Saturday, May 15, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया बाइक, सिगरेट, हेयर जेल, डियोडरेंट, जूते... आतंकी ज़ाकिर मूसा के शौक़ पर मर-मिटा मेनस्ट्रीम...

बाइक, सिगरेट, हेयर जेल, डियोडरेंट, जूते… आतंकी ज़ाकिर मूसा के शौक़ पर मर-मिटा मेनस्ट्रीम मीडिया

"आईफोन, आईपॉड और 3 डेबिट कार्ड... स्पोर्ट्स बाइक, सिगरेट, हेयर जेल, महँगे डियोडरेंट, नए कपड़े, जूतों से उसे प्यार था। मूसा ने अपने विलासिता के जीवन को त्यागकर आतंकवादी बनने का फ़ैसला लिया।"

खूंखार आतंकवादी ज़ाकिर मूसा के अपराधों पर पर्दा डालने की क़वायद में मेनस्ट्रीम मीडिया भी पीछे नहीं है। मूसा जो हिज़्बुल का पूर्व कमांडर था और फ़िलहाल अल-क़ायदा से जुड़े आतंकी संगठन अंसार ग़ज़ावत-उल-हिंद का सरगना था, उसे सुरक्षा बलों ने 23 मई को मार गिराया था।

लेकिन मेनस्ट्रीम मीडिया और कुछ तथाकथित-धर्मनिरपेक्ष-उदारवादी मारे गए इन आतंकियों की मौत का शोक मनाने में कभी विफल नहीं होते और वो अक्सर कुख़्यात आतंकियों के अपराधों पर पर्दा डालने पर उतारू हो जाते हैं। इतना ही नहीं मेनस्ट्रीम मीडिया ऐसे आतंकियों को ‘नायक’ या ‘शहीद’ का दर्जा देने से भी नहीं चूकती।

न्यूज़ 18 ने मारे गए आतंकवादी मूसा पर एक ख़बर प्रकाशित की है। इस ख़बर में मूसा के बारे में ऐसी-ऐसी सांसारिक जानकारी शेयर की गई हैं, जैसे कि वो एक रॉकस्टार या फ़िल्म अभिनेता हो। न्यूज़ 18 की ख़बर में इस बात को उजागर करने का प्रयास किया गया है कि 2013 में, पेशे से इंजीनियर मूसा के पिता अब्दुल रशीद भट को आईफोन, आईपॉड और तीन डेबिट कार्ड वाला एक पैकेट कैसे मिला था। इस ख़बर में मूसा के दुखी पिता के शब्दों को अहमियत देते हुए बताया गया कि मूसा ने अपने विलासिता के जीवन को त्यागकर आतंकवादी बनने का फ़ैसला लिया था।

ख़बर में आतंकवादी मूसा के दोस्तों के हवाले से लिखा गया है कि मूसा को हेयर जेल, महँगे डियोडरेंट, नए कपड़े और जूते पसंद थे।

न्यूज़ 18 की ख़बर में उस मुख्य वजह को भी जानने का प्रयास किया गया, जिसकी वजह से तथाकथित “युवा लड़के जो स्पोर्ट्स बाइक और सिगरेट से प्यार करते थे” वो आतंकवादी संगठनों में क्यों शामिल हो जाते हैं? इस ख़बर में यह ‘ख़ुलासा’ किया गया कि मूसा के आतंकवादी बनने के पीछे एक घटना शामिल है, जब उसे एक पुलिसकर्मी ने थप्पड़ मारा था और उस पर पथराव का झूठा आरोप लगाया गया था।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल है, जिसमें आतंकी ज़ाकिर मूसा के पिता एक भीड़ को संबोधित करते हुए कह रहे हैं कि सभी ‘मुज़ाहिद’ अल्लाह के लिए लड़ रहे हैं और उन्हें एकजुट होना चाहिए। मूसा ने इस तथाकथित ‘आज़ादी’ के लिए कभी संघर्ष नहीं किया, बल्कि उसने ख़लीफ़ा के लिए लड़ाई लड़ी। वो जिहाद का सिपाही था और उसका घोषित उद्देश्य ग़ज़वा-ए-हिंद था।

इससे पहले AltNews के संस्थापक प्रतीक सिन्हा ने आतंकवादी मूसा को ‘अलगाववादी’ कह कर उसके गुनाहों पर पर्दा डालने का भरसक प्रयास किया था।

इसके अलावा मेनस्ट्रीम मीडिया और कई पत्रकारों द्वारा बुरहान वानी और पुलवामा के हमलावरों के नरसंहारों पर भी पर्दा डाला गया था। कुख्यात आतंकियों और मानवता के दुश्मनों को स्टाइलिश, फैशनेबल युवा पुरुष और क्रांतिकारियों के रूप में चित्रित करने का प्रयास ठीक उसी तरह है जैसे पाकिस्तान द्वारा कश्मीर में अपने एजेंडे को सफल करने के लिए किया जाता है। कुख्यात आतंकियों की पसंद-नापसंद से भला जनता को क्या लेना-देना!

ज़ाकिर मूसा एक अमीर परिवार से था। वह पंजाब के एक कॉलेज में सिविल इंजीनियरिंग का छात्र था। इस तथ्य के बावजूद मूसा ने आतंकवादी बनने का विकल्प चुना। उसके आतंकवादी बनने के पीछे बेरोज़गारी और ग़रीबी को दोष नहीं दिया जा सकता। अगर फिर भी कोई उसके बारे में ऐसा सोचता है तो यह सिर्फ़ इस्लामी कट्टरता ही है।

पुलवामा का हमलावर हो या ज़ाकिर मूसा, इन सभी आतंकियों ने अपने मक़सद को स्पष्ट किया था कि वो इस्लामिक ख़िलाफ़त चाहते थे, लेकिन वो कश्मीर को अलग नहीं करना चाहते। जबकि पुलवामा के हमलावर ने कहा था कि वह गोमूत्र पीने वालों को मारना चाहता है। मूसा ने कहा था कि वह भारत के हिन्दुओं से छुटकारा चाहता है। मीडिया और तथाकथित धर्मनिरपेक्ष लोग ऐसे नरसंहार करने वालों की विचारधाराओं के पीछे के कारणों को खोजने का प्रयास करते रहते हैं, इनका मक़सद केवल जनता को वास्तविक मुद्दों से भटकाना होता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

कभी एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में था BGML। लेकिन बीते दो दशक से बदहाली में था। आरएसएस की मदद से इसे नया जीवन दिया गया है।

₹995 में Sputnik V, पहली डोज रेड्डीज लैब वाले दीपक सपरा को: जानिए, भारत में कोरोना के कौन से 8 टीके

जानिए, भारत को किन 8 कोरोना वैक्सीन से उम्मीद है। वे अभी किस स्टेज में हैं और कहाँ बन रही हैं।

3500 गाँव-40000 हिंदू पीड़ित, तालाबों में डाले जहर, अब हो रही जबरन वसूली: बंगाल हिंसा पर VHP का चौंकाने वाला दावा

वीएचपी ने कहा है कि ज्यादातार पीड़ित SC/ST हैं। कई जगहों पर हिंदुओं से आधार, वोटर और राशन कार्ड समेत कई दस्तावेज छीन लिए गए हैं।

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने फ्री वैक्सीनेशन के लिए दिए ₹50 करोड़, पर महज तीन महीने में विज्ञापनों पर खर्च कर डाले ₹150 करोड़

दिल्ली में कोरोना के फ्री वैक्सीनेशन के लिए केजरीवाल सरकार ने दिए 50 करोड़ रुपए, पर प्रचार पर खर्च किए 150 करोड़ रुपए

महाराष्ट्र: 1814 अस्पतालों का ऑडिट, हर जगह ऑक्सीजन सेफ्टी भगवान भरोसे, ट्रांसफॉर्मर के पास स्टोर किए जा रहे सिलेंडर

नासिक के अस्पताल में हादसे के बाद महाराष्ट्र के अस्पतालों में ऑडिट के निर्देश तो दे दिए गए, लेकिन लगता नहीं कि इससे अस्पतालों ने कुछ सीखा है।

प्रचलित ख़बरें

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।

जेल के अंदर मुख्तार अंसारी के 2 गुर्गों मेराज और मुकीम की हत्या, UP पुलिस ने एनकाउंटर में मारा गैंगस्टर अंशू को भी

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जेल में कैदियों के बीच गैंगवार की खबर। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस फायरिंग में जेल के अंदर दो बदमाशों की...

1600 रॉकेट-600 टारगेट: हमास का युद्ध विराम प्रस्ताव ठुकरा बोला इजरायल- अब तक जो न किया वो करेंगे

संघर्ष शुरू होने के बाद से इजरायल पर 1600 से ज्यादा रॉकेट दागे जा चुके हैं। जवाब में गाजा में उसने करीब 600 ठिकानों को निशाना बनाया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,349FansLike
94,031FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe