Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज'बजरंग दल' के दिवंगत कार्यकर्ता हर्ष का पोस्टर फाड़ने से रोका तो कर दिया...

‘बजरंग दल’ के दिवंगत कार्यकर्ता हर्ष का पोस्टर फाड़ने से रोका तो कर दिया हमला: कर्नाटक में तनवीर, अजहर और फराज गिरफ्तार, की थी पत्थरबाजी भी

प्रकाश ने बदमाशों को हर्ष के पोस्टर और बैनर फाड़ने से रोकने की कोशिश की, जिसके बाद तीन हमलावरों ने उनके सिर पर हमला किया, जिससे उन्हें गंभीर चोटें आईं।

कर्नाटक पुलिस ने बुधवार (26 अक्टूबर, 2022) को राज्य के शिवमोगा जिले में प्रकाश नाम के एक हिंदू व्यक्ति पर हमला करने के आरोप में तनवीर उर्फ ​​मार्केट फौजान, अजहर उर्फ ​​अज्जू और फराज को गिरफ्तार किया है। बता दें कि एक दिन पहले लगभग 9 बदमाश तीन बाइक पर पहुँचे, हिंदू विरोधी, RSS विरोधी नारे लगाए और पीड़ित पर हमला किया। झड़प में प्रकाश गंभीर रूप से घायल हो गए और उन्हें इलाज के लिए मैकगैन अस्पताल ले जाया गया।

शिवमोगा के एसपी जीके मिथुन कुमार ने कार्रवाई की पुष्टि करते हुए कहा कि गिरफ्तार किए गए तीन आरोपितों ने दो अलग-अलग घटनाओं में दो लोगों पर हमला किया था। उन्होंने कहा, “उनका मकसद प्रतिशोध लेना था।” आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें शिवमोगा जिले के डोड्डापेट पुलिस स्टेशन भेज दिया गया है।

शिवमोगा के एसपी ने कहा, “आरोपित ने 2 बाइक पर 2 और आरोपितों (अभी तक गिरफ्तार नहीं) के साथ, सीगेहट्टी में रात करीब 11 बजे एक युवक प्रवीण के खिलाफ टिप्पणी की। बाद में, उन्होंने चौथे और पाँचवें आरोपित को कहीं छोड़ दिया। इसके बाद वे भरमप्पा नगर रोड गए और पथराव किया और प्रकाश नाम के एक अन्य व्यक्ति पर कमेंट किए।”

पुलिस के अनुसार, ”दो हिंदू पीड़ितों, प्रवीण और प्रकाश ने कुछ दिन पहले मार्केट फौजान के खिलाफ कमेंट किया था और जवाबी कार्रवाई में तीनों आरोपियों ने उन पर बेरहमी से हमला किया। जैसा कि पहले के रिपोर्ट में बताया गया था, “नौ बदमाश तीन बाइक पर पहुँचे थे, हिंदू विरोधी और आरएसएस विरोधी नारे लगाए और शिवमोगा के भ्रामप्पा लेआउट में रात करीब 11 बजे प्रकाश नाम के पीड़ित पर हमला किया।”

उन्होंने बजरंग दल के कार्यकर्ता हर्ष के पोस्टर भी फाड़ दिए, जिनकी इस साल फरवरी में इस्लामवादियों ने हत्या कर दी थी। शहर में 24 अक्टूबर को आयोजित एक रैली के लिए उनके पोस्टर शहर में लगाए गए थे।

रिपोर्टों में उल्लेख किया गया है कि प्रकाश ने बदमाशों को हर्ष के पोस्टर और बैनर फाड़ने से रोकने की कोशिश की, जिसके बाद तीन हमलावरों ने उनके सिर पर हमला किया, जिससे उन्हें गंभीर चोटें आईं। तीनों हमलावरों ने हिंदू समुदाय के खिलाफ नारेबाजी भी की और पीड़ित पर पथराव भी किया। घटना की पुष्टि शिवमोगा एसपी ने भी की है, जिन्होंने आरोपित की पहचान करने और उसे पकड़ने के लिए सीसीटीवी फुटेज की जाँच की है।

इस बीच, प्रकाश नाम के पीड़ित ने कहा कि वह हमलावरों की पहचान नहीं कर सका क्योंकि उन्होंने हमला करते समय मास्क पहन रखा था। उन्होंने यह भी कहा कि हमले के बाद बदमाशों ने आरएसएस विरोधी नारे लगाए। हालाँकि, उन्होंने 26 अक्टूबर को कहा कि वह किसी भी संगठन से जुड़े नहीं है और अचानक आरोपितों ने उन पर हमला कर दिया।

प्रकाश ने 26 अक्टूबर को अस्पताल में कहा, “3 मुस्लिम लड़के आए और मुझ पर पत्थरों और अन्य चीजों से हमला किया और मुझे अन्य बातों के अलावा ‘आरएसएस का गुंडा’ कहा। मैं किसी तरह से वहाँ से भागने में सफल रहा। मैं किसी भी संगठन से संबंधित नहीं हूँ या न ही उनके साथ मेरा कोई पिछला मुद्दा जुड़ा है। 3 लोग अचानक आए और मुझ पर हमला कर दिया।” पुलिस के आला अधिकारी मामले की आगे की जाँच कर रहे हैं। जिला सरकार ने एहतियात के तौर पर सीगेहट्टी, भरमप्पा लेआउट और आसपास के इलाकों में भी सुरक्षा बढ़ा दी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -