की जय’ हटाने का भी आरोप

पाकिस्तान के साथ सहानुभूति रखने के कारण नेटिजन्स के निशाने पर आए वसीम जाफर पर मुस्लिम क्रिकेटरों को तरजीह देने के भी आरोप लग चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,586FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe